सारणी

--Advertisement--

प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन किए जाने का विरोध, निरस्त करने की मांग

जनजातीय कार्य विभाग ने 6वीं व 9वीं में प्रवेश के लिए ऑनलाइन परीक्षा रखी है। विभाग बिना शैक्षणिक स्तर को जाने...

Dainik Bhaskar

Feb 28, 2018, 06:15 AM IST
जनजातीय कार्य विभाग ने 6वीं व 9वीं में प्रवेश के लिए ऑनलाइन परीक्षा रखी है। विभाग बिना शैक्षणिक स्तर को जाने आदिवासी बच्चों के लिए ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन कर सुविधाओं के नाम पर शोषण कर रहा है। इसे लेकर आदिवासियों ने विरोध किया है।

गांव में रहने वाले आदिवासी समुदाय के बच्चों का शैक्षणिक स्तर इतना मजबूत नहीं है। उन्हें कंप्यूटर का कोई ज्ञान नहीं है। सही मायने में उनके घर पर मोबाइल तक नहीं है तो ऐसे में ऑनलाइन परीक्षा देना मतलब कंप्यूटर देखकर आना है। विभाग ने परीक्षा केंद्र गृह जिला न देकर दूसरे जिले में आवंटित कर दिया है। ऐसे में गरीब आदिवासी बच्चों के पालक दूसरे जिले में जाकर पेपर दिलाने में सक्षम नहीं हैं। इससे आदिवासियों में आक्रोश है। आदिवासी समाज संगठन ने जनपद सीईओ दानिश अहमद अंसारी को जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर ऑनलाइन परीक्षा निरस्त कर इसकी जगह लिखित परीक्षा का आयोजन करने की मांग रखी। फिर कंप्यूटर दूर की बात है। अगर ऑनलाइन परीक्षा लेना जरूरी ही है तो स्कूलों में कंप्यूटर उपलब्ध कराकर विद्यार्थियों को इसमें पारंगत बनाया जाना चाहिए। जनपद सदस्य शिवदीन, सरपंच गणेश उइके, संतोष उइके, देवकराम काकोडिया, दिलीप उइके, अबिश उइके, रामप्रसाद आदि मौजूद थे।

X
Click to listen..