सारणी

--Advertisement--

वैदिक यज्ञ करने से सुखमय होता है जीवन: निरंजन

शहर की ओल्ड एफ में 10 से 13 फरवरी तक चले वैदिक यज्ञ में इटारसी के जमानी गुरुकुल से आए आचार्य निरंजन ने कहा वेद के प्रकाश...

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2018, 06:40 AM IST
वैदिक यज्ञ करने से सुखमय होता है जीवन: निरंजन
शहर की ओल्ड एफ में 10 से 13 फरवरी तक चले वैदिक यज्ञ में इटारसी के जमानी गुरुकुल से आए आचार्य निरंजन ने कहा वेद के प्रकाश से ही अंधकार रूपी अज्ञान को मिटाया जा सकता है। घरों में वैदिक यज्ञ करने से मन शांत रहने के साथ ही जीवन में सुख-शांति का वातावरण बनता है। यहां 10 से 13 फरवरी तक सुबह - शाम हुए वैदिक यज्ञ में क्षेत्र से लोगों ने हवन में भाग लिया।

सारनी में बीते 15 साल से महर्षि दयानंद सरस्वती के बोध्य उत्सव के अवसर पर वैदिक मंत्रों से हवन-पूजन हो रहा है। महाशिवरात्रि के दिन पूर्ण आहुति के साथ इसका समापन हुआ। यज्ञ में वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ वेदी में हवन डाला जाता है। आचार्य ने बताया हवन सामग्री के जलने से निकलने वाले धुंए से वायुमंडल शुद्ध होने के साथ ही बरसात अधिक होती है। आचार्य ने प्रवचन में कहा वस्तुस्थिति यह है पराधीन आर्यावर्त भारत में यह कहने का साहस संभवतः: सर्वप्रथम स्वामी दयानंद सरस्वती ने ही किया था। आर्यावर्त भारत आर्यावर्त भारतीयों का है।

वेद के प्रकाश से ही हटेगा अज्ञान रूपी अंधकार, ओल्ड एफ कॉलोनी में 4 दिनों तक चला अनुष्ठान और प्रवचन

सारनी। ओल्ड एफ कॉलोनी में हवन करते लोग।

जीवन के कल्याण के मुद्दों पर डाला प्रकाश

पति की मृत्यु के बाद प|ी को अपने पति की चिता के साथ जीवित ही प्राण त्यागने की अमानवीय कुप्रथा का पुरजोर विरोध और शास्त्रज्ञान अनुसार जीवन के प्रथम पच्चीस वर्ष अविवाहित रहकर ब्रह्मचर्य पालन करना, समाज में चल रहे बालविवाह प्रथा का विरोद्ध करना और नारी जाति को समृद्ध समाज का आधार मानना। पति की मृत्यु के बाद स्त्री की स्थिति बड़ी दयनीय हो जाती थी, उन्हें प्राथमिक सामान्य मानवीय अधिकारों से वंचित न किया जाए। कार्यक्रम में प्रेमलाल साहू, दिनेश चंद्रवंशी, सुनील बघेल, केवलसिंह चंद्रवंशी, सुरेश बिसोने, राधा बिसोने, पुष्पा बघेल, मदन कहार मौजूद रहे।

X
वैदिक यज्ञ करने से सुखमय होता है जीवन: निरंजन
Click to listen..