• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Sarni
  • बगडोना में 350 से ज्यादा ट्यूबवेल सूखे नगर पालिका के कुएं में भी पानी कम
--Advertisement--

बगडोना में 350 से ज्यादा ट्यूबवेल सूखे नगर पालिका के कुएं में भी पानी कम

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 04:05 AM IST

Sarni News - शहर में पानी संकट को लेकर अब नगर पालिका परेशान हो गई है। जलस्रोत सूख रहे हैं। अकेले बगडोना क्षेत्र में 350 से ज्यादा...

बगडोना में 350 से ज्यादा ट्यूबवेल सूखे नगर पालिका के कुएं में भी पानी कम
शहर में पानी संकट को लेकर अब नगर पालिका परेशान हो गई है। जलस्रोत सूख रहे हैं। अकेले बगडोना क्षेत्र में 350 से ज्यादा निजी ट्यूबवेल सूख गए हैं। इधर, सारनी के कई क्षेत्रों में पानी बेकार बह रहा है। सारनी के 13 वार्डों को छोड़कर शेष सारे शहर में भीषण पेयजल संकट की स्थिति है। अब नपा निजी जलस्रोतों की खोज कर रही है।

नगर पालिका के पास शहर को पानी देने के लिए मात्र एक कुआं है जो अब कम पानी देने लगा है। हालांकि शहर में ठेके के चार और नपा के छह टैंकरों से पानी बांटा जा रहा है। मगर, पूर्ति नहीं हो पा रही है। बगडोना की निजी कॉलोनी क्षेत्रों के 350 से ज्यादा ट्यूबवेल सूख गए हैं। यहां के लोग पानी खरीदकर पी रहे हैं। यहां रहने वाले विपिन चौहान और घनश्याम मालवीय समेत अन्य लोगों ने बताया कुछ क्षेत्र नपा के कार्याधिकार में आता है कुछ ग्राम पंचायत के। मगर, पूरा क्षेत्र पेयजल संकट से जूझ रहा है। पार्षद रामवती जाट ने बताया प्रत्येक घर को पानी पहुंचाने की जिम्मेदारी नगर पालिका की है। खड़े रहकर पानी बंटवाया जाता है। पाथाखेड़ा के कई क्षेत्रों के लोग नगर पालिका की पेयजल व्यवस्था पर ही निर्भर हैं।

सीएमओ बोले प्रबंधन सुधारने की जरूरत, हर वार्ड में बराबर मिले पानी

सोमवार को सीएमओ पवन कुमार राय ने जल परिवहन की समीक्षा की। पेयजल सप्लाई ठीक करने और प्रबंधन बेहतर करने के निर्देश दिए। एक ही वार्ड में एक साथ दो-दो टैंकर भेजे जाने की शिकायतें मिल रही थी। इसे लेकर सीएमओ ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा हर वार्ड में बराबर का पानी बांटा जाना चाहिए। इससे लोग परेशान नहीं होंगे। पार्षदों के आधार पर ही उन्होंने पानी बांटे जाने के निर्देश दिए।

सारनी। शॉपिंग सेंटर में पेयजल संकट के दौर में भी इस तरह साफ पानी नाली में बहाया जा रहा है।

एई ने शुरू की निजी टैंकरों की मॉनीटरिंग पानी की टेस्टिंग कराने के निर्देश

नपा गर्मी के दिनों में शहर में पानी बंटवाने के लिए 30 लाख रुपए खर्च कर रही है। निजी टैंकरों की शिकायतें मिलने के बाद एई प्रियांश दुबे ने मॉनीटरिंग शुरू कर दी। पानी और टैंकरों की टेस्टिंग कर इन्हें दुरुस्त किया। सुधार नहीं होने पर ठेकेदारों पर कार्रवाई करने की चेतावनी दी, इसके बाद सुधार हुआ। ठेकेदारों ने छतरपुर रोड का पाइंट बंद कर दूसरे स्थान से पानी लेना शुरू कर दिया। इससे गुणवत्ता में सुधार आया है।

पानी की बेहद कमी, व्यवस्था सुधारने की जरूरत


5 किसान बने जलदूत, चालीस हजार लोगों की बुझा रहे प्यास

भास्कर संवाददाता| मुलताई

गर्मी में जलसंकट बढ़ गया है। ऐसे में पांच किसान जलदूत बनकर 40 हजार लोगों की प्यास बुझा रहे हैं। जलसंकट के कारण पांच दिन में एक बार वाटर सप्लाई हो रही है। सांडिया के पांच किसानों ने अपने निजी ट्यूबवेल से 40 हजार जनसंख्या की प्यास बुझा रहे हैं। किसान अपने ट्यूबवेल से निशुल्क पानी उपलब्ध करवा रहे हैं। कम बारिश के कारण नपा के 30 में से 24 ट्यूबवेल फरवरी-मार्च में ही सूख गए थे। जिसके कारण तीन से चार दिन के अंतराल से वाटर सप्लाई की जा रही थी। ऐसे में नपा अध्यक्ष हेमंत शर्मा, पार्षद मनीष शर्मा और सहायक यंत्री आरसी गव्हाड़े ने सांडिया के किसानों से जलप्रदाय के लिए सहयोग मांगा। सहायक यंत्री आरसी गव्हाड़े ने बताया सांडिया के किसान भाऊराव ठाकरे, गुड्डू इवने, संजू अड़लक, गुलाब भुजाड़े और संजू चौरे प्रतिदिन 4 लाख लीटर पानी दे रहे हैं।

अब 105 की जगह आएगा 200 टैंकर पानी

वाटर सप्लाई के लिए नपा 9 किमी दूर ग्राम सांडिया के खेतों के कुओं से पाइप लाइन से शहर तक पानी ला रही है। इसके अलावा नपा 335 रुपए प्रति टैंकर की दर से पांच हजार लीटर क्षमता के 105 टैंकर पानी भी खरीद रही है। रोजाना 35,175 रुपए का पानी खरीदकर भी नपा शहर की प्यास नहीं बुझा पा रही थी। है। सहायक यंत्री ने बताया कि ठेकेदार से रोजाना दो सौ टैंकर पानी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।

इन समस्याओं के समाधान की दरकार





X
बगडोना में 350 से ज्यादा ट्यूबवेल सूखे नगर पालिका के कुएं में भी पानी कम
Astrology

Recommended

Click to listen..