• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sarni News
  • क्षेत्र की समस्या बताने ऑफिस पहुंचे ग्रामीण अधिकारियों के नहीं मिलने से हुए नाराज
--Advertisement--

क्षेत्र की समस्या बताने ऑफिस पहुंचे ग्रामीण अधिकारियों के नहीं मिलने से हुए नाराज

बिछुआ गांव में जमीन में दरारें और पानी की समस्या उठाने के बाद भी डब्ल्यूसीएल का कोई अधिकारी गांव में नहीं पहुंचा।...

Danik Bhaskar | Apr 10, 2018, 04:45 AM IST
बिछुआ गांव में जमीन में दरारें और पानी की समस्या उठाने के बाद भी डब्ल्यूसीएल का कोई अधिकारी गांव में नहीं पहुंचा। गुस्साए ग्रामीण सोमवार को शोभापुर खदान के सब एरिया मैनेजर से मुलाकात करने पहुंचे, लेकिन अधिकारी नहीं मिले। इससे नाराज होकर ग्रामीणों ने यहां प्रदर्शन किया और गुस्से में डिस्पैच में आवेदन देकर आ गए।

ग्राम पंचायत शोभापुर के ग्राम बिछुआ के ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। युवा नेता लक्ष्मण नर्रे ने बताया काफी दिनों से जमीन में दरारें पड़ने और पेयजल के लिए ग्रामीण परेशान हैं। इनकी सुध लेने कोई अधिकारी नहीं आया। ग्रामीण ज्ञान सिंह नर्रे, संतोष नर्रे, अशोक नर्रे, सूरज नर्रे, सूरज सलाम, संजय नर्रे आदि ग्रामीण जब सब एरिया मैनेजर शोभापुर से मिलने शोभापुर माइन पहुंचे तो मौके पर अधिकारी नहीं मिले। नाराज ग्रामीण डिस्पैच में आवेदन जमा कर घर लौट आए।

ग्राम बिछुआ में ग्रामीण सतपुड़ा जलाशय के निर्माण के समय 1964 में विस्थापित होकर आए थे। आज भी उनकी स्थिति काफी चिंताजनक है। वहीं पेयजल की समस्या से जूझ रहे ग्रामीण बताते हैं नीचे माइंस के कारण दुर्गंध युक्त पानी आता है। यह पीने योग्य नहीं है न ही किसी कार्य के लिए उपयोगी है। वहीं जमीन में दरारें पड़ने से कई मवेशी भी अपनी जान गंवा चुके हैं।

समाजसेवी सुनील सरयाम ने कहा पेयजल, पट्टे की मांग को लेकर शीघ्र ही कलेक्टर से मिलेंगे, निराकरण न होने पर मुख्यमंत्री से अपनी मांग रखेंगे। अगर उसके बाद भी विस्थापितों की मांग पूरी नहीं करते हैं तो आने वाले समय में चुनाव का बहिष्कार किया जाएगा।

पेयजल और पट्टे की मांग को लेकर जाएंगे कलेक्टर के पास

सारनी। शोभापुर माइन के सब एरिया मैनेजर कार्यालय के सामने प्रदर्शन करते ग्रामीण।