• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sarni News
  • अधिकारियों के लिए स्विमिंगपूल , कर्मचारियों की कॉलोनी के पुल में पनप रही गंदगी व मच्छर
--Advertisement--

अधिकारियों के लिए स्विमिंगपूल , कर्मचारियों की कॉलोनी के पुल में पनप रही गंदगी व मच्छर

वेलफेयर सेंटर में स्थित स्विमिंगपूल के बंद होने से युवाओं को परेशानी हो रही है। पावर जनरेटिंग कंपनी के वेलफेयर...

Danik Bhaskar | May 08, 2018, 04:55 AM IST
वेलफेयर सेंटर में स्थित स्विमिंगपूल के बंद होने से युवाओं को परेशानी हो रही है। पावर जनरेटिंग कंपनी के वेलफेयर क्लब में बना स्विमिंगपूल सर्वसुविधायुक्त है। बाबा मठारदेव मित्र मंडल के युवाओं ने नपा व पावर जनरेटिंग कंपनी से इस पुल को दोबारा शुरू करने की मांग की।

बाबा मठारदेव मित्र मंडल समिति सदस्य शशांक चतुर्वेदी, निक्की सरीन ने बताया लंबे समय से क्लब का स्विमिंगपूल बंद है। गंदा पानी भरे रहने के कारण मच्छर, मक्खी पनप रहे हैं। इससे पास ही में रहने वाले कॉलोनी वालों को बीमारी होने का खतरा है। अगर सफाई कर स्विमिंगपूल को चालू कर दिया जाए तो गंदगी से छुटकारा भी मिल जाएगा और क्षेत्र व कर्मचारियों के बच्चों को तैराकी सीखने का अवसर भी मिल जाएगा।

क्षेत्र के बच्चों ने ग्रीष्मकालीन के समय तैराकी सीखने इच्छा व्यक्त की है। समिति सदस्य ने बताया पावर जनरेटिंग कंपनी का क्लब कर्मचारियों एवं उनके बच्चों के लिए बनाया है। सफाई के अभाव में जर्जर अवस्था में पड़ा है। दूसरी तरफ एबी टाइप ऑफिसर क्लब का स्विमिंगपूल की देखरेख व मेंटेनेंस समय पर किए जाने से वहां आज भी अच्छा है। सरकारी आवासों की जनसंख्या देखी जाए तो एबी टाइप की जनसंख्या के मुकाबले सुपर ई, सुपर डी, ओल्ड ई, ओल्ड एफ, सुपर एफ की जनसंख्या ज्यादा है फिर भी वेलफेयर क्लब सारनी का स्विमिंगपूल जर्जर अवस्था में है।

प्रबंधन विवादों में इसलिए शुरू नहीं हो रहा

प्रतिवर्ष स्विमिंगपूल चालू करने की मांग की जाती है, परंतु इस ओर कोई अधिकारी ध्यान नहीं देता है और ना क्लब प्रबंधक। स्विमिंगपूल हमेशा ही विवादों में फंसा रहता है। समिति ने आरोप लगाते हुए बताया पावर जनरेटिंग कंपनी के क्लब की देखरेख व मेंटेनेंस का चार्ज लंबे समय से एक ही कर्मचारी के हाथ में देने के कारण यह भ्रष्टाचार हो रहा है। जिम की हालत भी जर्जर है। सब पुराना सामान रखा हुआ है। लाइट की व्यवस्था नहीं। कांच की व्यवस्था नहीं। पीने योग्य पानी की व्यवस्था नहीं है। जिम की फीस मनमाने ढंग से ली जाती है। फीस लेने की कोई रसीद भी नहीं दी जाती।