• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Sarni News
  • कोल हैंडलिंग प्लांट हुआ खाली, सतपुड़ा पावर प्लांट की दो इकाइयां हुईं बंद
--Advertisement--

कोल हैंडलिंग प्लांट हुआ खाली, सतपुड़ा पावर प्लांट की दो इकाइयां हुईं बंद

बिजली संकट बढ़ने के आसार, 1050 से घटकर 440 मेगावाट हुआ उत्पादन भास्कर संवाददाता | सारनी सतपुड़ा पावर प्लांट के स्टॉक...

Dainik Bhaskar

May 12, 2018, 04:55 AM IST
बिजली संकट बढ़ने के आसार, 1050 से घटकर 440 मेगावाट हुआ उत्पादन

भास्कर संवाददाता | सारनी

सतपुड़ा पावर प्लांट के स्टॉक का कोयला पूरी तरह से खाली हो गया है। ग्राउंड लेवल पर शून्य स्टॉक के कारण वैरी क्रिटिकल कोल पोजीशन निर्मित हो गई। आपातकाल में पावर प्लांट की 6 और 9 नंबर इकाइयों को बंद करना पड़ा। इकाइयों के बंकर में भरे 16 हजार मीट्रिक टन कोयले से बमुश्किल प्लांट चलाया जा रहा है। कोयला नहीं आया तो स्थिति और गड़बड़ा सकती है।

पावर प्लांट के कोल हैंडलिंग प्लांट से सारा कोयला खत्म हो गया है। इस कारण 200 मेगावाट क्षमता की 6 नंबर इकाई को गुरुवार देर रात बंद करना पड़ा। इसके बाद शुक्रवार सुबह 210 मेगावाट क्षमता वाली 9 नंबर इकाई को भी बंद कर दिया। पावर प्लांट की 8, 10 और 11 नंबर इकाइयों से उत्पादन लिया जा रहा है। क्रिटिकल कोल पोजीशन की मुख्य वजह रेलवे मार्ग से कोयला नहीं आना है। सारनी के हिस्से का कोयला खंडवा भेजा जा रहा है और स्थानीय खदानों से बेहद कम सप्लाई हो रही है। ऐसे में आने वाले सप्ताह भर स्थिति सुधरने की उम्मीद नहीं है।

ट्रेनों के ब्लाक में अटका कोयला, एक ही रैक पहुंची

गुरुवार को मरामझिरी, धराखोह के बीच मिलिट्री ट्रेन में आग लगने लगने के बाद 9 घंटे रेल यातायात ठप रहा। इस ब्लाक में आने वाले कोयले की रैक भी फंस गई। सुबह बमुश्किल एक रैक सारनी पहुंची, लेकिन इतना कोयला नाकाफी था। दूसरी रैक अभी भी रास्ते में अटकी है। इसके भी देर रात तक आने की उम्मीद है, लेकिन उम्मीदों से अब काम नहीं होने वाला। बगैर कोयले के प्लांट चलाना मुश्किल है।

खाली पड़ा सीएचपी


X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..