Hindi News »Madhya Pradesh »Sarni» पीएम आवास की जमीन का सीमांकन करने गए अमले को अतिक्रमणकारियों ने बेरंग लौटाया

पीएम आवास की जमीन का सीमांकन करने गए अमले को अतिक्रमणकारियों ने बेरंग लौटाया

शहर से सटे मटकाकोल गांव में प्रधानमंत्री हाउसिंग फाॅर आॅल की जमीन पर अवैध कब्जे के मामले में मंगलवार को विवाद की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 11, 2018, 05:00 AM IST

पीएम आवास की जमीन का सीमांकन करने गए अमले को अतिक्रमणकारियों ने बेरंग लौटाया
शहर से सटे मटकाकोल गांव में प्रधानमंत्री हाउसिंग फाॅर आॅल की जमीन पर अवैध कब्जे के मामले में मंगलवार को विवाद की स्थिति बन गई। अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंचे अमले और ग्रामीणों के बीच तीखी बहस हो गई। सीमांकन करने से भी ग्रामीणों ने रोक लिया। ऐसे में तहसीलदार, सीएमओ और आरआई, पटवारी की टीम को वापस लौटना पड़ा। हालांकि शासकीय जमीन पर पर बने इन 3 घर के 11 परिवारों पर अवैध कब्जे को लेकर तहसीलदार न्यायालय में केस दर्ज है।

प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए नगर पालिका ने राजस्व विभाग से मटकाकाेल में करीब 10 एकड़ यानी 4 हेक्टेयर जमीन की मांग की थी। राजस्व विभाग ने जमीन का सीमांकन कर इसे नपा को सौंप दिया था। यहां कुछ परिवार रह रहे थे, इन्हें हटाया जाना था। लेकिन वे यहां सतत रहने लगे और फसल भी बो दी। इसके बाद योजना का काम शुरू हुआ तो अतिक्रमणकारी ठेकेदार के काम में बाधा डालने लगे। परेशान भोपाल की निर्माण कंपनी ने नगर पालिका से शिकायत की। पटवारी ने अतिक्रमण प्रतिवेदन बनाकर तहसीलदार को दिया था। इसमें सालकराम यादव वगैरह के खिलाफ प्रकरण कायम किया। मंगलवार को तहसीलदार अजय पांडे, सीएमओ पवन राय और अन्य अधिकारियों की टीम समझाइश देने पहुंची तो उलटे ग्रामीण उनसे विवाद करने लगे। ग्रामीणों ने कहा कुछ भी हो जाए वे जमीन से नहीं हटेंगे। पचास साल से वे यहां रह रहे हैं। हालांकि तहसीलदार ने स्पष्ट कर दिया केस दायर किया जा चुका है, उन्हें हर हाल में हटना होगा। मामले में ठेकेदार ने सीएम शिवराज सिंह चौहान तक अतिक्रमण की शिकायत की। इसके बाद बैतूल कलेक्टर शशांक मिश्र ने इसे गंभीरता से लिया। मंगलवार को हुई कार्रवाई की रिपोर्ट कलेक्टर ने वाट्स एप पर देखी है। मामले में जल्द कार्रवाई हो सकती है।

सारनी। अतिक्रमण का सर्वे करने गए अधिकारियों को ग्रामीणों ने सीमांकन नहीं करने दिया।

मशीनों से होगा सीमांकन, बल के साथ होगी हटाने की कार्रवाई

बात बिगड़ने के बाद अधिकारी यहां से लौट गए। सामान्य तौर पर अतिक्रमण का सर्वे कर पंचनामा तैयार किया। सीएमओ पवन राय ने तहसीलदार से सीमांकन कर जमीन देने का आग्रह किया। तहसीलदार अजय शर्मा ने कहा मशीनों से सीमांकन कर दिया जाएगा। इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश पर पुलिस बल के साथ अतिक्रमण हटाया जाएगा। नपा के इससे पूर्व भी नगर पालिका की जमीन खाली कराने को लेकर तहसीलदार और एसडीएम से शिकायत कर चुकी थी। मगर, कार्रवाई नहीं हुई। अगले सप्ताह इस मामले में ठोस कार्रवाई की उम्मीद है।

3 पक्के कब्जे और 11 परिवार को हटना होगा, तभी होगा योजना पर काम

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मटकाकोल में 876 मकानों का काम किया जा रहा है। इसमें एक फेज का काम करीब पूरा होने को है। दूसरे फेज के काम के लिए जमीन की जरूरत है। कंपनी के पास मटेरियल रखने को जगह नहीं है। जब निर्माण कंपनी ने जमीन पर मटेरियल रखने की तैयारी की तो ग्रामीणों ने विरोध शुरू कर दिया। अब यहां से कब्जे हटे बिना काम नहीं हो सकता। जबकि योजना का काम समय सीमा में पूरा करना है। वर्ष 2019 के आखिरी तक इसे पूरा किया जाना है। यहां से 3 पक्के कब्जे टूटेंगे और 11 परिवारों हो हटाया जाएगा, तभी काम आगे बढ़ सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×