Hindi News »Madhya Pradesh »Sarni» पीआईसी से हटाए पार्षद ने किया हंगामा, बजट, लेखों में गड़बड़ी की जानकारी मांगने पर हटाने का आरोप

पीआईसी से हटाए पार्षद ने किया हंगामा, बजट, लेखों में गड़बड़ी की जानकारी मांगने पर हटाने का आरोप

नगर पालिका में प्रेसिडेंट इन कांउसिल से हटाए गए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के पार्षद संतोष देशमुख ने गुरुवार को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 27, 2018, 05:55 AM IST

पीआईसी से हटाए पार्षद ने किया हंगामा, बजट, लेखों में गड़बड़ी की जानकारी मांगने पर हटाने का आरोप
नगर पालिका में प्रेसिडेंट इन कांउसिल से हटाए गए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के पार्षद संतोष देशमुख ने गुरुवार को पीआईसी बैठक में जोरदार हंगामा किया। अध्यक्ष चैंबर में बैठक चल रही थी और बाहर हाल में पार्षद ने जोर-जोर से नारेबाजी करनी शुरू कर दी। गुस्साए पार्षद ने तख्ती लगाकर यहां धरना दे दिया। उन्होंने आरोप लगाया बजट और लेखों में गड़बड़ी की जानकारी मांगे पर अध्यक्ष और सीएमओ ने उन्हें राजस्व एवं वित्त सभापति के पद से हटा दिया। हंगामा शाम तक चला।

नपा में गुरुवार को पीआईसी की बैठक दोपहर 12 बजे से शुरू हुई। पंद्रह मिनट बैठक चली और इस बीच पीआई से हटाए गए पार्षद संतोष देशमुख ने प|ी के साथ पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिया। दरअसल, उन्हें हाल ही में नगर पालिका अध्यक्ष ने पीआईसी से हटाया है। वर्तमान परिषद में शोभापुर क्षेत्र से कांग्रेस के पार्षद मनोज वागद्रे को संतोष देशमुख की जगह पीआईसी में शामिल किया है। गुरुवार को देशमुख ने उन्हें बिना सूचना पीआईसी से हटाए जाने का विरोध किया। नारे बाजी के बाद सीएमओ पवन राय बाहर आए और पार्षद को समझाने का प्रयास किया, मगर, वे अड़े रहे। उन्होंने अध्यक्ष और सीएमओ को 8 सवालों का पत्र सौंपा। पार्षद देशमुख ने कहा उन्हें बजट और लेखा संबंधित गड़बड़ी की जानकारी मांगे जाने पर पीआईसी से हटाया है। अध्यक्ष और सीएमओ पर उन्होंने कई आरोप लगाए।

सारे आरोप निराधार हैं, रुटीन तौर पर किया फेरबदल

पार्षद संतोष देशमुख के आरोप निराधार हैं। उन्हें पीआईसी से हटाया तो उन्होंने आरोप लगाने शुरू कर दिए। पीआईसी में रहते हुए ये बातें क्यों सामने नहीं आईं। पीआईसी में फेरबदल रुटीन प्रक्रिया है। इसे किसी को भी अन्यथा नहीं लेना चाहिए। नपा में सारे कार्य ऑनलाइन है और नियमों से हो रहे हैं। आशा भारती, अध्यक्ष नपा सारनी

गड़बड़ी का सवाल ही नहीं है सभी आरोप निराधार हैं

पार्षद को समझाने के प्रयास किए, लेकिन वे आरोप लगा रहे। पीआईसी के गठन के सारे अधिकार अध्यक्ष के पास होते हैं। नपा में कार्यों की समय सीमा और वर्क आर्डर जैसी सारी चीजें सबके सामने होती हैं इसलिए गड़बड़ी का सवाल ही नहीं। आरोप निराधार हैं। पवन कुमार राय, सीएमओ, नपा सारनी

नपा हाल में धरने पर बैठे पार्षद संतोष देशमुख को समझाने का प्रयास करते सीएमओ पवन राय।

पहले हो जाते काम, फिर करते हैं पारित, अलग से जोड़ लेते हैं प्रस्ताव

देशमुख ने कहा सीएमओ और अध्यक्ष की मिली भगत से कई काम बिना मंजूरी के हो रहे हैं। बाद में पीआईसी से इसे पारित कराया जाता है। वहीं पीआईसी की बैठक होने के बाद एजेंडे के अलाव कई प्रस्ताव जोड़े जाते हैं। नपा में कमीशनखोरी और चहेते ठेकेदारों काे टेंडर दिए जा रहे हैं। इस मामले को लेकर वे जिला कलेक्टर के पास जाने की तैयारी में है।

अध्यक्ष को नहीं दिए पीआईसी के अधिकार मिलेगा कर्मचारियों को सातवां वेतनमान

सारनी| पीआईसी की बैठक के दौरान कर्मचारियों को सातवें वेतनमान देने की मंजूरी दे दी गई। बजट आधारित इस कार्य में मामला नियमों के चक्कर में अटका हुआ था। इस बीच अध्यक्ष को पीआईसी के अधिकार नहीं दिए गए। मंगल भवनों के रखरखाव को लेकर सहमति बनी। 25 बिंदुओं के प्रस्ताव पारित किए। पीआईसी के अधिकार अध्यक्ष को दिए जाने की चर्चा के बीच बैठक की शुरुआत में ही अध्यक्ष ने इसे सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा जनहित के कार्य पीआईसी और परिषद की सहमति से ही किए जाएंगे। सीएमओ पवन कुमार राय ने बताया शासन के निर्देश थे जहां नगर पालिका के बजट में स्थापना व्यय 60 फीसदी से ज्यादा हो वहां 7वें वेतनमान का लाभ नहीं दिया जा सकता, लेकिन सारनी नपा में फिलहाल स्थापना व्यय 52 फीसदी और सातवां वेतनमान मिलन के बाद व्यय 56 फीसदी होगा। इसलिए इसे मंजूरी दे दी। अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हुई।

पीआईसी ने दो शिक्षकों की 3-3 वेतनवृद्धि रोकी

पाथाखेड़ा के प्रेम नगर स्कूल में चार साल पहले शिक्षक की कथित पिटाई से बच्चे की मृत्यु के मामले में आरोपित शिक्षकों को कोर्ट ने दोषमुक्त कर दिया है। हालांकि आदिवासी विकास विभाग ने उन्हें कार्य में लापरवाही का दोषी माना। इस आधार पर नपा से शास्ती मांगी। गंभीर मामले को देखते हुए पीआईसी ने सहायक अध्यापक बिजू सोनारिया और विजयराम भगत की तीन-तीन वेतनवृद्धि रोक दी।

इन प्रमुख प्रस्तावों पर

बनी सहमति

शहर से निकलने वाले कचरे को उठाने के लिए किराए से वाहन लगाने।

कार्यालय की शाखाओं, स्टोर, टंकी, पंप हाउस पर गनमैन और सुरक्षा सैनिक तैनात करने।

स्टोन डस्ट और मुरूम के टेंडर, पेयजल परिवहन को मंजूरी।

प्रधानमंत्री सबके लिए आवास योजना के आवासों को सुंदर बनाने के लिए अतिरिक्त खर्च।

नपा के दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के लिए कलेक्टोरेट आधारित नई दरें लागू ।

नपा सीमा के मंगल भवनों के लिए दरों और रखरखाव का निर्धारण।

सहायक अध्यापक बिजू सोनारिया, विजयराम भगत की वेतनवृद्धि रोकना।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×