--Advertisement--

प्रदेश सरकार के निर्णय से खत्म होगा आदिवासियों का शोषण

सारनी| आदिवासी समुदाय के लोग जंगलों से महुआ और गुल्ली बीनकर रोजगार चलाते हैं। सीजन में तेंदूपत्ता संग्रहित करते...

Dainik Bhaskar

Apr 09, 2018, 06:20 AM IST
सारनी| आदिवासी समुदाय के लोग जंगलों से महुआ और गुल्ली बीनकर रोजगार चलाते हैं। सीजन में तेंदूपत्ता संग्रहित करते हैं, लेकिन बिचौलियों के कारण इनका शोषण होता है। प्रदेश सरकार ने इसके लिए निर्णय लेते हुए विभिन्न सुविधाएं देने का ऐलान किया है। भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जनजाति मोर्चा ने इस निर्णय का स्वागत किया है। भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा मंडल सारनी के अध्यक्ष श्याम परते और महामंत्री प्रेमसिंह सलाम ने बताया शिवराज सिंह सरकार ने ऐतिहासिक निर्णय लिया है महुआ फूल और गुल्ली की ₹30 रु. प्रति किलो समर्थन मूल्य पर खरीदी। अचार की गुठली 100 रु. प्रति किलो मूल्य पर खरीदी। तेंदूपत्ता में ₹800 रु. की वृद्धि के साथ इस वर्ष ₹2000 रु. प्रति मानक बोरा खरीदा जाएगा। तेंदूपत्ता वनोपज के लिए वर्ष 2016 के सीजन के लिए 207 करोड़ का बोनस वितरण किया जाएगा। तेंदूपत्ता बीनने वाले श्रमिकों को जूते, चप्पल, ठंडे पानी के लिए बॉटल, महिलाओं को साड़ी दी जाएगी। नेताओं ने कहा इससे आदिवासियों का शोषण खत्म होगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..