पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sehore News Mp News Instead Of Spreading Hands In Front Of The Moneylenders By Opening 80 Grocery Shops The Means Of Livelihood Are Made To Set Up Health Camps At Their Own Expense

साहूकारों के सामने हाथ फैलाने की बजाय 80 किराना दुकानें खोलकर बनाया आजीविका का साधन, अपने खर्चे पर लगाती हैं स्वास्थ्य शिविर

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

आजीविका, स्वास्थ्य और सम्मान की यदि सफल तस्वीर यदि देखना हो तो रेहटी के उन 33 गांवों में देखी जा सकती है जहां की महिलाओं ने 170 समूह बनाए और फिर शुरू किया अपना व्यावसाय। आज इन समूहों में शामिल 1845 महिलाओं की सफलता की कहानी यह है कि इन्होंने 80 किराना दुकानें खोलकर अपनी आजीविका तो चलाई ही लेकिन साथ में सभी के सेहत के प्रति जागरूक होकर स्वास्थ्य शिविर भी लगवाए। पैसे की जब जरूरत होती है तो अब साहूकारों के सामने हाथ नहीं फैलाती हैं बल्कि सम्मान से अपने समूहों से ही लोन लेती हैं।

रेहटी के ऐसे 33 गांव जो तहसील मुख्यालय से काफी दूर हैं। यहां पर वृत्ति एवं स्वस्ति संस्था के सहयोग से डेढ़ साल पहले महिलाओं ने बदलाव की इस तरह की कहानी गढ़ दी कि आज इनकी मिसाल लेकर दूसरे गांवों की महिलाएं भी जागरूक होने लगी हैं।

ऐसे की शुरुआत और बनता गया कारवां


समूह बनाए : रेहटी के आदिवासी और पिछड़े व अन्य 33 गांवों में सबसे पहले महिलाओं के 170 समूह बनाए गए। प्रत्येक समूह में 9 महिलाएं शामिल हुईं। इनमें 3 एससी, 4 एसटी और 2 ओवीसी की हैं। इस तरह से 1845 महिलाएं शामिल हुईं।

33 गांवों की 1845 महिलाओं की आजीविका, स्वास्थ्य और सम्मान की कहानी

80 किराना दुकानें खोलीं : इन समूहों की महिलाओं ने अलग-अलग गांवों में 80 किराना दुकानें शुरू कीं। ये महिलाएं भोपाल स्थित वालमार्ट व वेस्ट प्राइज के यहां से थोक में सामान क्रय करने लगीं। मुनाफे में इन्होंने एक रुपया प्रति नग रखा तो लोगों ने इन महिलाओं की दुकानों से सामान खरीदना शुरू कर दिया। आज ये सारे समूह 40 लाख की बचत के साथ काम कर रहे हैं।

फ्लोराइड युक्त पानी दे रहे हैंडपंपों को बंद कराया

ये महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति भी जागरूक रहीं। हेल्थ कैंप में इनमें से 616 महिलाएं ऐसी थी जिनमें खून की कमी थी। इन्होंने डॉक्टरी सलाह ली और आज ये सभी स्वस्थ हैं। सभी का हीमोग्लोबिन 12 से अधिक हो गया। इसी तरह सैनेटरी पैड से लेकर फ्लोराइड वाले हैंडपंपों को भी बंद कराया ताकि सभी का स्वास्थ्य बेहतर रहे।
खबरें और भी हैं...