--Advertisement--

कंजरों और बंजारों

मुखबिरी से चलती है लूट की चेन... 61 किमी में 4 थाने फिर भी 9 स्पॉट पर ट्रक कटिंग, इस बार माल मिला क्योंकि पीछे ही थी...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:20 AM IST
मुखबिरी से चलती है लूट की चेन... 61 किमी में 4 थाने फिर भी 9 स्पॉट पर ट्रक कटिंग, इस बार माल मिला क्योंकि पीछे ही थी पुलिस


कंजरों और बंजारों के गठजोड़ का नया खुलासा पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन सकता है। देवास से शाजापुर के बीच के करीब 61 किमी के सफर के दौरान 9 ऐसे स्पॉट हैं, जहां आसानी से ट्रक कटिंग हो जाती है। इस पूरे सफर के दौरान पुलिस के 4 थाने और 1 चौकी आती है, फिर भी ये पकड़े नहीं जाते। लगातार हो रही वारदातों के बीच भास्कर ने पूरी पड़ताल की। जाना कि कैसे और कहां-कहां ट्रक कटिंग आसानी से हो जाती है। कैसे कंजरों को खबर होती है कि किस ट्रक में माल है और किस तरह चुराकर बेचा जाता है। पुलिस छापे भी मारती है, लेकिन बदमाश मिलते क्यों नहीं? इन सारे सवालों के जवाब तलाशने के लिए भास्कर टीम की मुलाकात एक ऐसे व्यक्ति से हुई जो पहल कंजरों से जुड़ा हुआ था। उनका माल ठिकाने लगाता था। दो-तीन बार पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया, जिसके बाद उसने कंजरों से दूरी बना ली। कंजरों के हर राज के बारे में उसने खुलकर बताया। एक रिपोर्ट...

चिड़ावद से पिपलिया सड़क। यहां मोड़ होने से वाहन की स्पीड होती है धीमी।

चिड़ावद

टौंक

लक्ष्मीपुरा

बंजारी

डिंगरौदा से देवास रेलवे फाटक

ये हैं वे 9 स्पाॅट

नैनावद पुलिया

नैनावद घाटी व लालघाटी के बीच

सनकोटा घाटी से शाजापुर के बीच। यहां घाटी होने से वाहन धीरे चलते हैं।