• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Shajapur
  • आज से बोर्ड परीक्षा, 6 संवेदनशील केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे से नजर
--Advertisement--

आज से बोर्ड परीक्षा, 6 संवेदनशील केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे से नजर

लोकल परीक्षाओं के खत्म होने के महज दो दिन बाद यानी 1 मार्च से बोर्ड कक्षाओं की परीक्षा शुरू हो जाएगी। जिले में इस...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:20 AM IST
लोकल परीक्षाओं के खत्म होने के महज दो दिन बाद यानी 1 मार्च से बोर्ड कक्षाओं की परीक्षा शुरू हो जाएगी। जिले में इस बार 55 केंद्रों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं ताकि किसी भी सूरत में नकल न हो। खास तौर पर शिक्षा विभाग द्वारा चिह्नित 6 संवेदनशील केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जाएगी। वहीं प्रति 20 परीक्षार्थियों के मान से 1 शिक्षक की ड्यूटी लगाई गई। इधर, परीक्षा के निर्धारित समय में शिक्षा विभाग के सात उड़नदस्तों सहित राजस्व विभाग का अमला भी मुस्तैद रहेगा। ज्ञात पूरे मार्च माह चलने वाली बोर्ड परीक्षाओं में इस बार 23 हजार बच्चे शामिल होंगे।

शिक्षा विभाग द्वारा बोर्ड परीक्षाओं को लेकर इस बार पहले की अपेक्षा ज्यादा सख्ती बरती जा रही है। माशिमं द्वारा जारी नए निर्देशों के अनुसार सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक के निर्धारित परीक्षा के समय में बच्चों की बारीकी से चेकिंग की जाएगी। इस दौरान बच्चों के पास स्विच आॅफ मोबाइल भी मिला तो नकल का प्रकरण बना दिया जाएगा। वहीं केंद्राध्यक्ष, सहायक केंद्राध्यक्ष व स्टाफ के मोबाइल उपयोग पर प्रतिबंध रहेगा। 1 मार्च को 12वीं के हिंदी प्रश्नपत्र से परीक्षा की शुरुआत होगी। पहले दिन से ही शिक्षा विभाग सहित राजस्व अमले द्वारा परीक्षाओं पर नजर रखते हुए केंद्रों का निरीक्षण किया जाएगा। खास तौर पर 6 संवेदनशील केंद्रों पर। ज्ञात रहे जिले के चारों उत्कृष्ट स्कूल सहित शाजापुर के नंबर 2 स्कूल जो कि प्राइवेट बच्चों के केंद्र होने के कारण और शादीपुरा केंद्र में दो साल पहले नकल प्रकरण सामने आने के कारण संवेदनशील माना गया।

दर्जनभर उड़नदस्ते रखेंगे नजर- परीक्षा में नकल न हो इसके लिए शिक्षा विभाग के साथ राजस्व विभाग का अमला भी तैनात रहेगा। शिक्षा विभाग ने अपने 7 उड़नदस्ते तैयार किए हैं। इसके अलावा तहसीलदार और अनुविभागीय अधिकारियों के उड़नदस्ते रहेगें। जो किसी भी केंद्र का औचक निरीक्षण कर सकते हैं।

जूते-मोजे उतारकर करेंगे चेकिंग

प्रश्न-पत्रों के लिफाफे की सील केंद्राध्यक्ष की मौजूदगी में खोली जाएगी। परीक्षा कक्ष में पहुंचने के पहले बच्चों की चेकिंग भी की जाएगी। छात्रों को जूते-मोजे कक्ष के बाहर ही उतारकर चेकिंग की जाएगी।

जमा करना होगा पेपर

तय समय से पहले प्रश्न-पत्र हल होने की स्थिति में परीक्षार्थी पेपर अपने साथ नहीं ले जा पाएगा। शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मानें तो परीक्षा समाप्त होने के आधे घंटे पहले यदि कोई छात्र जाएगा तो उसे काॅपी के साथ पेपर भी जमा करना होगा। ताकि परीक्षा खत्म होने तक पेपर की जानकारी बाहर न जा पाए। यह सब नकल पर नकेल कसने के लिए किया जा रहा है।

अचानक पहुंचकर किसी भी केंद्र पर निरीक्षण करेगा दल