• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Shajapur
  • पांच साल बाद भी आगर नहीं पहुंचा राजस्व रिकॉर्ड, लोग परेशान
--Advertisement--

पांच साल बाद भी आगर नहीं पहुंचा राजस्व रिकॉर्ड, लोग परेशान

वर्ष 2013 में शाजापुर से अलग हुआ था आगर-मालवा जिला भास्कर संवाददाता | नलखेडा़ आगर जिले की सुसनेर, सोयत, नलखेड़ा,...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:20 AM IST
वर्ष 2013 में शाजापुर से अलग हुआ था आगर-मालवा जिला

भास्कर संवाददाता | नलखेडा़

आगर जिले की सुसनेर, सोयत, नलखेड़ा, बड़ौद तहसील के लोगों को शाजापुर जिला मुख्यालय लगभग 80 किमी दूर पड़ता था। उक्त समस्या के कारण आगर क्षेत्र के लोगों द्वारा लंबा संघर्ष किया गया। इसके बाद वर्ष 2013 में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा आगर जिले की घोषणा की गई, परंतु उक्त बात को लगभग 5 वर्ष से भी अधिक का समय हो गया है, लेकिन आज भी आगर जिले के आमजनों को राजस्व रिकार्ड के लिए चक्कर लगाना पड़ रहे हैं।

अविभाजित शाजापुर जिले में, तो आमजनों को केवल 80 किमी. का सफर तय करना होता था, परंतु वर्तमान परिस्थिति में तीन चक्कर लगाने के बाद लगभग 100 किमी का सफर तय करना पड़ता है और समय भी ज्यादा लगता है और पैसे की बरबादी भी होती है, परंतु जिम्मेदार अधिकारियों का इस ओर कोई ध्यान नहीं है ।

सूत्रों ने बताया शाजापुर जिला कलेक्टर द्वारा इस संबंध में कई बार आगर कलेक्टर से पत्राचार भी किया गया। परंतु आगर जिले के अधिकारियों की उदासीनता के चलते उक्त राजस्व रिकार्ड आगर मुख्यालय नहीं आ पा रहा है।