--Advertisement--

नाबालिग को धमकी देकर दुष्कर्म करने वाले को आजीवन कारावास

पास्को एक्ट का निर्णय सुप्रीम कोर्ट की मंशा के अनुरूप हुआ भास्कर संवाददाता | शाजापुर अयोध्या बस्ती नलखेड़ा की...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 06:35 AM IST
पास्को एक्ट का निर्णय सुप्रीम कोर्ट की मंशा के अनुरूप हुआ

भास्कर संवाददाता | शाजापुर

अयोध्या बस्ती नलखेड़ा की नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर ले जाने और बाद में जान से मारने की धमकी देकर दुष्कर्म करने के मामले कोर्ट ने फैसला सुनाया। न्यायाधीश संजीव कुमार सुरैया ने आरोपी को अलग-अलग धाराओं में आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

विशेष लोक अभियोजक गिरधारी लाल देवतवाल ने बताया आरोपी अकरम पिता यासीन खां निवासी अयोध्या बस्ती आगर-मालवा है। अकरम 18 जनवरी 2017 की शाम 6.30 बजे नलखेड़ा निवासी लड़की को भगा ले गया। परिजन की शिकायत पर नलखेड़ा पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अगले ही दिन 19 जनवरी को आरोपी के कब्जे से लड़की को अपने कब्जे में ले लिया। पूछताछ में लड़की ने आरोपी द्वारा उसे जान से मारने की धमकी देकर दुष्कर्म करने की बात कही। नलखेड़ा पुलिस ने मामला दर्ज किया।

मामले की सुनवाई करते हुए विभिन्न धाराओं में न्यायाधीश सुरैया ने आरोपी अकरम को 3 साल, 5 साल, 10 साल, 10 साल व तीन साल की सजा सहित एक हजार, दो हजार, पांच हजार व एक हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई। साथ ही धारा 3 (2)(5) अजा-अजजा (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 के अपराध में आरोपी को आजीवन कारावास सहित 5 हजार रुपए अर्थदंड से दंडित किया है। अर्थदंड नहीं चुकाने पर दो साल अतिरिक्त सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। अभियोजक देवतवाल ने बताया इस तरह के सख्त निर्णयों से नाबालिगों पर लगातार बढ़ रही घटनाओं पर अंकुश लगेगा। पास्को एक्ट के तहत यह निर्णय भी सुप्रीम कोर्ट की मंशा के मुताबिक ही हुआ है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..