आगर : उज्जयिनी के सम्राट सम्प्रतिकालीन है भगवान अजितनाथ जी की प्रतिमा

Shajapur News - भास्कर संवाददाता | आगर-मालवा गोपाल मंदिर के सामने स्थित अजितनाथ जैन श्वेतांबर मंदिर में मूल नायक अजितनाथ भगवान...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:20 AM IST
Susner News - mp news agar emperor of ujjaini is the sampratikalin the statue of lord ajitnath
भास्कर संवाददाता | आगर-मालवा

गोपाल मंदिर के सामने स्थित अजितनाथ जैन श्वेतांबर मंदिर में मूल नायक अजितनाथ भगवान की प्रतिमा लगभग 2 हजार वर्ष से भी अधिक प्राचीन बताई जाती है। ऐसी मान्यता है कि सम्राट अशोक के पोत्र उज्जयिनी के राजा सम्राट सम्प्रति ने आचार्य सिद्ध सेन दिवाकर सूरी की प्रेरणा से देशभर में जिन धर्म प्रचारक के रूप में सवा लाख जिन मंदिर निर्माण एवं प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा करवाई थी उसमें से आगर की प्रतिमा भी उसी कार्य की मानी जाती है।

जिस स्थान पर आज मंदिर बना हुआ है पहले वहां पूर्णतः लकड़ी का मंदिर था। 1948 के लगभग मंदिर के बाहर दुकान में आग लगने से मंदिर को भी नुकसान हुआ था। परंतु भगवान अजितनाथ की प्रतिमा पूर्णतः सुरक्षित रही। 1950 में जैन संत विद्या विजय महाराज द्वारा 9 लोगों की समिति बनाई गई। समिति व श्रीसंघ ने मिलकर उसी स्थान पर मंदिर का जीर्णोद्धार कराया। 1954 में नया शिखर युक्त मंदिर बनकर तैयार हुआ तथा मालवोद्धारक आचार्य चंद्रसागर सूरिश्वर महाराज की निश्रा में उक्त मंदिर तथा प्रतिमा का प्राण-प्रतिष्ठा समारोह मनाया गया। भगवान अजितनाथ की प्रतिमा के साथ ही मूलवेदी पर धर्मेंद्र पार्श्वनाथ, चिंतामणी पार्श्वनाथ, चंद्रप्रभु पार्श्वनाथ की प्रतिमा तथा द्वितीय वेदी पर महावीर स्वामी सुमतिनाथ तथा शांतिनाथ की दो प्रतिमाएं विराजित है। मंदिर परिसर में 9 पद सिद्ध चक्र यंत्र शत्रुंजय तीर्थ पट तथा मणीभद्र वीर, नाकोड़ा पार्श्वनाथ की प्रतिमाएं व अन्य धातु की सत्रह चल प्रतिमाएं विराजित है। संपूर्ण मंदिर की नक्काशी व वास्तु सौंदर्य दर्शनीय है।

महावीर स्वामी के जन्मोत्सव पर सुबह 6 बजे प्रभात फेरी व साढ़े 8 बजे चल समारोह निकाला जाता है। श्रीसंघ के अध्यक्ष सुरेंद्र कुमार मारू बताते है कि यह परंपरा 100 साल से भी अधिक पुरानी है। दिगंबर जैन समाज के अध्यक्ष पारस जैन व स्थानक वासी मुकेश डूंगरवाल भी कहते है कि इस अवसर पर सामूहिक चल समारोह निकलता है 300 से अधिक लोग करते है प्रतिदिन पूजा - शहर के मुख्य बाजार में स्थित इस मंदिर में जीर्णोद्धार से पूर्व पुजारी यति महाराज द्वारा पूजन किया जाता था। करीब 9 पीढ़ी तक उनके द्वारा ही मंदिर की पूजा की जाती रही, लेकिन नवनिर्माण के बाद पर्यूषण, मंदिर की वर्षा गांठ पर चढ़ाई जाने वाली ध्वजा व कार्तिक पूर्णिमा तथा महापूजा के अवसर पर जैन समाज एकत्र होता है, लेकिन करीब 300 से अधिक लोग प्रतिदिन पूजन करते हैं। इनमें 200 से अधिक महिलाएं है।

आगर-मालवा |अजितनाथ जैन मंदिर का शिखर।

महावीर जन्मोत्सव : पहले दिन जिला अस्पताल में मरीजों को बांटे फल

आगर-मालवा | सकल जैन समाज द्वारा महावीर जन्मोत्सव कार्यक्रम की शुरुआत की गई। पहले दिन मंगलवार को जैन श्वेतांबर सोशल ग्रुप आगर द्वारा महावीर जयंती के उपलक्ष में जिला अस्पताल में मरीजों को फल व बिस्किट वितरित किए गए। दोपहर 12 बजे उज्जैन रोड स्थित वृद्धाश्रम (अपनाघर) पहुंचकर समाजजनों ने वहां रहने वाले बुजुर्गों को भोजन कराया तथा शाम 7 बजे जैन ओसवाल भवन में सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें धार्मिक गीत, भजन, नृत्य नाटिका एवं नाटक में समाजजनों ने भाग लिया। इस अवसर पर सुनील सीमा जैन, दिलीप ज्योति जैन, कमल ममता कोठारी, जैन श्वैतांबर सोशल ग्रुप अध्यक्ष अजय स्वीटी जैन मारूबर्डिया, नीरज समता जैन आदि मौजूद थे।

सुबह 6 बजे निकालेगी प्रभात फेरी - आज बुधवार को महावीर स्वामी जन्मोत्सव के अवसर पर सुबह 6 बजे से श्री अजीतनाथ जैन मंदिर से प्रभातफेरी निकाली जाएगी। सुबह 8ः30 बजे से जैन ओसवाल भवन सरकारबाड़ा से सकल जैन समाज का चल समारोह निकाला जाएगा। समाज के अशोक नाहर ने बताया चल समारोह में बड़ी संख्या में सकल जैन समाज के लोग मौजूद रहेंगे। चल समारोह नगर के विभिन्न मार्गों से होता हुआ ओसवाल भवन में समाप्त होगा। जहां सधार्मिक वात्सल्य भी होगा।

सुसनेर : जैन समाज आज निकालेगा चल समारोह

सुसनेर |
जैन धर्मावलंबियों के 24 वें तीर्थंकर अहिंसा के पुजारी भगवान महावीर स्वामी के जन्मकल्याणक के अवसर पर बुधवार को आचार्य श्री दर्शनसागरजी महाराज के सान्निध्य में सकल दिगंबर जैन समाज द्वारा नगर में चल समारोह निकाला जाएगा। मुनिसेवा समिति के अशोक जैन मामा के अनुसार चल समारोह की शुरुआत दोपहर 3 बजे नगर के स्टेट बैंक चौराहा स्थित श्री चंद्रप्रभु दिगंबर जैन छोटा मंदिर से होगी। जो नगर के प्रमुख मार्गों से होकर इतवारिया बाजार होते हुए वहां से वापस छोटा जैन मंदिर पहुंचेंगा। जहां समापन होगा। चल समारोह में समाज के पुरुष सफेद वस्त्र व महिलाएं केसरिया साड़ी पहनकर अहिंसा का संदेश देते हुए शामिल होंगी। भगवान को रजत पालकी में विराजमान किया जाएगा। जिनका समाजजनों द्वारा पूजन किया जाएगा ।अलसुबह 5 बजे समाज की महिला मंडल की महिलाओं द्वारा नगर में प्रभात फेरी निकाली जाएगी। सुबह 7 बजे श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर में महावीर मंडल विधान का आयोजन होगा। नगर के समस्त जैन मंदिरों में भगवान का अभिषेक, शांतिधारा, नित्यनियम पूजन के साथ विधान का पूजन किया जाएगा। रात में स्टेट बैंक चौराहे पर भगवान की महाआरती होगी।

18 वर्ष पहले बना था वासुपूज्य तारक धाम

बड़ौद रोड चौराहे के पास स्थित वासुपूज्य तारक धाम मंदिर का भूमिपूजन 5 जुलाई 1999 को हुआ था व 10 जुलाई 2000 को शिलान्यास समारोह संपन्न हुआ था। इस मंदिर में भी भव्य आयोजन होते है। इसके अलावा दिगंबर जैन समाज का पार्श्वनाथ जैन मंदिर धोबी गली छावनी व विवेकानंद नगर में है। जबकि स्थानक वासी जैन समाज द्वारा महावीर भवन में स्वाध्याय किया जाता है।

X
Susner News - mp news agar emperor of ujjaini is the sampratikalin the statue of lord ajitnath
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना