पहली बार भास्कर में ...शाजापुर में पालिताणा तीर्थ से भी प्राचीन आदिनाथ की प्रतिमा

Shajapur News - शहर के सकल जैन समाजजन आज महावीर जयंती पर शहरवासियों को अहिंसा परमो धर्म का संदेश देते हुए सड़कों से निकलेंगे।...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:06 AM IST
Shajapur News - mp news for the first time in bhaskar statue of ancient adinath from palitana shrine in shajapur
शहर के सकल जैन समाजजन आज महावीर जयंती पर शहरवासियों को अहिंसा परमो धर्म का संदेश देते हुए सड़कों से निकलेंगे। बैंड-बाजे और बग्गी के साथ ओसवालसेरी स्थित चौबीस जिनालय धाम जैन श्वेतांबर मंदिर से सुबह 8.30 बजे समाजजनों जयंती उत्सव पर भगवान का वरघोडा निकलेगा। इस मंदिर की महत्ता पूरे मालवांचल में सबसे अनूठी है। मालवा का यह पहला ऐसा जैन मंदिर हैं जहां एक ही मंदिर में 58 तीर्थंकरों की प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा की गई है।

भगवान महावीर जयंती उत्सव सभी सकल जैन समाजजन यहां मनाएंगे। जिसमें श्वैतांबर, स्थानाकवासी और दिगंबर जैन समाजजन एक साथ शामिल होंगे। महावीर जयंती ही एक एेसा उत्सव हैं जिसमें सकल जैन समाज के लिए शामिल होकर एक साथ पर्व मनाते है।

हालांकि यह शुरुआत 10 साल पहले वर्ष 2008-09 से ही हुई है। इससे पहले श्वेतांबर व दिगंबर जैन समाजजन अपने अपने स्तर से महावीर जयंती उत्सव मनाते थे। एक साथ पर्व बनाते हुए समाजजन बुधवार को अहिंसा का संदेश देंगे। मंदिर की महत्ता बताते हुए जैन संत ने बताया की शाजापुर में बने मंदिर का अपना ही महत्व है। पिछले 40 सालों से मालवांचल में धर्म उपदेश देते हुए 255 मंदिर व उपाश्रय निर्माण करवाने वाले जैन संत अनुयोगाचार्य प्रवर श्रीवीरर| विजयजी मसा (मालव विभूषण) ने बताया की पूरे मालवा में ऐसा मंदिर कहीं भी नहीं है। इस कारण इस मंदिर की महत्ता है। यहां विराजित मूलनायक ऋषभदेव की प्रतिभा भी अति प्राचीन है।

कसेरा बाजार के मंदिर में 58 तीर्थंकरों की प्रतिमाएं। ये है सबसे प्राचीन प्रतिमा।

ये है खास... 913 साल पुरानी प्रतिमा है शाजापुर में

शाजापुर के जैन मंदिर में विराजित मूलनायक ऋषभ देव (भगवान आदिनाथ) की जो प्रतिष्ठा है। वह 913 साल पुरानी है। समाज के सौरभ नारेलिया ने बताया कि प्रतिमा के पीछे जो वीर संवत लिखे हैं। उस आधार पर प्रतिमा 913 साल पुरानी है। ज्ञात रहे जैन समाज के सबसे बड़े तीर्थ पालीताणा गुजरात में भगवान मूल नायक की जो प्रतिमा है। वह करीब 500 साल प्राचीन है। यानी शाजापुर की प्रतिमा पालिताणा में विराजित प्रतिमा से भी प्राचीन है।

थाने से बाहर निकलवाया था

मूर्तिपूजन संघ के अध्यक्ष लोकेंद्र नारेलिया ने बताया कि लालपुरा क्षेत्र में बने शासकीय कन्या स्कूल के निर्माण के लिए की जा रही खुदाई में जैन समाज के 24 प्रतिमाएं निकली थी। उक्त प्रतिमाओं को प्रशासन ने अपने अधिपत्य में ले लिया और प्रतिमाओं को थाने में रख लिया। करीब दो साल तक थाने में बंद रही । इन्हें जैन संत अनुयोगाचार्य प्रवर श्रीवीरर| विजयजी मसा की चेतावनी के बाद निकाला गया था।

धर्मसभा होगी, रात को आरती के साथ समापन

समाज के मीडिया प्रभारी मंगल नाहर ने बताया महावीर जन्म कल्याणक पर बुधवार को ओसवालसेरी स्थित चौबीस जिनालय धाम जैन श्वेतांबर मंदिर से चल समारोह निकाला जाएगा। यहां धर्मसभा में कल्पलता श्रीजी मसा आदि ठाणा द्वारा मंगलाचरण के साथ समाजजनों को आशीर्वचन प्रदान किए जाएंगे। समापन रात 7.30 से 9.30 बजे ं महाआरती, भजन व नवकार महामंत्र के जाप के साथ होगा।

एक साथ निकलता है वरघोड़ा

10 साल पहले महावीर जयंती पर दिगंबर व श्वेतांबर जैन समाजजन अपने अपने स्तर से मनाते थे। करीब 2008-09 में समाजजनों ने भगवान महावीर की जयंती उत्सव एक साथ मनाना शुरू कर दी। जैन समाज के अध्यक्ष सपन जैन ने बताया कि इसके बाद से सभी समाजजन भगवान महावीर की जयंती पर निकाले जाने वाले वरघोडा में शामिल होते है। अब बैंड बाजे और बग्गी के साथ भव्य स्वरूप में वरघोडा निकलता है।

X
Shajapur News - mp news for the first time in bhaskar statue of ancient adinath from palitana shrine in shajapur
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना