उज्जैन-चवली मार्ग पर नहीं बनेगा फोरलेन एनएचआई बनवाएगा टू लेन की डीपीआर

Shajapur News - भास्कर संवाददाता | आगर मालवा पूरी तरह खराब हो चुके उज्जैन-झालावाड़ मार्ग पर फोरलेन की मांग कर रहे लोगों के लिए...

Oct 13, 2019, 06:25 AM IST
भास्कर संवाददाता | आगर मालवा

पूरी तरह खराब हो चुके उज्जैन-झालावाड़ मार्ग पर फोरलेन की मांग कर रहे लोगों के लिए निराशा भरी खबर है। इस मार्ग पर मध्यप्रदेश की सीमा में उज्जैन से चंवली के बीच फोरलेन की बजाए टू लेन बनाया जाएगा। यह सौगात भी 1 साल के बाद ही मिलेगी, क्योंकि नेशनल हाइवे अथाॅरिटी (एनएचआई) उज्जैन गरोठ वाले प्रोजेक्ट को प्राथमिकता दे रहा है। उसकी डीपीआर बनने के बाद उज्जैन-चवली मार्ग की डीपीआर बनवाई जाएगी, लेकिन थोड़ी राहत भरी खबर यह है कि अभी सड़क पर जो गड्ढे है उन्हें बंद कराने का काम एमपीआरडीसी जल्द शुरू करने वाला है इससे इस सड़क पर सफर करने वालों की परेशानी कुछ कम होगी।

उज्जैन-चवली मार्ग जो इंदौर-कोटा मार्ग का हिस्सा है, पर आए दिन होने वाली दुर्घटना व खस्ता हो चुकी सड़क से परेशान लोग जो यहां फोरलेन बनाए जाने की मांग कर रहे थे उनके लिए यह एक सदमे से कम नहीं होगा कि फोरलेन की बजाए यहां टू लेन ही एनएचआई द्वारा बनवाई जाएगी। पहले इस मार्ग पर नेशनल हाइवे बनाया जाना था लेकिन ग्रीन बेल्ट प्रोजेक्ट आ जाने तथा उज्जैन से कोटा के बीच की दूर कम करने के चक्कर में उज्जैन से गरोठ तक जो सड़क बनाई जानी है उसके कारण उज्जैन-चवली प्रोजेक्ट को होल्ड कर दिया गया था। पता चला है कि उज्जैन-गरोठ प्रोजेक्ट पर तेजी से काम शुरू हो चूका है। अधिकारी भी इसी प्रोजेक्ट को प्राथमिकता दे रहे हैं। उज्जैन-गरोठ की डीपीआर बनने के बाद ही उज्जैन चंवली की डीपीआर बनवाई जाएगी लेकिन सूत्र बताते है कि इस सड़क के लिए टू लेन की डीपीआर एनएचआई बनवाएगा हालांकि विधायक मनोहर ऊंटवाल अगस्त में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ दिल्ली जाकर इस सड़क पर फोरलेन बनाए जाने की मांग को लेकर सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को ज्ञापन दे चुके हैं।

आगर में बारिश के कारण सड़क पर हो चुके हैं गड्‌ढे।

उज्जैन -गरोठ की डीपीआर बनने में लगेगा 1 साल का समय

टू-लेन की सौगात भी जिलेवासियों को जल्द मिलती नजर नहीं आ रही। क्योंकि उज्जैन-गरोठ की डीपीआर बनने के बाद ही इसका काम शुरू होगा। डीपीआर बनाने का काम जयपुर की एमएसवी इंटरनेशनल एसोसिएशन विथ आर्मेंज इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट कंसल्टेंट प्रालि द्वारा किया जा रहा है। इसी एजेंसी ने पहले उज्जैन-चवली मार्ग की डीपीआर बनाई थी। एजेंसी को नई डीपीआर बनाने में ज्यादा कुछ करने की आवश्यकता नहीं होगी। क्यांेकि पहले जो फोरलेन की डीपीआर थी उसे अब टू-लेन करके बनानी है। केवल डिजाइन व कास्ट में अंतर आएगा लेकिन उसमें भी समय लगता दिखाई दे रहा हैै। एनएचआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर रविंद्र गुप्ता का कहना है कि पुराने कंसल्टेंट से ही काम करवाया जा रहा है। उज्जैन-गरोठ का काम होने के बाद ही उज्जैन-चवली की डीपीआर बनवाई जाएगी।

एमपीआरडीसी बंद करवाएगा गड्‌ढे

पहले से ही खस्ताहाल सड़क बारिश के चलते पूरी तरह खराब हो चूकी है। मानसून भी जा चूका है। ऐसे में सड़क के मैंटेनेंस का काम देख रहा एमपीआरडीसी जल्द ही सड़क सुधराने का काम शुरू करने वाला है। एमपीआरडीसी के संभागीय प्रबंधक अशोक शर्मा ने सड़क सुधारने के लिए जो कार्य योजना बनाई है उसके अनुसार पहले 118 किलोमीटर में जहां-जहां गड्ढे है उन्हें प्राथमिकता से बंद करवाया जाएगा। जानकारी के अनुसार तनोड़िया, घोंसला आदि जगह जलजमाव होने के कारण सड़क पूरी तरह उखड़ चूकी है। वहां अभी जेसीबी से सड़क खुदवाई जाएगी और बार-बार लोगों को परेशानी न हो इसके लिए ऐसे स्थानों पर सीमेंट कांक्रीट करवाया जाएगा। संभागीय प्रबंधक शर्मा का कहना है कि प्रस्ताव को मंजूरी मिलते ही यहां पर सीसी करवा दी जाएगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना