पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Shajapur News Mp News The Tractor Fell 20 Feet Due To Sticking A Side Brake On The Birgod Valley The Driver Could Not Save The Son On The Jump

बिरगोद घाटी पर एक साइड का ब्रेक चिपकने से ट्रैक्टर 20 फीट नीचे गिरा, ड्राइवर तो कूदा पर बेटे को नहीं बचा सका

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

विवाह सम्मेलन में शामिल होने के लिए देवास जिले के जामगोद की तरफ जाते समय बिरगोद के पास हुई दुर्घटना ट्रैक्टर के एक साइड के ब्रेक चिपकने के कारण हुई है। एकदम खड़ी घाटी पर उतरते समय ट्रैक्टर को कंट्रोल करने के लिए जैसे ही चालक भगवानसिंह ने ब्रेक लगाया। एक साइड के ब्रेक चिपक गए और ट्रैक्टर एक तरफ कटते हुए सीधे समीप एक खड़े पेड़ से टकराते हुए सड़क से 20 फीट नीचे जा गिरा। इससे ट्राॅली में बैठे महिला पुरुष और बच्चे 20 से 25 फीट दूर तक छटक गए। सिर, मुंह और हाथ-पैर के बल गिरने के कारण सभी घायल हो गए।

ज्ञात रहे हादसा सुबह 6.30 बजे शाजापुर से करीब 25 किमी दूर देवास जिले के ग्राम बालोन की सीमा में हुआ। ट्रैक्टर पलटते ही महिलाएं और बच्चे चीखने लगे। इस दौरान सड़क से गुजरने वाले लोगाें के साथ बिरगोद व बालोन के ग्रामीण पहुंचे और घायलों की मदद की। इस दौरान मौके पर ही दो बच्चों सहित तीन लोगांे की मौत होने से घायलाें के हाेश उड़ गए। घायलाें काे एम्बुलेंस व अन्य वाहनों से बेरछा अस्पताल लाया गया। दुल्हन सीमा का ट्रीटमेंट कर उसे विवाह सम्मेलन में भेजा गया, जबकि घायल होने वाले 30 लोगांे को शाजापुर लाया गया। यहां प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर रूप से घायल तीन महिलाओं को इंदौर रैफर कर दिया गया।

इनकी मौके पर ही मौत

रमेशचंद्र (50) निवासी कुकड़ी, अंंकित (10) और चंद्रप्रकाश पिता भगवानसिंह (13) दोनों निवासी बज्जाहेड़ा की मौके पर ही मौत हो गई।

इन्हें इंदौर रैफर किया

वर्षा पिता कालूसिंह (30), नर्मदा पति कैलाश (30) और कमलाबाई पति मानसिंह (45) निवासी बज्जाहेड़ा को इंदौर रैफर किया है।

ड्राइवर के पास बैठे 3 की मौत

एक साइड के ब्रेक चिपकने के कारण अचानक ट्रैक्टर कटते हुए एक तरफ मुड़ गया। इस पर चालक भगवानसिंह कूद पड़ा, लेकिन पास बैठे उसके बेटे चंद्रप्रकाश को नहीं बचा सका। पेड़ से जोरदार टक्कर लगने के कारण ट्रैक्टर ड्राइवर के पास बैठे दो बच्चों और एक व्यक्ति की मौत हो गई।

बज्जाहेड़ा में पसरा सन्नाटा

हादसे के बाद शहर से 3 किमी दूर ग्राम बज्जाहेड़ा के बंजारा माेहल्ले में सन्नाटा पसर गया। पूरे माेहल्ले में कोई भी दिखाई नहीं दिया। देररात तक जिस मोहल्ले में विवाह के मंगल गीत गुनगुना रहे थे।

ग्रामीणों ने चंदा इकट्ठा कर किया अंतिम संस्कार

गांव के सुमेरसिंह ने बताया कि अंकित और चंद्रप्रकाश का अंतिम संस्कार करने के लिए भी मोहल्ले में ज्यादा लोग नहीं थे। जो गिने चुने परिजन गांव पहुंचे। वे भी घायलावस्था में थे। ऐसे में गांव के युवाओं ने चंदा एकत्रित कर एक ही चिता पर अंतिम संस्कार की सामग्री जुटाई और उन्हीं ने अंतिम संस्कार किया।

बिरगोद और बालोन के ग्रामीणों की मदद से घायलों को बेरछा, शाजापुर और देवास अस्पताल पहुंचाया, घायलों में ज्यादातर बज्जाहेड़ा के निवासी

-हादसे में मृत हुए तीनों ट्रैक्टर में आगे बैठे थे
-पेड़ से टकराने के कारण कई लोगों जान बची -अचानक नीचे गिरने से ज्यादा को लगी चोट

हादसे में ये घायल: राहुल (10), तेजू (6), कोमल (13), धापू बाई (10), उमा (26), भंवरलाल (60), रीना (18), दीपक (12), बबली बाई (35), शुभम (10), भूरी बाई (28), कमला बाई (35), राजू बाई (30), कन्हैयालाल (30), विशाल (12), सौरम बाई (30), रूपसिंह (45) सभी निवासी बज्जाहेड़ा, रानू (17), सुमन बाई (30) और सुशीला (30) तीनाें निवासी कजलाज, सुमन (40) और नानूराम (45) नि. डोडियाखड़ी, कंचन बाई (50) नि. दुपाड़ा, शांता बाई (60) निवासी बमाेरी, सोनम बाई (40) निवासी खेड़ा, छतर बाई (35) नि. ढाबला, चतर बाई (30) निवासी सोनकच्छ छाबला।
खबरें और भी हैं...