• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Shajapur
  • Shajapur - एक तहसील के 2 गांवों में हजारों क्विंटल प्याज का स्टॉक, भाव बढ़ाने के लिए रोका, सड़ने लगा तो पहुंचे मंडी, अब खरीदार नहीं
--Advertisement--

एक तहसील के 2 गांवों में हजारों क्विंटल प्याज का स्टॉक, भाव बढ़ाने के लिए रोका, सड़ने लगा तो पहुंचे मंडी, अब खरीदार नहीं

भास्कर संवाददाता| शाजापुर/गुलाना/बोलाई प्याज की फसल ने किसानों की कमर भी तोड़ दी है। प्याज की फसल निकालने से अब तक...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 05:20 AM IST
Shajapur - एक तहसील के 2 गांवों में हजारों क्विंटल प्याज का स्टॉक, भाव बढ़ाने के लिए रोका, सड़ने लगा तो पहुंचे मंडी, अब खरीदार नहीं
भास्कर संवाददाता| शाजापुर/गुलाना/बोलाई

प्याज की फसल ने किसानों की कमर भी तोड़ दी है। प्याज की फसल निकालने से अब तक किसानों ने बेहतर भाव की उम्मीद पर अपने मकानों में प्याज का स्टाॅक कर रखा है। लगभग 5 महीने बीत जाने के बावजूद प्याज का भाव, तो नहीं आया, लेकिन अब किसानों का रखरखाव जरूर जवाब देने लगा है। नतीजतन प्याज ढेर में ही उगकर अब दम तोड़ने की कगार पर आ गई है।

बोलाई के किसान मूलचंद पाटीदार के पास अभी लगभग 600 क्विंटल प्याज का स्टाॅक है। इनके अलावा हीरालाल पाटीदार, दिनेश पाटीदार के साथ लगभग दर्जनभर से ज्यादा किसानों ने प्याज रोक रखी है। गुलाना में बाबूलाल हावड़िया ने 350 क्विंटल के अलावा महेश भंडारी, राजू मंसूरी व प्रेम नारायण पाटीदार के साथ दो दर्जन से भी अधिक किसानों के पास भारी मात्रा में प्याज का स्टाॅक है। इस तरह से गुलाना व बोलाई में लगभग 10 हजार क्विंटल से अधिक प्याज का स्टाॅक है। शाजापुर जिले में सैकड़ों टन प्याज किसानों ने अभी तक रोक रखा है।

अभी तक 20 और अगले माह 50 प्रतिशत से अधिक नुकसान होने की आशंका

जिन किसानों ने प्याज स्टाॅक कर रखा है उनका अप्रैल से अब तक प्याज खराब होने के कारण 20 प्रतिशत नुकसान तो हो ही चुका है। साथ ही अब तेज गति के साथ स्टाॅक की प्याज खराब होना शुरू हो गई है। अगले माह तक किसानों का 50 प्रतिशत से भी अधिक प्याज खराब होने का अंदेशा है।

20 रुपए किलो तक पहुंचा था तब नहीं बेचा

5 महीने तक यूूं बचाया प्याज को


कानपुर की प्याज मंडी के एजेंट नइम एंड संस के नावेद खान ने बताया कर्नाटक की नई प्याज की फसल शुरू हो चुकी है, इसके चलते अब पुरानी प्याज के भाव बढ़ने के कोई आसार नहीं हैं। 15 जून को अचानक प्याज के भाव में उछाल आया था और भाव एक दम 15 से 20 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गया। हालांकि यह भाव 16 व 17 जून तक ही ठहरा और अचानक से गिर गया। मंगलवार को प्याज का भाव शाजापुर मंडी में 5 से 7 रुपए किलो रहा।



ये है प्याज की कहानी : लागत और कमाई

35 हजार की लागत आती है प्याज की 1 बीघा की फसल को तैयार करने में, बीज और खाद मिलाकर

100 क्विंटल प्रति बीघा तक की पैदावारी मिल सकती है

10 रुपए किलो का भाव मिले तो नुकसान नहीं रहता

X
Shajapur - एक तहसील के 2 गांवों में हजारों क्विंटल प्याज का स्टॉक, भाव बढ़ाने के लिए रोका, सड़ने लगा तो पहुंचे मंडी, अब खरीदार नहीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..