--Advertisement--

शहर में मलेरिया के 10 दिन में 155 मरीज मिले

जिले में मलेरिया तेजी से फैल रहा है। 10 दिन में संदिग्ध मरीजों की जांच के बाद जिला अस्पताल की सरकारी लैब ने 155 मरीजों...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 05:21 AM IST
Sheour - शहर में मलेरिया के 10 दिन में 155 मरीज मिले
जिले में मलेरिया तेजी से फैल रहा है। 10 दिन में संदिग्ध मरीजों की जांच के बाद जिला अस्पताल की सरकारी लैब ने 155 मरीजों में मलेरिया की पुष्टि की है। वहीं निजी अस्पतालों में यह आंकड़ा 400 को पार कर चुका है। जिला अस्पताल में इलाज के इंतजाम पर्याप्त न होने के कारण मरीजों को खासी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

बीते तीन वर्ष से जिले में डेंगू और चिकनगुनिया का प्रकोप लोगों की कमर तोड़ रहा था। इस बार अभी डेंगू, चिकनगुनिया का प्रकोप तो नहीं दिख रहा है, लेकिन मलेरिया ने लोगों को परेशानी में डाल दिया है। आलम यह है कि घर-घर में मरीज बुखार से तप रहे हैं। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग के पास अब तक बड़ी संख्या में मरीजों को इलाज देने के पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। सितंबर माह के इन 10 दिनों में मलेरिया ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है। जिला अस्पताल की लैब में 155 लोगों में मलेरिया पॉजिटिव मिल चुका है। यह आंकड़ा केवल सरकारी लैब का है। प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की संख्या इससे कई गुना ज्यादा है। शहर के निजी अस्पताल मलेरिया के मरीजों से अटे पड़े हैं। जिला अस्पताल में जांच और इलाज की पर्याप्त सुविधा न मिलने के कारण मरीजों को निजी अस्पताल में जाना पड़ रहा है।

माइक्रोस्कोप से की जा रही जांच :अब तक मलेरिया की जांच के लिए स्वास्थ्य अफसरों ने आशा, एएनएम को मलेरिया जांच किट दी हुई थी, लेकिन इनकी जांच से विभाग पूरी तरह संतुष्ट नहीं है। इसी के चलते किट में पुष्टि होने के बाद माइक्रोस्कोप से मलेरिया की जांच की जा रही है। इसके बाद ही पुष्टि की जा रही है।

रात में सात से नौ बजे तक सक्रिय होता है मच्छर

मलेरिया फैलाने वाला मच्छर रात में सात बजे से लेकर नौ बजे तक सबसे ज्यादा काटता है। इन दो घंटों में ही मलेरिया का मच्छर सबसे ज्यादा सक्रिय होता है। जबकि डेंगू का मच्छर दिन में घुटनों से नीचे काटता है।

समस्या

निजी अस्पतालों में आंकड़ा 400 के पार, वहीं जिला अस्पताल में इलाज की कमी, निजी अस्पतालों में लगी भीड़

मलेिरया का ग्रामीण क्षेत्र में है सबसे ज्यादा प्रकोप

ग्रामीण क्षेत्र में संक्रामक रोगों का कहर तेजी से फैल रहा है। पूरे क्षेत्र में घर-घर में बुखार के मरीज हैं। ग्रामीणों की बार-बार शिकायत के बाद कुछ गांवों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा कैंप लगाए गए, लेकिन ज्यादातर गांवों में इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही है। संपर्क मार्ग बदहाल होने के कारण ग्रामीण इलाज के लिए मुख्यालय तक मुश्किल से पहुंच पा रहे हैं।

यह हैं लक्षण


बचाव


रोकथाम के प्रयास किए जा रहे हंै


X
Sheour - शहर में मलेरिया के 10 दिन में 155 मरीज मिले
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..