Hindi News »Madhya Pradesh »Sheopur» नए सत्र में विद्यार्थी खुद करेंगे खाद्य सामग्री की जांच

नए सत्र में विद्यार्थी खुद करेंगे खाद्य सामग्री की जांच

नए शिक्षण सत्र में स्कूलों के विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ- साथ कई प्रकार की ट्रेनिंग दी जाएगी। बच्चों को ट्रैफिक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 04:45 AM IST

नए सत्र में विद्यार्थी खुद करेंगे खाद्य सामग्री की जांच
नए शिक्षण सत्र में स्कूलों के विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ- साथ कई प्रकार की ट्रेनिंग दी जाएगी। बच्चों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी, समय-समय पर छात्र-छात्राओं की काउंसलिंग करने के अलावा खाद्य पदार्थ में मिलावट की जांच करना सिखाया जाएगा। विद्यार्थी खुद ही खाद्य सामग्री में मिलावट की जांच कर सकेंगे। इसके लिए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि नियंत्रण विभाग के निरीक्षक स्कूल में जाकर छात्र-छात्राओं को ट्रेनिंग देंगे।

इसमें बच्चे स्वयं खाद्य सामग्री में मिलावट की जांच का तरीका सीखने के बाद परिजन को भी जागरूक करेंगे। स्कूल शिक्षा विभाग एवं फूड सैफ्टी विभाग के सहयोग से विद्यालय स्तर पर प्रशिक्षण के लिए विशेष सेशन चलेगा। इस कवायद का उद्देश्य बच्चों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता लाना है। जिला शिक्षा अधिकारी अजय कटियार ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान की तर्ज पर अब स्वास्थ्य भारत अभियान पर भी काम होगा। इसकी शुरूआत नए सत्र से होने जा रही है। दैनिक उपयोग की खाद्य सामग्री में मिलावट से जनस्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ता है। स्वास्थ्य भारत अभियान के तहत लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए स्कूली बच्चों को खाद्य पदार्थ में मिलावट का पता करना सिखाया जाएगा। खाद्य सुरक्षा विभाग ने मिलावट जांचने के लिए बच्चों को प्रशिक्षित करने की योजना बनाई है। इसके लिए शिक्षा विभाग ने खाद्य एवं औषधि विभाग को निर्देश जारी किए हैं। निरीक्षक स्कूल में जाकर बच्चों को प्रशिक्षण देंगे। इसमें विशेषज्ञ भी मौजूद रहेंगे। वे छात्रों को पोषक व सुरक्षित खाद्य पदार्थों के सैंपल लेने की प्रक्रिया भी बताएंगे। इसके लिए स्कूलों में 25 से 35 मिनट का सेशन रहेगा। इस सेशन के दौरान खाद्य निरीक्षक बच्चों को मिलावट की जांच का तरीका और भोजन में पौष्टिकता के विभिन्न पहलुओं से परिचित कराएंगे।

वहीं विद्यार्थियों की अभिरुचि की पहचान करने के उद्देश्य से कक्षा 10वीं के छात्र-छात्राओं का क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) 9 से 21 अप्रैल तक ऑनलाइन होगा। शासकीय हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी स्कूल में कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों का प्रथम चरण का अभिरुचि परीक्षण गत फरवरी में हो चुका है। अब दूसरा चरण संबंधित स्कूलों में 9 से 21 अप्रैल के बीच आयोजित होगा। इसके लिए संकुल प्रभारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं।

अिभयान

शिक्षा विभाग और खाद्य सुरक्षा औषधि विभाग के तालमेल से होगा स्वास्थ भारत अभियान पर काम

विद्यालय स्तर पर चलेगा ट्रेनिंग सेशन

स्वास्थ्य भारत अभियान के तहत सभी स्कूलों में विद्यार्थियों को हल्दी, तेल, लाल मिर्च, आटा, दूध आदि खाद्य सामग्री में मिलावट की पहचान करने व सैंपल लेने की ट्रेनिंग दी जाएगी। खाद्य निरीक्षक स्कूल में जाकर बच्चों को समझाएंगे कि वे किस तरह खाद्य सामग्री मिलावटी होने की पहचान कर सकते हैं। यह प्रशिक्षित विद्यार्थी अपने अभिभावकों को भी मिलावटी खाद्य पदार्थ के प्रति जागरूक करने का काम करेंगे। विद्यालय स्तर पर चलने वाले ट्रेनिंग सेशन के लिए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग के साथ चर्चा कर जल्द तारीखवार कार्यक्रम घोषित किया जाएगा। अजय कटियार, डीईओ , श्योपुर।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sheopur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×