• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sheopur
  • Sheour - अपनी दुकानें खोलकर दूसरे व्यापारियों की बंद कराते रहे कांग्रेसी, सवर्णाें के विरोध के डर से दुकानें खुलने से पहले ही बंद कराने पहुंच गए जिलाध्यक्ष
--Advertisement--

अपनी दुकानें खोलकर दूसरे व्यापारियों की बंद कराते रहे कांग्रेसी, सवर्णाें के विरोध के डर से दुकानें खुलने से पहले ही बंद कराने पहुंच गए जिलाध्यक्ष

श्योपुर शहर के टोड़ी बाजार का नजारा, जो कांग्रेस के बंद के बाद भी खुला रहा । दुकान बंद न करने पर दुकानदार से बहस...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 05:06 AM IST
श्योपुर शहर के टोड़ी बाजार का नजारा, जो कांग्रेस के बंद के बाद भी खुला रहा ।

दुकान बंद न करने पर दुकानदार से बहस करते कांग्रेसी।

दुकानदार- नहीं बंद करूंगा दुकान का शटर, जिलाध्यक्ष बोले- तो फिर नोटा पर ही टिके रहना

सुबह जब कांग्रेस जिलाध्यक्ष चौहान अपने समर्थकों व कार्यकर्ताओं के साथ बाजार बंद कराने पहुंच रहे थे तो बाजार में एक-दो दुकानें ही खुल रही थी। ऐसे में कपड़ा व्यापारी की दुकान पर उन्होंने हाथ जोड़कर दुकान बंद करने की अपील की। जिस पर व्यापारी ने कहा कि वह सामान्य वर्ग से है, जब 6 को सवर्णों ने बंद का एलान किया था तब कांग्रेस ने हमारा साथ नहीं दिया था। इसलिए वह दुकान बंद नहीं करेगा। इस पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने जवाब सुनकर कहा कि अगर दुकान बंद नहीं करें तो ठीक, लेकिन फिर नोटा पर ही टिके रहना।

विधायक ग्वालियर में, बंद का विजयपुर में नहीं दिखा असर

प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष व विजयपुर विधायक रामनिवास रावत विजयपुर छोड़ ग्वालियर के बंद में शामिल हुए। वह कांग्रेस के नेतृत्व में बाजार बंद कराने साइकिल से निकले। जबकि विजयपुर में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ही बाजार बंद कराने निकली। लेकिन दुकानदारों ने कांग्रेस के इस बंद का समर्थन नहीं किया। यहीं हालात बड़ौदा, वीरपुर व कराहल कस्बों में भी रहे। हालांकि वीरपुर में कुछ समय बंद रहा, लेकिन कुछ देर बाद ही दुकानें खुल गई।

ग्वालियर में रैली निकालते विजयपुर विधायक रामनिवास रावत।

कांग्रेस से टिकट मांग रहे सर्राफ की ज्वेलरी की दुकान और चुनाव प्रचार समिति के सदस्य राठौर का टीवीएस का शोरूम खुला रहा

श्योपुर विधानसभा से कांग्रेस के टिकट की मांग कर रहे कुंजबिहारी सर्राफ अपनी पार्टी के नेताओं के साथ बाजार बंद कराने तो निकले लेकिन सुबह 10 बजे उनकी खुद की ज्वेलरी दुकान और उनके बेटे का होंडा का शाेरूम खुला रहा। कांग्रेस नेता के यह प्रतिष्ठान विरोध के बाद भी बंद नहीं ह़ुए। इसी तरह कांग्रेस चुनाव प्रचार समिति के सदस्य ओमप्रकाश राठौर की टीवीएस बाइक की एजेंसी भी दिनभर खुली रही।

बंद के दौरान कांग्रेस नेता कुंजबिहारी की दुकान खुली।

जिलाध्यक्ष व कांग्रेसियों को काले झंडे दिखाने पहुंचे सवर्ण समाज के लोग।

दुकानें खुलीं तो दोबारा दूसरा गुट निकला बाजार बंद कराने, पुलिस ने रोका तो माने

कांग्रेस के जिलाध्यक्ष चौहान जब समर्थकों के साथ वापस निवास पर पहुंचे तो कांग्रेस उपाध्यक्ष रामलखन हिरनीखेड़ा, संजीव कुशवाह, राहुल चौहान, उत्तम चौधरी सहित अन्य कार्यकर्ता बाजार बंद कराने के लिए निकलने लगे। उनका कहना था कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने बाजार खुलने से पहले ही बंद करा दिया, जबकि बाजार खुलने का समय तो 10 बजे के बाद का है। इसलिए अब वह दुकानों को बंद कराएंगे। इस पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष के पास खड़े टीआई सुनील खेमरिया बाजार को दोबारा बंद कराने जा रहे हिरनीखेड़ा और उनके समर्थकों को रोक लिया और उन्हें जाने नहीं दिया। कांग्रेस उपाध्यक्ष का कहना है कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने आंदोलन के नाम पर खानापूर्ति की है। विरोध न झेलना पड़े इसलिए वह पहले से बंद बाजार में घूमे।

दोबारा बाजार बंद कराने जाते समय रामलखन व अन्य कांग्रेसियों को पुलिस रोकती हुई।