• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sheopur
  • 7 से 15 साल पहले मर चुके लोगों के खाते में भेजी सूखा राहत, जिंदा किसान भटक रहे
--Advertisement--

7 से 15 साल पहले मर चुके लोगों के खाते में भेजी सूखा राहत, जिंदा किसान भटक रहे

जिले में सूखा राहत बांटने के मामले में पटवारियाें की मनमानी कम नहीं हो रही है। पहले किसानों के खातों में सूखा राहत...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 06:30 AM IST
जिले में सूखा राहत बांटने के मामले में पटवारियाें की मनमानी कम नहीं हो रही है। पहले किसानों के खातों में सूखा राहत की राशि भेजने के लिए पैसे मांगने की शिकायत आई, अब मृत किसानों के खाते में यह राशि भेजने का मामला सामने आया है। स्थिति ये है कि जो सूखा राहत का पैसा जिंदा किसानों के खाते में जाना था, उसे ऐसे किसानों के खाते में ट्रांसफर कर दिया है, जो अब इस दुनिया में ही नहीं हैं। ऐसे में जिन किसानों का हकीकत में नुकसान हुआ, वे कलेक्ट्रेट के चक्कर लगाने को मजबूर हैं।

इस मामले को लेकर प्रेमसर के किसानों ने गुरुवार को कलेक्टर को एक आवेदन देकर अवगत करवाया। इस पर कलेक्टर ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है। लेकिन किसानों का कहना है कि इस मामले में कलेक्टर को दो बार पहले भी अवगत करवाया गया है, लेकिन कलेक्टर हर बार-बार जांच का आश्वासन देकर टाल रहे हैं। मामले को बढ़ता देख अब भाजपा के नेता इस लड़ाई में कूद गए हैं। उनका भी आरोप है कि इस मामले से वे भी कलेक्टर को कार्रवाई के लिए कह चुके हैं लेकिन कलेक्टर ने अब तक इस पर संज्ञान नहीं लिया है।

भाजपा के नेता ही प्रशासन पर लगा रहे आरोप, बोले- कलेक्टर हमारी ही नहीं सुनते, हमने भी कई बार इस मामले को देखने को कहा

15 मई को जनसुनवाई में कलेक्टर से सूखा राहत न मिलने की शिकायत करते लोग।

कलेक्टर को अवगत कराया


मरे हुए लोगों के नाम सूची में जोड़े


इन मृतकों के नाम पर जारी हुई राशि

1- हजारी पुत्र रामनाथ मीणा- तीन साल पहले मौत

मुआवजा : 34000 रुपए

2-पाना प|ी सोनेराम- 11 साल पहले मौत

मुआवजा : 6776 रुपए

3-मांगीलाल पुत्र बंशीलाल मीणा- 7 साल पहले मौत

मुआवजा: 23378 रुपए

4-नेनगा पुत्र पन्ना धोबी- 15 साल पहले मौत

मुआवजा : 13200 रुपए

शिकायत मिली है, इस मामले में जांच करवा देंगेे