ठेले और दुकानों का सामान सड़क पर रखा होने से बिगड़ी ट्रैफिक व्यवस्था, कार्रवाई फिर भी नहीं

Sheopur News - बड़ौदा नगरीय क्षेत्र में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है। करोड़ों रुपए की जमीन अतिक्रमण...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:10 AM IST
Sheour News - mp news dangers of traffic and shops are not kept on the road no action yet
बड़ौदा नगरीय क्षेत्र में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है। करोड़ों रुपए की जमीन अतिक्रमण की चपेट में हैं। आलम यह है कि कस्बे में राजस्व विभाग की पांच हेक्टेयर जमीन पर भी लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। इसमें एक हेक्टेयर जमीन तो न्यायालय भवन के लिए आवंटित की गई है। राजस्व विभाग की जमीन के अलावा कस्बे में नाले और मुक्तिधाम को भी नहीं छोड़ा है। वहीं बाजार में ठेले और दुकानों का सामान सड़क पर रखा होने की वजह से ट्रैफिक व्यवस्था बिगड़ रही है। लेकिन इसके बावजूद भी इस समस्या का निराकरण करने कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।

छात्रावास और सरकारी कार्यालयों के आसपास की जमीन भी अतिक्रमण से घिर गई है। तीनों प्रमुख नालों की जमीन पर बढ़ता अतिक्रमण कस्बेवासियों के लिए सबसे बड़ी समस्या है। क्योंकि नालों के दोनों तरफ अवैध भवन निर्माण से नालों के प्राकृतिक बहाव क्षेत्र का दायरा सिमट गया है। इस कारण बारिश के सीजन में उफनते नाले कई दिनों तक पूरे कस्बे के लिए आफत बन जाते हैं। बड़ौदा नगरीय क्षेत्र में बेशकीमती सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे और नालों पर अतिक्रमण की होड़ 10 साल से लगी हुई है। सरकारी जमीन पर ज्यादातर अतिक्रमण रसूखदारों के हैं। यही वजह है कि अतिक्रमण हटाने के मामले में प्रशासन के अधिकारी बेबस नजर आते हैं। जबकि नगर परिषद की बैठकों में कई बार अतिक्रमण चिह्नित कर प्रशासन के सहयोग से सरकारी जमीन मुक्त कराने संबंधी ठहराव प्रस्ताव पारित किए गए। परिषद ने अतिक्रमण हटाने की मुहिम भी छेड़ी , लेकिन मुहिम अंजाम तक पहुंचने से पहले ही दम तोड़ गई। लोगों का कहना है कि मनमाने अतिक्रमण से कस्बे की सुंदरता को ग्रहण लग रहा है।

जिसका खामियाजा कस्बे की 18 हजार आबादी को भुगतना पड़ रहा है। जिला प्रशासन व नगर परिषद प्रशासन को इस मामले में प्रभारी पहल की दरकार है। उधर इस संबंध में तहसीलदार का कहना है कि निर्वाचन कार्य खत्म होते ही अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जाएगी।

नहर की जमीन का पट्टा कराने की फिराक में अतिक्रमणकारी: कस्बे में प्रभावशाली लोगों और अफसरों की मिलीभगत से सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे को वैध कराने का खेल भी चल रहा है। कस्बे में श्योपुर- कुहांजापुर हाईवे पर चंबल नहर शाखा एल 1 के पास जल संसाधन विभाग की जमीन पर कई लोगों ने नजरें लगी हुई है। नहर की जमीन पर कब्जा करने के बाद लोग पट्टा कराने की फिराक में घूम रहे हैं। कस्बे के रतोदन रोड और महाशिवरात्रि मेला मैदान पर भी अतिक्रमण होने लगे हैं।

वहीं आनंद गोस्वामी तहसीलदार, बड़ौदा का कहना है कि सरकारी जमीन पर जहां अवैध अतिक्रमण की शिकायतें हैं उनके खिलाफ निश्चित कार्रवाई होगी। निर्वाचन कार्य से निपटते ही अतिक्रमण चिह्नित कर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

नगर की यातायात व्यवस्था सुधारने की ओर जिम्मेदार नहीं दिखा रहे रुचि

बाजार मेंे अतिक्रमण की वजह से जाम की स्थिति बनती हुई।

मेन बाजार और सब्जी मंडी में तेजी से बढ़ रहा अस्थाई अतिक्रमण

बड़ौदा में एक तरफ सरकारी जमीन कब्जाने की होड़ चल रही है तो दूसरी तरफ सड़क किनारे अस्थायी अतिक्रमण बेलगाम रफ्तार से बढ़ रहे हैं। मेन बाजार में कंपनी दरवाजा से लेकर रतोदन दरवाजे तक दुकानों के आगे 8 फीट तक अस्थाई निर्माण हो रहे हैं। बागर तिराहा, बस स्टैंड और सब्जी मंडी में फुटपाथ गायब हो गए हैं।

नाले के आसपास लोग बना रहे पक्के मकान

बड़ौदा कस्बा तीन तरफ से नालों से घिरा है। बस स्टैंड नाला, अस्पताल नाला और रतोदन नाले के दोनों तरफ पक्के मकान बन गए हैं। वर्तमान में तीनों नालों के किनारे 600 से ज्यादा मकान अवैध रूप से बने हैं। वार्ड 12 में बस स्टैंड से लेकर वार्ड 11 कटीला कुएं तक नाले के दोनों तरफ अतिक्रमण हो गया है। अफसरों की नाक के नीचे अभी भी बेरोकटोक नालों की जमीन पर भवन निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। मजे की बात यह है कि नाले की तरफ पिलर खड़े करके बनाए जा रहे इन भवनों का आकार हर साल बढ़ाया जा रहा है।

X
Sheour News - mp news dangers of traffic and shops are not kept on the road no action yet
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना