• Hindi News
  • Mp
  • Sheopur
  • Sheour News mp news lagen pasted the message on the door no one came home this is our true love with loved ones

लाेगाें ने दरवाजे पर चस्पा किए संदेश; कोई घर नहीं आए, यही अपनों से हमारा सच्चा प्रेम

Sheopur News - फक्कड़ चौराहा क्षेत्र में लोगों ने चलाया हमारा वार्ड सतर्क है अभियान जनता कर्फ्यू के दौरान शहर के फक्कड़...

Mar 23, 2020, 08:15 AM IST

फक्कड़ चौराहा क्षेत्र में लोगों ने चलाया हमारा वार्ड सतर्क है अभियान

जनता कर्फ्यू के दौरान शहर के फक्कड़ चौराहा क्षेत्र में रविवार को लोगों ने अलग अलग अंदाज में कोरोना वायरस के खिलाफ जागरूकता दिखाई। कई जगह लोगों ने अपने घर के बाहर दरवाजे पर संदेश चस्पा किया। जिसमें लिखा था मैं किसी से मिलने न किसी के घर जाऊं न कोई मुझसे मिलने मेरे घर आएं, यही आज की तारीख में अपनों से किया गया सच्चा और निस्वार्थ प्रेम है। वार्ड 15 में कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता अभियान ‘मेरा वार्ड सतर्क है’ चलाया गया। इसके तहत लोगों ने सोशल मीडिया पर वीडियो एवं मैसेज शेयर करके कोरोना वायरस से बचाव के लिए ‘क्या करें क्या ना करें’ के संबंध में जागरूकता फैलाई। शाम को पूर्व पार्षद रामा वैष्णव के निवास व इसके आसपास अधिकांश घरों में लोगों ने घरों के बाहर इकट्ठे होकर थालियां बजाई। महिलाएं और बच्चों ने भी थाली और तालियां बजाकर कोरोना को भगाने का संदेश दिया।

जिला अस्पताल में अलग से होगा खांसी-जुकाम के मरीजों का पंजीयन

जिला अस्पताल में जनता कर्फ्यू का पूरा ध्यान भी रखा गया, यहां सिर्फ मरीज व एक व्यक्ति को ही अनुमति दी गई, जबकि अस्पताल परिसर में आने वाले अन्य लोगों को मना कर दिया गया। इसके साथ ही सेनेटाइजर से हाथ धुलाई के बाद लोगों को एंट्री दी गई और खांसी-जुकाम व बुखार के लिए मरीजों के लिए अलग से ओपीडी बना दी गई। जबकि डॉक्टरों के चेंबर भी अलग कर दिए। जहां सिर्फ एक बार में एक ही व्यक्ति को एंट्री दी गई। शहर में आई मास्क की कमी को लेकर प्रशासन ने एनआरएलएम के माध्यम से कपड़े के मास्क बनवाना शुरु कर दिए है, ताकि बाजार में इसकी पूर्ति की जा सके। इसके अलावा जिला अस्पताल में भी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

बहुत दिनों के इंतजार के बाद देखा हिसाब-किताब

प्रतिष्ठित सराफा व्यवसायी कुंजबिहारी सर्राफ ने जनता कर्फ्यू के बीच रविवार का दिन घर पर ही बिताया। आमतौर पर वह पहले रविवार को छुट्टी होने के चलते कभी खेत तो कभी दूसरे कस्बों में आते-जाते रहते थे। लेकिन जनता कर्फ्यू के चलते वह रविवार को वह घर ही रहे। जहां वह दो महीने से अपने हिसाब-किताब को लेकर बैठ गए, क्योंकि उन्हें इसके लिए बीते दो महीने से समय नहीं मिल रहा था और महज 1 घंटे का काम नहीं कर पा रहे थे, जिसे उन्होंने जनता कर्फ्यू वाले दिन पूरा किया।

बंद से जीता श्योपुर, क्योंकि सभी ने किया समर्थन

जनता कर्फ्यू के तहत किए गए बंद श्योपुर के लोगों ने पूर्ण समर्थन किया और कोरोना वायरस की हार को लेकर किए गए इस स्वैच्छिक कर्फ्यू में सभी व्यापारियों व आम लोगों ने भरपूर सहयोग दिया। यहां सबकुछ बंद होने के बाद भी किसी तरह की परेशानी सामने नहीं आई। जबकि बंद के बीच मुआयना करने के लिए एसडीएम रूपेश उपाध्याय दल के साथ देर शाम शहर भर में घूमें और हालातों का जायजा लेने के साथ ही बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन व सार्वजनिक स्थानों का निरीक्षण किया।

कोरोना के खिलाफ बंद से जीता श्योपुर, मासूम की जिद: पापा मुझे तो जनता कर्फ्यू देखना है बस


बाजार बंद, व्यापारियों ने खेला लूडो

ट्रेन बंद, इंतजार ही करते रहे लोग

पहली बार लगा कि काम का काेई तनाव नहीं रहा

बिल्डर प्रियंक उर्फ राजा चौहान अमूमन बिजनेस के सिलसिले में घर से बाहर ही रहते हैं, लेकिन लंबे समय बाद रविवार के दिन उन्हाेंने परिवार के साथ मनाया। परिवार के साथ फिल्म देखी अाैर बच्चाें के साथ गपशप की। वे कहते हैं कि उन्हें यह पल बेहद सुखद लगा, जब काम का कोई तनाव नहीं था। वाकई में शानदार रविवार... सपरिवार...।

कई वर्षों से बच्चों के साथ खेल ही नहीं खेले थे

प्रतिष्ठित व्यवसायियों में शुमार रामस्वरुप गर्ग ने पहली बार इतनी फुर्सत में दिन बिताया। घर पर वह करीब आठ घंटे अपने नाती-पोतों के साथ कैरम और शतरंज खेले। जो समय बचा उसमें अपने परिवार के साथ फिल्म भी देखी। गर्ग बताते हैं कि जो खेले सालों से नहीं खेले थे, वाे नाती-पाेताें के संग खेले। जनता कर्फ्यू ने मेरे बचपन के दिन लौटा दिए।

अस्पताल में रहा पुलिस का पहरा। सिर्फ मरीजों को मिली एंट्री।

प्रतिष्ठित सराफा व्यवसायी कुंजबिहारी नेे बाजार बंद हुअा ताे उठाली हिसाब-किताब की फाइल।

प्रियंक सिंह चौहान ने अपने परिवार के साथ मूवी देखकर बीताया दिन।

व्यवसायी रामस्वरुप गर्ग ने अपने नाती के साथ कैरम खेलते बीताया दिन।

रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान जहां लोग कोरोना वायरस के संभावित संकट के प्रति जागरूक रहे तो बचकानी जिद का नजारा भी देखने को मिला। शहर की मधुवन कॉलोनी निवासी संजय तिवारी को अपने 5 साल के बेटे डुग्गू की बचकानी जिद पूरी करने के लिए घर से बाहर निकलना पड़ा। दरअसल डुग्गू ने जिद कर ली कि उसे जनता कर्फ्यू देखना है। आखिरकार संजय तिवारी अपने बेटे को घुमाने के लिए घर से बाहर निकलना पड़ा।

शहर के फक्कड़ चौराहा क्षेत्र में घरों के बाहर चस्पा किए संदेश।

रेलवे स्टेशन पर बैठे मुंबई से आए युवा।

दुकान में बैठ कर खेला लूडो।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना