पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

624 मंदिरों की जमीन का रिकॉर्ड होगा दुरुस्त

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रिकॉर्ड दुरुस्त करने के लिए बनेगी कमेटी

धर्मस्व विभाग के तहत आने वाले मंदिरों के रख-रखाव को लेकर शनिवार को कलेक्टर चेंबर में बैठक की गई। इसमें मंदिरों की कमेटी गठित करने के साथ रिकॉर्ड दुरुस्ती के निर्देश दिए गए। जिसमें जिले के सभी 624 मंदिर शामिल गए हंै।

कलेक्टर प्रतिभा पाल ने बैठक में कहा कि राज्य शासन द्वारा जिले के शासकीय मंदिरों की प्रबंधक समिति बनाने जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार व नायब तहसीलदार अपने-अपने क्षेत्र के शासकीय मंदिरों की कमेटी गठित करें। इससे मंदिरों का उचित रख-रखाव होगा। साथ ही प्रबंधन व्यवस्था को प्रभावी बनाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार और नायब तहसीलदार शासकीय एवं औकाफ मंदिरों की बेसिक जानकारी तैयार करें। साथ ही सभी मंदिरों में प्रभारियों की नियुक्ति की जाए। जिससे मंदिरों की जमीन का समुचित उपयोग होगा, जबकि सभी मंदिरों के रख-रखाव की व्यवस्था के अंतर्गत पानी और सफाई व्यवस्था को प्रभावी बनाने की दिशा में राजस्व अधिकारी आवश्यक कदम उठाए।

मंदिरों की भूमि का रिकॉर्ड होगा संधारित, 16 मंदिरों के जीर्णोद्धार का भेजा प्रस्ताव

जिन मंदिरों के लिए भूमि उपलब्ध कराई गई है। उसका रिकार्ड संधारित कराया जाएगा। इसी प्रकार ऐसे मंदिर जिनके पास भूमि नहीं है। उनकी जानकारी संकलित भी की जाएगी। जिले के 16 मंदिरों का जीर्णोद्धार कराने के लिए प्रस्ताव भेजे गए हंै। कलेक्टर ने कहा कि जिले में ऐसे मंदिर जिनका केस चल रहा है। उन केसों का निराकरण कराया जाए।

सफाई के लिए देवस्थानों पर लगेगा पॉलिथीन पर प्रतिबंध

बैठक में तय किया गया कि देवस्थानों पर विशेष कर हर शनिवार को सफाई अभियान चलाया जाएगा, जिसमें श्रद्धालु और प्रबंध कमेटी के सदस्य सफाई करेंगे। इसके अलावा देवस्थानों पर अब से प्रसाद पॉलिथीन में नहीं जाएगा, इसके लिए देवस्थानों पर प्रसाद के लिए लाई जाने वाली पॉलिथीन प्रतिबंधित की जाएगी।

बैठक में एसडीएम श्योपुर रूपेश उपाध्याय, कराहल विजय यादव, वीसी में विजयपुर एसडीएम त्रिलोचन गौड़ ने अपने-अपने क्षेत्र के मंदिरों की जानकारी दी। साथ ही अवगत कराया कि श्योपुर क्षेत्र के 133, बड़ौदा के 38, कराहल के 25 और विजयपुर के 64 मंदिरों के पुजारियों को मानदेय दिया जा रहा है। उन्होंने तहसील क्षेत्र के मंदिरों की स्थिति तथा समिति गठन और लगी हुई भूमि तथा पुजारियों की जानकारी दी।
खबरें और भी हैं...