विज्ञापन

निजी संपत्ति पर बिना अनुमति प्रचार किया तो एक हजार का होगा जुर्माना

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 04:50 AM IST

Sheopur News - लोकसभा चुनाव: प्रचार-प्रसार के लिए सरकारी भवन किए प्रतिबंधित भास्कर संवाददाता | श्योपुर लोकसभा चुनाव में...

Sheour News - mp news private property will be promoted without permission then one thousand will be fined
  • comment
लोकसभा चुनाव: प्रचार-प्रसार के लिए सरकारी भवन किए प्रतिबंधित

भास्कर संवाददाता | श्योपुर

लोकसभा चुनाव में प्रचार-प्रसार के लिए राजनीतक दल, उम्मीदवार को संपत्ति स्वामी की लिखित अनुमति लेना होगी। बिना अनुमति एवं सार्वजनिक दृष्टि से आने वाली किसी भी संपत्ति को स्याही, खड़िया, रंग या अन्य पदार्थ से लिखकर विरुपित करता है तो एक हजार रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा। इस संबंध में निर्वाचन अधिकारी ने आदेश जारी किए हैं। आदेश के तहत किसी भी सरकारी परिसर, भवन, दीवार, पानी की टंकी आदि पर लिखावट, पोस्टर चिपकाना, कटआउट, बैनर, होर्डिंग लगाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी को निजी भवनों पर भी भवन स्वामी की लिखित सहमति एवं नगर पालिका की अनापत्ति लेना जरूरी है। उसके बाद ही भवन स्वामी की दीवार पर झंडे, पोस्टर, बैनर, वाल राइटिंग व अस्थायी फ्लेक्स बोर्ड, लगा सकते हैं। इसके लिए प्रत्याशी को तीन दिन के अंदर एनओसी जारी करने ली गई राशि की रसीद, भवन स्वामी की किराया रसीद, बैनर, पोस्टर, फ्लेक्स बोर्ड, लिखावट पर खर्च की रसीद व संलग्न प्रोफार्मा रिटर्निंग ऑफिसर को भवनवार प्रस्तुत करना होगा। झंडे, बैनर, पोस्टर, फ्लैक्स बोर्ड, पर ऐसा कुछ भी नहीं लिखा जा सकेगा, जिससे किसी भी समुदाय में असंतोष पैदा हो।

बिना अनुमति राजनीतिक दल, चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी या विज्ञापन कंपनियों द्वारा सरकारी सम्पत्ति या निजी भवन का भवन स्वामी की अनुमति के बिना प्रचार-प्रसार में उपयोग करता है तो संबंधित विभाग एवं भवन स्वामी द्वारा संपत्ति विरूपण के लिए थाने में भादंवि की धारा 188 एवं संपत्ति विरुपण निवारण अधिनियम की धारा 3 के तहत एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। खर्च की वसूली दोषी व्यक्ति से भू-राजस्व की बकाया के रूप में की जाएगी। साथ ही संबंधित पुलिस थाने में संबंधित विभाग द्वारा एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।

गांवों में पंचायत सचिव, थाना प्रभारी व पटवारी की जिम्मेदारी

ग्रामीण क्षेत्रों में सम्पत्ति निवारण की जिम्मेदारी पंचायत सचिव, पटवारी और थाना प्रभारी की है। संबंधित दल द्वारा मूल स्वरूप में लाई गई सरकारी एवं निजी सम्पत्ति का विवरण हर दिन रिटर्निंग अधिकारी व अपर जिला मजिस्ट्रेट शिवपुरी को देना होगा। यही जानकारी चुनाव आयोग के प्रेक्षकों को दी जाएगी।

X
Sheour News - mp news private property will be promoted without permission then one thousand will be fined
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन