15 साल में 6 बार औसत से कम बारिश, 4 साल सूखा, अब 4 दिन से बारिश बंद, 53% खेत खाली

Sheopur News - जिले में इस बार निर्धारित समय से करीब 13 दिन देरी से आया मानसून तीन दिन बरसने के बाद शांत हाे गया। जिले में चार दिन से...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:20 AM IST
Sheour News - mp news rainfall less than 6 times in 15 years 4 years drought rain closes for 4 days 53 far below the farm
जिले में इस बार निर्धारित समय से करीब 13 दिन देरी से आया मानसून तीन दिन बरसने के बाद शांत हाे गया। जिले में चार दिन से बारिश नहीं हुई है। धान की रोपाई और सोयाबीन की बोवनी का अंतिम समय चल रहा है, लेकिन पर्याप्त बारिश नहीं होने से किसान बोवनी नहीं कर पा रहे हैं। अभी तक जिले में 50 फीसदी बोवनी भी नहीं हो सकी है। ऐसे में एक तरफ किसानों को बोवनी पिछड़ने की चिंता सता रही है तो दूसरी तरफ खेतों में अंकुरित पौधों के लिए हर दिन बढ़ता तापमान भी किसानों की धड़कनें बढ़ा रहा है।

कृषि विभाग ने चालू सीजन के लिए कुल 1 लाख 42 हजार हेक्टेयर में खरीफ फसल की बोवनी का लक्ष्य रखा है लेकिन लक्ष्य की तुलना में काश्तकारों ने अभी तक सिर्फ 47 फीसदी रकबे में बोवनी कर पाए हैं। चार दिन से विभाग को कहीं से बोवनी का रकबा बढ़ने की जानकारी नहीं मिली है। सिंचित व असिंचित इलाकों में लगभग 73 हजार हेक्टेयर में खेत अभी भी खाली हैं। पिछले सप्ताह बारिश के जहां बोवनी हो गई थी, उन खेतों में सोयाबीन, बाजरा, मूंग, उड़द का बीज अंकुरित होकर पौधे निकलने शुरू हो गए हैं। बारिश नहीं होने के कारण हर दिन बढ़ता तापमान खेतों में अंकुरित पौधों के लिए प्रतिकूल हो रहा है। जिले में पिछले 15 साल में 6 बार अल्पवर्षा की स्थिति रही। इसमें भी चार ऐसे थे जब जिले में भीषण सूखे की स्थिति बनी। इस बार भी जरूरत के समय पूरे जिले में बारिश नहीं होने से कृषि हलकों में बेचैनी बढ़ती जा रही है। जानकार किसान और कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि अगले चार दिन में बारिश नहीं हुई तो खेतों में अंकुरित पौधे धूप से मुरझाने लगेंगे। कीट प्रकोप की आशंका भी बन सकती है।

श्योपुर के पास एक खेत में धान की पाैध लगाते किसान व मजदूर।

श्योपुर के पास एक खेत में धान की पाैध लगाते किसान व मजदूर।

अब तक सबसे कम बड़ौदा तहसील, सर्वाधिक वीरपुर में हुई बारिश

तहसील बारिश

वीरपुर 194.7

विजयपुर 175.0

श्योपुर 173.2

कराहल 162.2

बड़ौदा 140.8

15 साल में हुई बारिश

वर्ष बारिश

2005 708.4

2006 424.8

2007 443.7

2008 936.10

2009 512.7

2010 696.40

2011 1035.8

2012 916.8

2013 1196.8

2014 865.7

2015 590.1

2016 868.2

2017 406.4

2018 1026.4

2019 169.2

नोट: उपरोक्त आंकड़े भू-अभिलेख शाखा के अनुसार मिलीमीटर में हैं। जिले की औसत बारिश 822 मिमी है।

पिछले साल से अभी तक 46.7 मिमी ज्यादा बारिश

जिलेभर में अभी तक कुल 169.2 मिमी औसत बारिश हो चुकी है। इस अवधि में वर्ष 2018 में 122.5 मिमी वर्षा हुई थी। पिछले साल की तुलना में देखें तो इस बार अभी तक 46.7 मिमी बारिश ज्यादा हो गई है, लेकिन जिले में मंगलवार से बादल नहीं बरस रहे हैं।

काम पिछड़ा, बोवनी और अंकुरित फसलों के लिए जल्द बारिश जरूरी


पर्याप्त बिजली न मिलने से भी परेशान किसान

जिले में पर्याप्त बारिश न होने से धान की पौध रोपने के लिए क्षेत्रीय किसानों को जद्दोजहद करनी पड़ रही है। बोरवेल से पानी देकर किसान बोवनी करें, इसके लिए बिजली चाहिए। किसानों को 10 घंटे बिजली चाहिए लेकिन चार घंटे भी बिजली नहीं आती है। तीन दिन से कटौती एवं वोल्टेज कम मिलने पर सोंठवा, दांतरदा क्षेत्र के किसान भोगी का फीडर पर पहुंचे। बिजली सप्लाई नहीं सुधरी तो क्षेत्रीय किसान आंदोलन कर सकते हैं।

Sheour News - mp news rainfall less than 6 times in 15 years 4 years drought rain closes for 4 days 53 far below the farm
X
Sheour News - mp news rainfall less than 6 times in 15 years 4 years drought rain closes for 4 days 53 far below the farm
Sheour News - mp news rainfall less than 6 times in 15 years 4 years drought rain closes for 4 days 53 far below the farm
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना