पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षक अब अभिभावकों को बताएंगे बच्चों की कमजोरी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हर महीने अभिभावकों को एक बार स्कूल बुलाया जाए और शिक्षकों के साथ बैठकर बच्चों के किए कार्य, शैक्षिक और गैर शैक्षिक गतिविधियां बताई जाएं। बच्चों की टेक्स्ट बुक व सिलेबस पर भी चर्चा की जाए। बच्चों की खूबियां एवं कमियां अभिभावकों को बताएं। यह आदेश राज्य शिक्षा केंद्र की ओर से जिला शिक्षा अधिकारी को दिया गया है।

अभिभावक और शिक्षकों की बैठक के बाद उनके हस्ताक्षर लेकर उसकी रिपोर्ट हैंडबुक में दर्ज की जाएगी। नेशनल अचीवमेंट सर्वे व बेसलाइन टेस्ट के सर्वे की रिपोर्ट में आंकड़ों में गिरावट दर्ज करने के बाद राज्य शिक्षा केंद्र ने यह निर्देश जारी किए हैं। निर्देश में कहा है कि बेसलाइन व मिड लाइन टेस्ट से 8वीं तक के बच्चों का मूल्यांकन हो जाता है। इसके बाद ब्रिज कोर्स समझाने में उन्हें आसानी होती है। सीबीएसई ने मांगी पढ़ाने के तरीकों की केस स्टडी: सीबीएसई ने पहली बार शिक्षकों से शिक्षा से जुड़े विभिन्न विषयों पर केस स्टडीज मांगी है। बोर्ड ने हाल ही में स्कूलों को इस संबंध में सकुर्लर भेजा है। इसमें कहा है कि किसी भी सेक्टर को विकसित करने के लिए उसमें शोध की काफी आवश्यकता होती है। शिक्षण पद्धति में इसी के महत्व को ध्यान में रखते हुए इस साल पहली बार देशभर के शिक्षकों से पढ़ाई के रोचक तरीकों की केस स्टडी मांगी है। इन केस स्टडीज के माध्यम से सीबीएसई नए शिक्षकों को पढ़ाई में नवाचार करना सिखाएगी। सीबीएसई को जो जानकारी यानी स्टडी सीबीएसई को भेजी जा रही है, वह यदि किसी शिक्षक ने तैयार की है तो उसे स्कूल प्रिंसिपल से सत्यापन करवाना होगा। वहीं राज्य शिक्षा केंद्र ने सर्वशिक्षा अभियान की समीक्षा के बाद निर्देश दिए हैं। इसके तहत दक्षता, उन्नयन एवं शाला सिद्धि कार्यक्रम को प्राथमिकता में शामिल करने पर जोर दिया है। यह शिक्षकों का दायित्व है कि वे स्कूल में बच्चों की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराएं। शिक्षकों को स्कूल में बच्चों को शिक्षित करने पर अधिक ध्यान देना होगा।

नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा के लिए फार्म भरने की आज अंतिम तारीख
मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा जैदा में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय की प्रवेश परीक्षा 2019 के आवेदन पत्र भरने के लिए 30 नवंबर काे अंतिम तारीख है। प्राचार्य वीके उपाध्याय ने बताया कि प्रवेश परीक्षा के आवेदन पत्र केवल आॅनलाइन भरे जाएंगे। आॅफलाइन आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। आवेदक को एडमिशन लिंक पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। जिसका एसएमएस मोबाइल पर प्राप्त होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद निर्धारित प्रपत्र आॅटोमेटिक जनरेट होगा, जिसे पूर्ण रूप से भरकर वर्तमान में अध्ययनरत विद्यालय के प्रधानाध्यापक से हस्ताक्षर कराकर कक्षा 5वीं में वर्तमान में अध्ययनरत रहने का सर्टिफिकेट अपलोड करना होगा। इस प्रक्रिया के लिए कोई शुल्क नहीं लगेगा। आवेदन प्रक्रिया डेस्कटाॅप, लेपटाॅप, मोबाइल, टेबलेट एवं किसी भी कंप्यूटर आॅनलाइन सेंटर से 30 नवंबर की तारीख में की जा सकती है।

खबरें और भी हैं...