--Advertisement--

25 साल की दुश्मनी दस मिनट में खत्म, इधर..15 साल से अलग रह रही पत्नी नए मकान की शर्त पर साथ रहने को राजी

Sheopur News - नेशनल लोक अदालत में सालों पुराने मामलों का मिनटों की समझाइश में पटाक्षेप हो गया। एक तरफ जहां साल पुरानी दुश्मनी...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:55 AM IST
Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
नेशनल लोक अदालत में सालों पुराने मामलों का मिनटों की समझाइश में पटाक्षेप हो गया। एक तरफ जहां साल पुरानी दुश्मनी महज दस मिनट में खत्म हो गई, वहीं दूसरी प|ी के आने से 15 साल से पति से अलग रह रही पहली प|ी नए मकान की शर्त पर साथ रहने को राजी हो गई। शनिवार को नेशनल लोक अदालत में इस तरह के दर्जनों मामलों में समझौता कराया गया।

शनिवार को जिला कोर्ट और तहसील स्तर पर नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें मारपीट, जमीन विवाद और वैवाहिक प्रकरणों में राजीनामा कराए गए। इसके अलावा वन विभाग, बैंक, बिजली कंपनी और नपा सहित अन्य विभागीय मामलों में छूट के आधार पर राजस्व वसूली की गई। जिला कोर्ट में आयोजित नेशनल लोक अदालत में दो ऐसे मामलों का भी निराकरण हुआ, जो 15 से 25 सालों से चल रहे थे। इनमें एक प्रकरण खेती की सिंचाई को लेकर था, जबकि दूसरा प्रकरण वैवाहिक जीवन से जुड़ा था। इन दोनों मामलों में अदालत की ओर से मध्यस्थता करवाकर राजीनामा कराया गया और प्रकरणों को खत्म किया गया। इसके अलावा लोक अदालत में वन विभाग के 19 केस निपटाए गए। इसी तरह से नपा, बिजली कंपनी और अन्य विभागों के कर सहित अन्य प्रकरणों का निदान किया गया।

दूसरी प|ी के आने से नाराज होकर अलग हो गई थी प|ी, जज ने समझाया तो पति के साथ रहने को खुशी-खुशी हो गई राजी

गुरुनावदा निवासी महावीर मीणा की शादी 15 साल पहले हलगांवड़ा निवासी पिस्ता बाई से हुई। लेकिन दोनों के बीच शादी के बाद पारिवारिक बातों को लेकर ऐसी खटपट हुई कि पिस्ता बाई पति महावीर मीणा को छोड़कर अपने मायके चली गई। प|ी के मायके जाने के बाद महावीर ने एक ही साल के भीतर दूसरी शादी कर ली। जिस पर पहली प|ी पिस्ता बाई ने अदालत का दरवाजा खटखटाया। यहां पति महावीर से खर्चे का परिवाद लगाया, तकरीबन 14 साल से यह प्रकरण न्यायालय में चल रहा है। मामले में महावीर मीणा व पिस्ता बाई के वकील यानी अल्ताफ कुरैशी और गजानंद राठौर ने नेशनल लोक अदालत के माध्यम से मध्यस्थता का रास्ता खोजना शुरु किया। जिसे न्यायालय ने लोक अदालत में भेज दिया। यहां दोनों पक्षों के बीच सुलह कराई गई, जिसमें पिस्ता बाई ने कहा कि वह तभी महावीर के साथ रहेगी, जब वह उसे अलग मकान बनाकर देगा, इस बीच महावीर अलग मकान बनाकर देने और उसे साथ रखने को राजी हो गया और दोनों प|ियों की जिम्मेदारी उठाने को राजी हुआ। जहां शनिवार को दोनों को माला पहनाकर साथ भेजा गया।

लोक अदालत में समझाइश के बाद साथ रहने को जारी हुए पति-प|ी।

दर्जनों बार आपस में लट्ठ चले, न्यायाधीश ने समझाया तो दोनों पक्ष बोले- वाकई हम तो लड़कर सिर्फ पैसा बर्बाद कर रहे थे

सोंठवा निवासी बद्रीप्रसाद प्रजापति और बमूलीगुंसाई गांव स्थित धोकड़ी का टपरा निवासी लक्ष्मण बैरवा के बीच में खेत में पानी देने की बात पर 25 साल पहले विवाद हो गया था। इस विवाद में लक्ष्मण ने बद्रीप्रसाद प्रजापति पर हमला कर दिया था। इस विवाद में बद्रीप्रसाद की हड्डी टूट गई थी। इस तरह 25 सालों में एक दर्जन बार दोनों के बीच मारपीट की घटनाएं हुईं। वकील सुल्तान सुमन ने बताया कि दोनों ही परिवार खेत पर पहुंचते थे तो कई बार उनके बीच में झगड़े हुए और लाठी-डंडे चले। 25 साल से दोनों परिवार एक-दूसरे को दुश्मनी की नजर से देख रहे थे। मारपीट का यह प्रकरण अदालत में चल रहा था, लेकिन दोनों ही परिवारों का न्यायालय में चल रहे केस से कोई फायदा नहीं हो रहा था। ऐसे में दोनों के समझ आया कि वह आपस में लड़कर समय व पैसा दोनों बर्बाद कर रहे हैं। 25 साल से वह इस लड़ाई को कोर्ट व बाहर दोनों जगह लड़ रहे हैं। दोनों वकीलों ने लोक अदालत के माध्यम से दोनों के बीच मध्यस्थता कराई और उन्हें यही बात समझाई। जिस पर लोक अदालत में दोनों पक्षों को बुलाया गया और उनके बीच राजीनामा कराया गया। यहां 25 साल पुरानी दुश्मनी दोनों के बीच महज 10 मिनट में खत्म हो गई।

मुख्यमंत्री ने जब बिजली के बिल माफ कर दिए हैं तो अब किस बात का बिल जमा करें...

लोक अदालत में बिजली कंपनी के मामले में भी पहुंचे। मेवाती मोहल्ला निवासी मोहम्मद अशफाक को नेशनल लोक अदालत में आने का सूचना-पत्र बिजली कंपनी ने भेजा। जब मोहम्मद अशफाक कोर्ट में पहुंचे तो उन्होंने बिजली कंपनी के अफसरों को आड़े हाथ लेना शुरु कर दिया। सभी बिल लेकर पहुंचे मोहम्मद अशफाक ने कहा कि, उसके पास सभी बिल हैं, जो उसने जमा किए हैं। इन पर जेई से लेकर जीएम तक की सील लगी हुई है। अब मुख्यमंत्री ने पुराने बिलों को वैसे भी माफ कर दिया है, फिर किस बात के पुराने बिलों की बात कर रहो हो। इस पर कंपनी के कर्मचारी ने कहा कि कोर्ट में चल रहे केस में आना होगा। इस पर उपभोक्ता ने कहा कि अगर आपने केस बंद नहीं कराया तो मेरी गलती है, मेरी तरफ से पूरे बिल जमा है। इसे खत्म करो, नहीं तो मैं उल्टा केस करूंगा। इसके बाद आनन-फानन में प्रकरण को खत्म कराया गया।

समूह ने 1.10 लाख का बकरी के लिए लोन लिया, 1.98 लाख में समझौता

लोक अदालत में आई समूह की महिलाएं।

प्रेमसर में स्व-सहायता समूह चलाने वाली महिलाएं भी कोर्ट पहुंचीं। समूहों की इन महिलाओं में धन्नी बाई, चंद्रकलां बाई, द्वारिका, गीता, तस्वीर, पुष्पा, दुलारी, कैदारी, केड़ा, वर्मा, संपत्ति बाई कुल 11 महिलाएं थी। जिन्हें 10 साल पहले प्रेमसर यूको बैंक की ओर से बकरी पालन के लिए लोन मंजूर किया गया। इन्हें प्रति बकरी के लिए 10-10 हजार रुपए का लोन दिया गया। इस तरह 11 बकरी लेने पर 1.10 का लोन दिया गया। लोन लेने के बाद 10 साल तक समूह द्वारा कमाए जा रहे रुपए में से एक-एक हजार रुपए की बैंक किस्त भी काटी गई, लेकिन 10 साल बाद समूह खत्म हो गया। इस पर बैंक ने उन्हें लोन की रकम जमा करने नोटिस थमा दिए। जबकि मामला कोर्ट में पहुंच गया, यहां उनसे करीब 5.50 लाख रुपए की मांग बैंक द्वारा की जा रही थी। इस मामले में नेशनल लोक अदालत में 1.98 लाख रुपए की राशि का लेकर मध्यस्ता कराई गई।

अदालत में 146 प्रकरणांे का निराकरण

नेशनल लोक अदालत में 146 प्रकरण निपटाए गए। जिनमें प्रीलिटिगेशन के विभागों के करीब 62, बैंक के 6, बिजली के 12, नपा के 33, पुलिस परामर्श केन्द्र 4, परिवार न्यायालय के 3 प्रकरण निपटाए गए। जिनमें 6 लाख 23 हजार 626 रुपए की राजस्व वसूली की गई। इसके अलावा 84 मामलों में आपसी सुलह और समझौते से पक्षकारों के मामलों का निराकरण किया गया। मोटर दुर्घटना के 7 मामलों में 15.85 लाख रुपए की राशि का मुआवजा दिया गया। आपराधिक प्रकरण 13 का निदान हुआ। 20 चैक बाउंस के मामलों में 24.08 लाख की राशि का निराकरण हुआ।

Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
X
Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
Sheour News - the 25 year old antagonism ended in ten minutes here the wife living apart for 15 years agreed to stay with the new house
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..