• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Sheopur
  • Sheour - अब चप्पल बनाने का व्यवसाय करेंगी आदिवासी महिलाएं
--Advertisement--

अब चप्पल बनाने का व्यवसाय करेंगी आदिवासी महिलाएं

सहरिया व समूहों से जुड़ी अन्य महिलाएं अब चप्पल बनाने का भी व्यवसाय करेंगी। अब तक यह महिलाएं समूहों में जुड़कर...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 05:36 AM IST
सहरिया व समूहों से जुड़ी अन्य महिलाएं अब चप्पल बनाने का भी व्यवसाय करेंगी। अब तक यह महिलाएं समूहों में जुड़कर अगरबत्ती, सेनेट्री पेड, साबुन, सर्फ, टॉयलेट क्लीनर, हैंडवॉस, गुड चक्की व अन्य सामग्री बनाने का व्यवसाय कर रही थी। जिन्हें अब चप्पल बनाने का काम भी दिया जाएगा।

महिला समूहों द्वारा चप्पल बनाने के काम के लिए समूहों को ट्रेनिंग दी जाएगी, जबकि इन्हें ट्रेनिंग उपरांत कच्चा माल उपलब्ध कराते हुए उसकी सेल के लिए मार्केट तैयार कराया जाएगा। जिससे कि समूहों की महिलाओं द्वारा बनाई चप्पल मार्केट में बिक सके। अब तक जिले में बने 1200 से अधिक समूहों का सालाना टर्नओवर 25 करोड़ के आस-पास है। जिनमें से कई महिलाएं ऐसी भी जो साला 10-12 लाख की कमाई कर रही है। इन महिलाओं को व्यवसाय के क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिए सरकार नई योजना लेकर आई है, जिसमें चप्पल व्यवसाय को भी अब जोड़ा गया है। इसके लिए सरकार इन समूहों को कर्ज देगी, जिसे यह समूहों उक्त व्यवसाय को कर उसे चूकता करेंगे और अपनी आमदनी बढ़ाएंगे।