तितली आसन व वक्रासन मधुमेह के लिए लाभकारी

Shivpuri News - कोलारस के ग्राम रिजौदा के शासकीय प्राथमिक विद्यालय परिसर में योग पीठ हरिद्वार के तत्वाधान में जिला योग प्रचारक...

Jan 17, 2020, 08:25 AM IST
कोलारस के ग्राम रिजौदा के शासकीय प्राथमिक विद्यालय परिसर में योग पीठ हरिद्वार के तत्वाधान में जिला योग प्रचारक द्वारा निःशुल्क 5 दिवसीय योग चिकित्सा व ध्यान योग शिविर के चौथे दिन किया गया योग अभ्यास में जिला योग प्रचारक विशाल आनंद ने बताया कि ग्राम में आयोजित इस शिविर में आ रहे ग्रामीण युवाओं व बच्चों को योग आसनों व प्राणायामों का नियमित सुबह 6 से 7.30 बजे तक अभ्यास कराया जा रहा है। इस में सभी अभ्यर्थियों को मण्डूकासन, वक्र.आसन, शशकासन व गौमुखासन बैठ कर किए जाने वाले अन्य आसन जैसे चक्की आसान तितली आसन व कोण आसन का अभ्यास कराया। इनमें मण्डूकासन, तितली आसन व वक्रासन मधुमेह रोग के लिए लाभकारी हैं।

गौमुखासान से गुप्ता बीमारियां होती हैं ठीक: इनके नियमित अभ्यास से इन्सुलिन का लेवल संतुलित होता है एवं रोग में लाभ मिलता है। गौमुखासन से गुप्त अंग संबंधी रोगों जैसे अंडकोष वृद्धि यौन रोगों, स्त्री रोगों, संधिवात व गठिया में तो उपयोगी है। साथ ही लिवर, गुर्दे व छाती को भी पुष्ठ बनाता है। शशकासन से आंत यकृत, अग्नाशय एवं गुर्दों को ऊर्जा मिलती है। साथ ही स्त्रियों के गर्भाशय को पुष्ट करके उदर, कमर व कूल्हों की चर्बी कम करता है। दमा व ह्रदय रोगियों के लिए विशेष लाभप्रद है।

योगाभ्यास करते ग्रामीण और छात्र।

चक्की आसन से पेट व कमर की चर्बी होती है कम

चक्की आसन से पेट व कमर की चर्बी कम होती है व भुजाओं की ताकत बढ़ती है और रीढ़ की हड्डी लचीली, मजबूत बनती है। इस आसन को स्लिप डिश, कमर दर्द व साईटिका के रोगियों को नहीं करना है। ऐसे रोगियों को आगे झुकने वाले कोई भी आसन नहीं करने चाहिए। इस बात का विशेष ध्यान रखें, योग व आसनों को नियमित दिनचर्या में शामिल कर जीवन भर निरोगी रह सकते हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना