कालियामर्दन मंदिर से चुराईं मूर्तियां बरामद

Shivpuri News - उसी क्षेत्र में रहने वाले युवक ने ही चोरी की, पुलिस ने दूसरे ही दिन संदेही को पकड़कर मामले का खुलासा किया भास्कर...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:20 AM IST
Shivpuri News - mp news stolen idols recovered from kaliyamardan temple
उसी क्षेत्र में रहने वाले युवक ने ही चोरी की, पुलिस ने दूसरे ही दिन संदेही को पकड़कर मामले का खुलासा किया

भास्कर संवाददाता| शिवपुरी

शहर के पुरानी शिवपुरी स्थित कालियामर्दन मंदिर से मूर्तियां और छत्र व मुकुट चोरी की घटना का दूसरे ही दिन पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने चुराई गईं सारी मूर्तियां बरामद कर ली हैं। साथ ही दुकानदार द्वारा गलाया मुकुट व छत्र भी मिल गया है। पुलिस ने संदेह के आधार पर युवक को पकड़कर पूछताछ की। युवक ने चोरी का राज उगल दिया। पुलिस कंट्रोल रूम शिवपुरी में पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह ने मामले का खुलासा किया।

जानकारी के मुताबिक कालियामर्दन मंदिर के मंगलवार-बुधवार की रात ताले तोड़कर अज्ञात चोर अष्टधातु और पीतल की मूर्तियां सहित चांदी का छत्र व मुकुट चुराकर ले गया था। पुलिस ने बुधवार को पुजारी कुंवर नाथ गौड़ की सूचना पर मुकदमा दर्ज कर मामले में छानबीन शुरू कर दी। मंदिर के फर्श पर जूतों के निशानों से चोरी करने वाला एक ही शख्स होने का अनुमान लगा। पुलिस ने क्षेत्र में घूमने वाले संदेहियों को पकड़कर पूछताछ की। इन्हीं में शामिल जगदीश उर्फ जानू (25) पुत्र महेश सोनी निवासी राधारमण मंदिर के पास पुरानी शिवपुरी से भी पूछताछ की। पुलिस की सख्ती के आगे युवक ने मंदिर से चाेरी की वारदात कुबूल कर ली। पुलिस ने मंदिर से चुराईं राधाकृष्ण की अष्टधातु की एक मूर्ति, पीतल की ग्वालबाल की 5, दुर्गामाता की एक, गणेश जी एक, पार्वती एक और लड्डू गोपाल की 3 बरामद कर ली हैं। दुकानदार सुभाष सोनी द्वारा गलाया गया छत्र व मुकुट भी बरामद कर लिया है।

दुकानदार ने छत्र व मुकुट तुरंत गला दिया

आरोपी जगदीश सोनी ने पुलिस को बताया कि चुराईं मूर्तियां, मुकुट व छत्र सुभाष सोनी को दे दिए हैं। पुलिस ने सुभाष (79) पुत्र रामभरोसे सोनी निवासी भार्गव का मकान जवाहरगंज बड़ी सब्जी मंडी के पास शिवपुरी से माल बरामद कर लिया है। आरोपी ने मुकुट व छत्र गला दिए थे। आरोपी उक्त माल को गला कर नए आभूषण बनाकर बेच देता था।

X
Shivpuri News - mp news stolen idols recovered from kaliyamardan temple
COMMENT