• Hindi News
  • National
  • Narwar News Mp News The Second Installment Of The Arrears Was To Meet Teachers A Year Ago Deo Said Delayed Budget

एक साल पहले मिलना थी शिक्षकों को एरियर की दूसरी किस्त, डीईओ बोले- बजट न होने से देरी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
धरने पर बैठे शिक्षक। (फाइल फोटो)

सीधी बात
शिक्षकों के एरियर का भुगतान क्यों अटका है।

हमने तो प्रयास किया और संकुल प्राचार्यों को पत्र भी लिखा। अब बजट नहीं है, इसलिए भुगतान अटका है।

जब बजट नहीं था तो फिर करैरा के बालक उत्कृष्ट और पिछोर के मल्हावनी संकुल के शिक्षकों का भुगतान किस आधार पर हुआ।

हमारे पास तब एक ग्लोबल बजट था। इसमें जिन शिक्षकों के डाक्यूमेंट तैयार होकर आ गए उनका भुगतान हो गया। जो रह गए हैं, उनका भी बजट आने पर भुगतान हो जाएगा।

क्या संकुल से प्राचार्य या बाबू द्वारा एरियर की राशि के एवज में बिल भुगतान रोकने की बात सामने आई।

हमारे पास लिखित में ऐसी कोई शिकायत नहीं आई। अब भी यदि कोई लिखित शिकायत करता है तो हम कार्रवाई करेंगे। पर राशि का भुगतान बजट न होने की वजह से रुका है।

आदेश आने के बाद भी भुगतान नहीं हुआ

साल भर से छठवां एरियर अटका है और दो तीन साल से शिक्षकों की 10 दिन की हड़ताल अवधि का वेतन रुका है। लोकसभा चुनाव के पहले ही विभाग पर आदेश आ गए फिर भी हमारा भुगतान नहीं हो सका। अब विभाग कहता है बजट नहीं है। ऐसे में शिक्षक राशि न मिलने से परेशान हैं। आंदोलन और ज्ञापन देने की रणनीति बना रहे हैं। स्नेह सिंह रघुवंशी,जिलाध्यक्ष राज्य शिक्षक संघ

हरीओम चतुर्वेदी, जिला शिक्षा अधिकारी

हमने लड़ाई लड़ी, अब कह रहे बजट नहीं है

शिक्षकों को एक साल हो गया लेकिन छठवें वेतनमान की राशि का भुगतान नहीं किया गया। हमने ज्ञापन भी दिए प्रदर्शन भी किए तब कहीं जाकर संकुलों से शिक्षकों के बिल लगे। अब बताया जा रहा है कि बजट नहीं है। हम इस संबंध में पुन: ज्ञापन देकर शिक्षकों के हित में एरियर की राशि जल्द देने की मांग करेंगे। राम कृष्ण रघुवंशी, संभागीय उपाध्यक्ष, राज्य शिक्षक संघ

खबरें और भी हैं...