शिवपुरी

--Advertisement--

न्यायालय की अवमानना पर पूर्व सीएमएचओ को नोटिस

Danik Bhaskar

Sep 12, 2018, 05:26 AM IST


भास्कर संवाददाता | शिवपुरी

हाईकोर्ट ग्वालियर के जारी आदेश पर स्वास्थ्य विभाग ने सीएमएचओ शिवपुरी से पांच बिंदुओं पर प्लान मांगा था। लेकिन तत्कालीन सीएमएचओ डॉ एमएस सागर द्वारा उक्त जानकारी का प्लान बनाकर विभाग को नहीं भेजा। जिससे हाईकोर्ट में शासन को अवमानना का सामना करना पड़ा। इस लापरवाही के चलते अपर संचालक ने तत्कालीन सीएमएचओ डॉ सागर को नोटिस भेजा है। जानकारी नहीं भेजने संबंधी जवाब सात दिन के अंदर मांगा है। इसके बाद विभाग द्वारा आगे की कार्रवाई की जाएगी।

जानकारी मुताबिक अपर संचालक (प्रशासन) संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं मप्र ने 7 सितंबर को तत्कालीन सीएमएचओ शिवपुरी एवं वर्तमान में नेत्र रोग विशेष जिला अस्पताल शिवपुरी डॉ एमएस सागर को अनुशासनात्मक कार्रवाई का नोटिस भेजा है। नोटिस में लिखा है कि डॉ सागर सीएमएचओ शिवपुरी के पद पर पदस्थ थे। उसी दौरान जनहित याचिका में न कोई जवाब प्रस्तुत किया और विभाग के पत्र पर 5 बिंदुओं के संबंंध में प्लान भेजकर प्रतिवेदन हाईकोर्ट ग्वालियर में पेश नहीं किया। इसी वजह से विभाग को हाईकोर्ट की अवमानन का सामना करना पड़ा। जिससे विभाग की छवि न्यायालय के समक्ष धूमिल हुई है।

विभाग ने लिखा... और स्वयं को अनुशासनात्मक कार्रवाई का भागी बना लिया

विभाग ने नोटिस में लिखा है कि आपको (डॉ सागर) सीएमएचओ शिवपुरी का प्रभार इस आशय से दिया था कि आप अपने दायित्वों का निर्वहन पूरी कर्तव्यनिष्ठा से करें। लेकिन आपके द्वारा अपने दायित्वों का निर्वहन न करते हुए स्वयं को अनुशासनात्मक कार्रवाई का भागी बना लिया है। यह मप्र सिविल सेवा आचरण नियम के तहत कदाचरण की श्रेणी में आता है। इसलिए आप अनुशासनात्मक कार्रवाई के भागी बन गए हैं। एक सप्ताह में अपना प्रतिवाद उत्तर नहीं देने पर एक पक्षीय कार्रवाई कर प्रकरण का निराकरण किया जाएगा।

Click to listen..