पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Shivpuri News This Time It Will Be 11 Days To Wait In The First Two And 10 Days Of 2013 Came The Results

इस बार 11 दिन करना होगा इंतजार, 2013 के पहले दो और 10 दिन में आए थे नतीजे

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मतदान तो बुधवार को हो गया पर प्रत्याशियों की नींद परिणामों को लेकर उड़ी हुई है। प्रत्याशी के समर्थक अब उसके घर पर जाकर मतदान के बाद कितने मत उनके प्रत्याशी को मिले है। यह आंकलन में जुटे है। और दावा भी कर रहे है कि जीत तो उनके ही प्रत्याशी की होगी। हालांकि इस प्रक्रिया में क्या परिणाम जनता ने दिया है यह जानने में अभी मतदान के दिन से लेकर 11 दिसंबर मतगणना तक 11 दिन का इंतजार करना होगा।

बीते तीन विधानसभा चुनावों का आकलन करें तो मतदान के उपरांत मतगणना के दिन का इंतजार क्रमश: मतदाताओं ने 2,10 और 11 दिन किया है। और पिछले विधानसभा चुनाव के परिणाम छोड़ दें तो इस बार प्रत्याशियों को 11 दिन का इंतजार करना पड़ रहा है। उम्मीदवार भले ही चुनाव की थकान उतारने में लगे है। लेकिन उम्मीदवारों के समर्थक अपने चहेते प्रत्याशी के घर जाकर जीत हार की कवायद में जुटे है।

मतदान के बाद प्रत्याशी हों या फिर मतदाता, सभी को नतीजों का बेसब्री से इंतजार रहता है। हर कोई चाहता है कि जितनी जल्दी हो सके, नतीजे आ जाएं और विधायक कौन, सरकार किसकी, इन सवालों का जवाब मिल जाए। लेकिन चुनाव आयोग के सुरक्षागत कारणों से लोगों का इंतजार हर चुनाव में बढ़ता ही रहा है। 2003 में मतदान के महज दो दिन के भीतर नतीजे आ गए थे तो 2008 में 10और 2013 में 12 दिन बाद परिणाम आया था। गत वर्ष की तरह इस बार भी नतीजों के लिए पूरे 11 दिन इंतजार करना होगा। 11 दिसंबर को दोपहर बाद नतीजे आएंगे। 28 नवंबर को जिले की पांचों विधानसभा के मतदान के बाद ईवीएम में प्रत्याशियों का भाग्य बंद हो गया। स्ट्रांग रूम में ईवीएम और बैलेट यूनिट बंद रख दी गई है।बुधवार को हुई वोटिंग और प्रशासन द्वारा जारी किए गए वोटिंग प्रतिशत के साथ ही इस बात का चर्चा सबसे ज्यादा रही कि कौन जीत रहा है? खासतौर पर जिले की पांचों विधानसभा के नतीजों के लिए लोगों की तरह तरह की अटकलें लगने भी शुरु हो गई है। हर कोई अपने-अपने आंकलन व अटकलों के आधार पर उम्मीदवारों को हराने और जिताने भी लगे। बुधवार को भी शाम 5 बजे वोटिंग खत्म होने तक तो इस चर्चा ने और जोर पकड़ लिया। लेकिन अभी परिणाम के लिए लोगों को 11 दिसंबर तक इंतजार करना होगा।

28 नवंबर को हुए मतदान में साइंस कॉलेज मतदान केंद्र पर खड़े मतदाता।

पिछले तीन विस चुनाव में मतदान और मतगणना का हिसाब किताब
2003 में 1 दिसंबर को वोटिंग हुई। 4 दिसंबर को नतीजे आ गए थे।

2008 में 27 नवंबर को वोटिंग हुई। नतीजे 8 दिसंबर को आए थे।

2013 में 25 नवंबर को मतदान हुआ। काउंटिंग हुई 8 दिसंबर को।

अब 2018 में 28 नवंबर को मतदान हुआ। काउंटिंग होगी 11 दिसंबर को।

वर्ष 2003 के विधानसभा में यह रहे थे परिणाम
विस उम्मीदवार कांग्रेस जीत दल

शिवपुरी यशोधरा राजे सिंधिया गणेश गौतम 25734 भाजपा

करैरा लाखनसिंह बघेल रणवीर रावत 5340 बसपा

कोलारस ओमप्रकाश खटीक अंगूरी राजे 32112 भाजपा

पिछोर केपी सिंह स्वामी लोधी 16125 कांग्रेस

पोहरी हरिवल्लभ शुक्ला बैजयंती वर्मा 6040 समानता दल

वर्ष 2008 के विधानसभा में यह रहे थे परिणाम
विस उम्मीदवार कांग्रेस जीत दल

शिवपुरी माखनलाल वीरेंद्र रघुवंशी 1751 भाजपा

करैरा रमेश खटीक प्रागीलाल 12816 भाजपा

कोलारस देवेंद्र जैन राम सिंह यादव 238 भाजपा

पिछोर के पी सिंह भैया साहब लोधी 26835 कांग्रेस

पोहरी प्रहलाद भारती हरिवल्लभ शुक्ला 19390 भाजपा

वर्ष 2013 के विधानसभा में यह रहे थे परिणाम
विस उम्मीदवार कांग्रेस जीत दल शिवपुरी यशोधरा राजे सिंधिया वीरेंद्र रघुवंशी 11145 भाजपा

करैरा ओमप्रकाश खटीक शकुंतला खटीक 10320 कांग्रेस

कोलारस देवेंद्र जैन रामसिंह यादव 24953 कांग्रेस

पिछोर प्रीतम लोधी के पी सिंह 7113 कांग्रेस

पोहरी प्रहलाद भारती हरिवल्लभ शुक्ला 3625 भाजपा

चुनाव परिणाम 2 दिन में आ जाना चाहिए
बुधवार को रात 11 बजे तक तो हम समर्थकों के साथ खुद का आंकलन करते रहे। गुरुवार सुबह 6 बजे ही समर्थक कार्यकर्ता घर आ गए और वही चर्चा हुई। जहां तक परिणाम की बात है तो चुनाव के बाद दो दिन में परिणाम आ जाए तो ठीक रहता है। समर्थकों को अवश्य 11 तारीख का इंतजार बेसब्री से है। कैलाश कुशवाह,बसपा प्रत्याशी पोहरी

11 को तय हो जाएगा
हमारे यहां तो सुबह से ही समर्थक आ रहे है और बैराड़,नरवर,पोहरी के आंकड़े बता रहे है। सर्वाइवल विथ द फिटेस्ट का नियम यहां लागू होता है। कौन जीतेगा कौन नहीं यह सब 11 दिसंबर को तय हो जाएगा। प्रहलाद भारती,भाजपा प्रत्याशी,पोहरी

खबरें और भी हैं...