शुजालपुर

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Shujalpur News
  • सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होगी कॉलेजों की वार्षिक व सेमेस्टर परीक्षाएं
--Advertisement--

सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होगी कॉलेजों की वार्षिक व सेमेस्टर परीक्षाएं

जिले के सरकारी-निजी कॉलेजों में भी इस दफा पहली बार वार्षिक व सेमेस्टर पद्धति से होने वाली परीक्षाएं सीसीटीवी...

Dainik Bhaskar

Mar 05, 2018, 05:00 AM IST
जिले के सरकारी-निजी कॉलेजों में भी इस दफा पहली बार वार्षिक व सेमेस्टर पद्धति से होने वाली परीक्षाएं सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में होंगी। परीक्षा के दौरान जो भी केंद्र पर या कक्ष में अव्यवस्था फैलाएगा, नकल करने-करवाने में शामिल होगा, वह तुरंत पकड़ में आ जाएगा। मप्र शासन उच्च शिक्षा विभागीय मंत्रालय से इस संबंध में हाल ही में मप्र के सभी विवि के कुलसचिवों, संभागीय अधिकारियों से लेकर प्राचार्यों तक को पत्र भेजकर निर्देश दे दिए गए हैं। इसमें स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि विवि द्वारा अनिवार्य रूप से सुनिश्चित किया जाए कि वर्ष 2018 में होने वाली सभी परीक्षाएं सीसीटीवी की निगरानी में संचालित की जाएं। पी.एचडी. मौखिक परीक्षा की वीडियो या ऑडियाे रिकॉर्डिंग कराई जाए।

उद्देश्य : परीक्षाएं अच्छे व पारदर्शिता के साथ हों

उच्च शिक्षा विभाग उज्जैन संभाग की अतिरिक्त संचालक डॉ. उषा श्रीवास्तव ने इस विषय पर भास्कर से चर्चा में बताया इस व्यवस्था के पीछे विभाग का यही उद्देश्य है कि सभी केंद्रों पर परीक्षाएं अच्छे और पारदर्शिता से हो जाएं। विभाग के वरिष्ठ अधिकारी की ओर से परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी की निगरानी में परीक्षा संचालन के आदेश जारी हुए हैं, जिसका कॉलेजों को पालन करना है। हमारी भी नजर इस व्यवस्था पर रहेगी।

जिले में 6 केंद्रों पर होगी परीक्षा

जिले के लीड बीएसएन शासकीय पीजी कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य डॉ. वी.के. शर्मा बताते हैं शाजापुर जिले में वैसे तो कुल 11 सरकारी-निजी कॉलेज हैं, लेकिन विवि के माध्यम से 6 सरकारी कॉलेजों में ही परीक्षा केंद्र बनाए जाते हैं। इनमें लीड कॉलेज सहित शाजापुर का कन्या महाविद्यालय, शुजालपुर, कालापीपल, मक्सी व पोलायकलां के शासकीय महाविद्यालय भी शामिल हैं। परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी की व्यवस्था के संबंध में आदेश पहली बार मिले हैं। कैमरे कहां लगने हैं, इस बारे में अभी स्पष्ट उल्लेख नहीं है। जो भी निर्देश मिलेंगे, उनका पालन केंद्र प्रबंधन को करना है।

X
Click to listen..