Hindi News »Madhya Pradesh »Shujalpur» जनसहयोग से जुटाए संसाधन और आंगनवाड़ी केंद्र को बना दिया इलाके का बेस्ट प्ले स्कूल

जनसहयोग से जुटाए संसाधन और आंगनवाड़ी केंद्र को बना दिया इलाके का बेस्ट प्ले स्कूल

पुरुषोत्तम पारवानी | शुजालपुर शुजालपुर के फ्रीगंज इलाके के आंगनवाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता ज्योति कुशवाह ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 08, 2018, 05:20 AM IST

पुरुषोत्तम पारवानी | शुजालपुर

शुजालपुर के फ्रीगंज इलाके के आंगनवाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता ज्योति कुशवाह ने केंद्र के बच्चों के लिए सरकारी इंतजाम नाकाफी लगने पर लोगों से जनसहयोग जुटाया और बच्चों के लिए वह सब संसाधन जुटा दिए जो किसी आदर्श प्ले स्कूल में होते हैं। प्ले स्कूल की तर्ज पर ही बच्चों को शिक्षित करने के साथ-साथ अब तक इस केंद्र पर 8 बच्चों को आम लोगों को गोद देकर बेहतर पोषण आहार दिलाते हुए ज्योति कुशवाह ने उन्हें कुपोषण मुक्त कराया है। तीन बच्चे ऐसे भी हैं, जिनके दिल में सुराग था और इस कार्यकर्ता ने उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाकर उपचार दिलाया और ऑपरेशन के दौरान भी उनके साथ खड़ी रही। वार्ड क्रमांक 20 में संचालित राघवगंज स्कूल के पास लगने वाले आंगनवाड़ी केंद्र की सूरत किसी प्राइवेट प्ले स्कूल से कम नहीं है। यहां दीवारों पर बच्चों को सिखाने के लिए क्लिप आर्ट लगे हैं और बैठने के लिए बेंच-कुर्सी, सबकी एक जैसा गणवेश, पानी पीने के लिए नल, घूमने के लिए गार्डन सबकुछ है। केंद्र में ही बच्चों को सरकारी पोषण आहार के अलावा गुड़-मूंगफली और चना हर समय उपलब्ध रहता है,जिसका खर्च भी खुद उठाती हैंै। परिसर में ही बच्चों की माताओं को देने के लिए सुरजना है और पपीते के पौधे लगे हैं। ज्योति की खास बात यह है कि वह आंगनवाड़ी में दर्ज 163 बच्चों को अपने परिवार का हिस्सा समझती है और पहली प्राथमिकता होती है कि उन बच्चों के साथ ही उनके पूरे परिवार की स्वास्थ्य की जानकारी रख मदद करंे।

आंगनवाड़ी में बच्चों को खेल-खेल में शिक्षा देती कार्यकर्ता ज्योति कुशवाह।

लोगों ने लगन देखी, तो संसाधन दान दिए

इस कार्यकर्ता की बच्चों व आंगनवाड़ी केंद्र के प्रति लगन देख रामश्री चतुर्वेदी ने बच्चों के लिए टेबल, रमेश कामरिया ने नल कनेक्शन, अनिता माली ने मंगल दिवस मनाने के लिए ढोलक, ब्रज किशोर परमार ने सभी बच्चों को बैठने के लिए कुर्सी, नरेंद्र अग्रवाल ने पंखा, जया माहेश्वरी ने गार्डन का विकास तथा अनंत सेवा संगठन ने सभी बच्चों को यूनिफॉर्म उपलब्ध कराने में मदद की।

हर बच्चे का शिशु विकास कार्ड

अब यह आदर्श आंगनवाड़ी केंद्र है जहां प्ले स्कूल की तर्ज पर बच्चों को खेल खेल में शिक्षा दी जाती है और हर बच्चे का शिशु विकास कार्ड भरकर परिजन को भी बच्चे की प्रगति के बारे में बताया जाता है। ज्योति ने बताया उसके केंद्र में जन्मजात विकृति व हर्निया रोग से तीन बच्चे पीड़ित हंै जिन्हें उपचार दिलाने के अब वह प्रयास कर रही है।

11 बच्चों को दी नई जिंदगी

ज्योति ने 10 साल में सैकड़ों बच्चों को शिक्षित करने सहित 11 बच्चों को नव जीवन दिया है। फ्रीगंज में रहने वाले बालक वंश मालवीय, बालिका अंजलि के दिल में सुराग का निःशुल्क रोगी सेवा केंद्र हेल्प फॉर यू की मदद से सफल ऑपरेशन कराया। वंश अब पूरी तरह स्वस्थ है और उसे इसी कार्यकर्ता की पहल पर समाजसेवी किशोर खन्ना ने अपने निजी स्कूल में मुफ्त शिक्षा के लिए आजीवन शुल्क मुक्ति दी है। इसी तरह जब अंजलि का ऑपरेशन हुआ, तो परिवार में भय का माहौल बना, लेकिन यहां भी ज्योति ने खुशियों का उजाला देते हुए पूरे समय इंदौर के अस्पताल में अंजलि के परिजन के साथ रहकर उनकी मदद की। इसी केंद्र के बच्चे ऋषभ, मोहित, चंचल, प्रशांत सहित आठ बच्चों को अति कुपोषण की श्रेणी में आने के बाद लोगों को प्रेरित कर मंजूलता व्यास, निशा कवीश्वर सहित अन्य को बच्चे पोषण आहार का खर्च उठाने के लिए गोद दिए। 6 माह तक बच्चों को 1000 प्रतिमाह का पोषण आहार गोद लेने वाले परिवार ने सुलभ कराया और सभी 8 बच्चे कुपोषण की गिरफ्त से बाहर आकर अब खुशहाल जिंदगी जी रहे हैं। बालिका रिया को टीवी की बीमारी हुई तब भी ज्योति कुशवाह ने उसके परिजन को हिम्मत बनाने के साथ ही ठीक होने तक का पूरा उपचार सुलभ कराया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shujalpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×