--Advertisement--

मॉडल सरकारी कॉलेज के लिए 12 करोड़ स्वीकृत

भास्कर संवाददाता | शुजालपुर उच्च शिक्षा के लिए जिले का मॉडल महाविद्यालय परिसर शुजालपुर में विकसित करने...

Danik Bhaskar | Mar 11, 2018, 05:50 AM IST
भास्कर संवाददाता | शुजालपुर

उच्च शिक्षा के लिए जिले का मॉडल महाविद्यालय परिसर शुजालपुर में विकसित करने सर्वसुविधा युक्त भवन निर्माण के लिए विधायक द्वारा भेजी गई कार्ययोजना पर 12.37 करोड़ की स्वीकृति प्रदेश सरकार ने जारी कर दी है। पुराना भवन तोड़कर इस राशि से कॉलेज का नया स्वरूप बनाया जाएगा। शुजालपुर व आसपास के सौ से अधिक ग्रामीण इलाकों के विद्यार्थी उच्च शिक्षा के लिए एक मात्र शासकीय जवाहरलाल नेहरू महाविद्यालय में आते है। वर्तमान में यहां बना भवन 60 साल से भी अधिक पुराना है। यहां अत्याधुनिक शिक्षा संसाधन का अभाव है। समय के साथ तकनीकी आधारित शिक्षा से विद्यार्थी लाभान्वित हो इसलिए अत्याधुनिक सुविधाओं व शिक्षा संसाधनों से लेस भवन का निर्माण खाका तैयार कर विधायक जसवंत सिंह हाड़ा ने प्रस्ताव शासन को भेजा था।

आर्किटेक द्वारा तैयार प्राथमिक डिजाइन अनुसार निर्माण पर करीब 15 करोड़ रुपए खर्च होना बताया गया था, जिसमें आंशिक परिवर्तन कर हाल ही में शासन ने 12.31 करोड़ की स्वीकृति जारी की गई है। इसके अनुसार ग्राउंड फ्लोर सहित कुल चार मंजिला निर्माण होना तय किया गया है। अभी कॉलेज की कक्षाएं अलग-अलग समय में नए व पुराने दो भवनों में संचालित हो रही है। इससे व्यवस्थाओं पर नियंत्रण कठिन होता है। नया भवन बनने से सभी कक्षाएं एक ही समय में एक ही भवन में लगने की स्थिति बन सकेगी। विधायक जसवंत सिंह हाड़ा ने बताया जल्द टेंडर व अन्य प्रक्रिया होने पर कम शुरू होगा। भवन निर्माण के लिए पुराना भवन हटाकर उसी इलाके में ही यह निर्माण होना प्रस्तावित है। तैयार प्रस्ताव पर मिली वित्तीय स्वीकृति के अनुसार नए भवन में 2 हजार 5 सौ 57 वर्गमीटर में ग्राउंड फ्लोर पर प्राचार्य व उपप्राचार्य कक्ष के साथ ही स्टाफ रूम, 840 वर्ग मीटर की पार्किंग, दो बड़े गार्डन, डामरीकृत सड़क, वेटिंग रूम, पेंट्री, वर्चुअल क्लास रूम होगा। बहुउपयोगी स्टेज व सात सौ विद्यार्थियों के एक साथ बैठने योग्य हाल भी इस भवन में आयोजनों को सुंदरता देगा। छात्राओं के लिए कामन रूम भी बनेगा। विद्युत फिटिंग व उपकरणों पर 51 लाख का खर्च होना प्रस्तावित है।

ऐसा बनना है नया कॉलेज परिसर

दिव्यांग रैंप व लिफ्ट के साथ लाइब्रेरी होगी

तीन मंजिल ऊपर तक संचालित कक्षों में उम्रदराज प्रोफेसर व दिव्यांग विद्यार्थी भी आसानी से जा सके, इसके लिए खास रैंप व लिफ्ट इस भवन में होगी। बिजली बंद होने पर भी लिफ्ट बीच में ही बंद नहीं होगी व नजदीकी फ्लोर तक बैठे हुए लोगों को पहुंचाएगी। अत्याधुनिक लाइब्रेरी भी इस भवन में स्थापित की जाना प्रस्तावित है।