• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Shujalpur News
  • मधुमक्खियों के खौफ में पढ़ाई करते हैं तीन सरकारी स्कूल के 200 से ज्यादा बच्चे
--Advertisement--

मधुमक्खियों के खौफ में पढ़ाई करते हैं तीन सरकारी स्कूल के 200 से ज्यादा बच्चे

भास्कर संवाददाता | शुजालपुर करीब आठ साल पहले श्रीराम मंदिर के पीछे स्थित शासकीय स्कूल परिसर में मधुमक्खियों के...

Danik Bhaskar | Feb 21, 2018, 05:55 AM IST
भास्कर संवाददाता | शुजालपुर

करीब आठ साल पहले श्रीराम मंदिर के पीछे स्थित शासकीय स्कूल परिसर में मधुमक्खियों के हमले से एक रहवासी की मौत के बाद भी स्थानीय प्रशासन ने सबक नहीं लिया। यहां आए दिन मधुमक्खी के काटने से लोग घायल हो रहे हैं। इस परिसर में बने तीन स्कूलों के 200 से ज्यादा बच्चों को मधुमक्खियों को डर बना रहता है। स्कूल प्रबंधन और नपा दोनों एक-दूसरे पर जिम्मेदारी डाल रहे हैं। ऐसे में किसी भी दिन इन मधुमक्खियों के हमले से बच्चे गंभीर परेशान में पड़ सकते हैं।

दरअसल मंडी क्षेत्र में श्रीराम मंदिर के पीछे स्थित लाल स्कूल परिसर में नगर पालिका की पानी की टंकी है। इस टंकी से श्रीराम मंदिर व मंडी क्षेत्र के कई इलाकों में प्रतिदिन सप्लाई किया जाता है। टंकी के आसपास आधा दर्जन से ज्यादा मधुमक्खी के छत्ते लगे हैं और आए दिन कोई न कोई इनके हमले में घायल होता है।

वाटर लेवल लेने गए नपा कर्मचारी को शिकार बनाया

दो दिन पहले नगर पालिका जल शाखा के कर्मचारी गोपाल यादव को मधुमक्खियों ने उस समय काट लिया, जब वे करीब 50 फीट ऊपर टंकी का वाटर लेवल लेने गए थे। वाटर लेवल लेने का आटोमैटिक पैमाना खराब होने से पानी का लेवल लेने रोज टंकी पर डरते हुए चढ़ना पड़ता है। बमुश्किल जान बचाकर नीचे उतरे इस कर्मचारी ने बताया इस तरह की घटना आए दिन होती है।

आठ साल पहले मधुमक्खी ने ले ली थी एक व्यक्ति की जान

करीब आठ साल पहले इसी परिसर में मधुमक्खी के हमले से तुलसीराम नामक व्यक्ति की मौत भी हुई थी। इस घटना के बाद भी नपा प्रशासन ने सुध नहीं ली और मधुमक्खियों को हटाने के लिए कोई पहल नहीं हुई। इस परिसर में शारदा माध्यमिक विद्यालय, शासकीय बालक प्राथमिक विद्यालय व शासकीय कन्या प्राथमिक विद्यालय हैं और तीनों स्कूलों में करीब 215 बच्चे अध्ययनरत हैं। ये बच्चे भी हमेशा मधुमक्खियों के खौफ के चलते टंकी के नीचे बने बाथरूम में नहीं जा पाते। स्कूल के शिक्षक महेश बारबर ने बताया मधुमक्खियों को स्थाई रूप से हटाने के लिए नपा को पहल करना चाहिए।

इस तरह स्कूल के पीछे बनी पानी की टंकी पर लगे मधुमक्खी के छत्ते।

नपा को जल्द ही पत्र लिखकर इससे अवगत कराएंगे


घटना की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए कदम उठाएंगे