--Advertisement--

गरीबी के चलते छोड़ रही थी पढ़ाई अब संभाग स्तर पर जगह बनाई

गरीबी के कारण पढ़ाई छोड़ने वाली रीना को रास्ता मिलते ही उसने अपनी काबलियत दिखाते हुए संभाग स्तर पर अपनी जगह बनाने का...

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2018, 07:30 AM IST
गरीबी के कारण पढ़ाई छोड़ने वाली रीना को रास्ता मिलते ही उसने अपनी काबलियत दिखाते हुए संभाग स्तर पर अपनी जगह बनाने का कमाल कर दिखाया है। छात्रावास में रहकर 8वीं तक की पढ़ाई करने वाली रीना अब उज्जैन के संभागीय ज्ञानोदय विद्यालय में पढ़ाई करेंगी। विद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में 1 हजार बच्चों में से रीना ने तीसरा स्थान प्राप्त किया है।

ज्ञात रहे रीना शुजालपुर क्षेत्र के ग्राम खेड़ी मंडलखां की रहने वाली हैं। रीना का परिवार अत्यंत ही गरीब है। रीना की तीन बहनें और एक भाई भी था, जो कि धीरे-धीरे काल के गाल में समा गए। परिवार में रीना एक मात्र जीवित बची। गरीब पारिवारिक परिस्थितियों को देखते हुए उसका परिवार ने रीना को स्कूल भेजना बंद कर दिया। ऐसे में उसके लिए शुजालपुर मंडी का बालिका छात्रावास प्रबंधन वरदान बनकर आया। छात्रावास की वार्डन ने उसके परिवार से संपर्क किया। परिवार ने आर्थिक स्थिति खराब होने का हवाला देकर रीना की पढ़ाई में असमर्थता जाहिर की। वार्डन ने उनसे कहा कि पढ़ाई में किसी तरह की राशि नहीं लगेगी, छात्रावास में भर्ती होने पर शासन द्वारा पढ़ाई आदि का खर्च उठाया जाता है। इस पर बालिका के परिवार वाले तैयार हो गए। रीना को कक्षा पहली में भर्ती कराकर छात्रावास में प्रवेश दिया गया। रीना प्रारंभ में पढ़ाई में अत्यंत कमजोर थीं। छात्रावास के शिक्षकों की मेहनत और उसके हौसले ने उसे कक्षा आठवीं की परीक्षा में अच्छे अंक हासिल हुए। आगे की पढ़ाई के लिए उसने संभागीय मुख्यालय उज्जैन स्थित ज्ञानोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए परीक्षा दी। इसमें उसने 1000 बच्चों में तीसरा स्थान अर्जित किया। अब वह उज्जैन के ज्ञानोदय विद्यालय में आगे की पढ़ाई पूरी करेंगी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..