Hindi News »Madhya Pradesh »Shujalpur» आरोप, सफाई, मनमानी नफा...व्यापारियों को नुकसान.. किसानों का ठगाए...ग्राहक

आरोप, सफाई, मनमानी नफा...व्यापारियों को नुकसान.. किसानों का ठगाए...ग्राहक

मौसम बिगड़ता देख सब्जी-फल मंडी में व्यापारियों ने प्याज के दाम एक ही दिन में 1 हजार प्रति क्विंटल कम कर दिए। बुधवार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 08, 2018, 07:50 AM IST

मौसम बिगड़ता देख सब्जी-फल मंडी में व्यापारियों ने प्याज के दाम एक ही दिन में 1 हजार प्रति क्विंटल कम कर दिए। बुधवार को प्याज बेचने आए किसानों को प्याज की बोरियां रखने की जगह नहीं मिली। मौका देख व्यापारियों ने भी दाम गिरा दिए। इससे किसान भड़क गए और व्यापारियों व मंडी कर्मचारियों से बहस करने लगे। मामला गर्माया और किसानों ने टंकी चौराहे पर जाम लगाने की कोशिश की। इसके बाद किसानों ने कलेक्टर बंगले का घेराव कर दिया।

किसान आंदोलन से सबक ले चुके जिला प्रशासन सहित पुलिस अधिकारी हंगामे की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच गए। एडीएम मीनाक्षी सिंह सहित एसडीएम यू.एस. मरावी ने किसानों और व्यापारियों के बीच मध्यस्थता कर स्थिति संभाली। अधिकारियों ने हंगामे के कारण जानने के बाद तय समय से करीब 3 घंटे बाद दोपहर 12.30 नीलामी शुरू कराई। हालांकि तब तक 200 ट्राॅलियों की उपज लेकर किसान अपने घर लौट गए।

किसान जाम लगाने हाईवे स्थित टंकी चौराहे पर पहुंच गए, अफसरों ने मामला शांत कराया

चार कारण...जिससे हंगामा हुआ और किसान आक्रोशित हो गए

प्याज रखने खाली फड़ नहीं

दो दिन से मंडी में प्याज की 10 हजार कट्टे यानी 5 हजार क्विंटल से ज्यादा आवक दर्ज की गई। बुधवार सुबह 8 बजे से मंडी में किसानों का आना शुरू हो गया। लेकिन यहां किसानों का माल रखने के लिए बनी फड़ (प्लेटफाॅर्म) पर व्यापारियों ने अपना माल रख रखा था। ऐसे में खराब मौसम को देख किसानों की चिंता बढ़ी तो व्यापारियों से बहस शुरू हो गई।

एक ही दिन में दाम गिरना

टिमायची से प्याज बेचने आए मोहन चौधरी ने बताया मंगलवार को इसी मंडी में प्याज की कीमत 2500 रु. प्रति क्विंटल थी, किंतु बुधवार को व्यापारियों ने अच्छी क्वालिटी प्याज के दाम 1500 रुपए क्विंटल लगाए। व्यापारियों ने किसानों से कहा जिसे बेचना है, बेचे नहीं तो वापस ले जाए। खराब मौसम में उपज वापस ले जाने को लेकर 9.30 बजे व्यापारियों के बीच हंगामा शुरू हो गया।

तीन दिन में भाव का टूटना

किसान दो दिन के दाम को लेकर व्यापारियों पर दबाव बनाते रहे, लेकिन व्यापारी 1500 रु. क्विंटल के दाम पर ही अड़े रहे। व्यापारी शेख सलामुद्दीन के अनुसार इंदौर सहित कानपुर की मंडी में तीन दिन से भाव टूट रहे हैं। इंदौर में बुधवार को अच्छी क्वालिटी का प्याज 1800 रुपए बिका। ऐसे में बीते दिन का भाव देना व्यापारियों को नुकसान का सौदा साबित हो रहा था।

मंडी कर्मचारियों पर भी आरोप

किसानों ने पहले जगह और बाद में कम दाम मिलने की शिकायत मंडी कर्मचारियों से की, किंतु कर्मचारियों ने भी किसानों को संतुष्ट नहीं किया। हंगामा शुरू होने के बाद मंडी अध्यक्ष प्रतिनिधि रमेश पाटीदार भी आए तो उन्होंने कह दिया जिसे बेचना है, वो प्याज बेचे, नहीं तो वापस चले जाए। इसके बाद 10.30 बजे किसान सड़क पर उतर आए और कलेक्टर का बंगला घेर लिया।

एक ही दिन में व्यापारियों ने प्याज के दाम 1 हजार रुपए क्विंटल गिराए, नाराज किसानों ने कलेक्टर बंगला घेरा

3500 क्विंटल प्याज वापस ले गए

तीन घंटे हंगामे के बाद अफसरों की समझाइश पर दोपहर 12.30 बजे नीलामी तो शुरू हो गई, लेकिन व्यापारियों ने उसी कम दाम लगाना शुरू किया। व्यापारियों को दाम घटाते रवैये को देख कई किसान अपने प्याज के ट्रैक्टर लेकर घर लौट गए। मंडी में सुबह से करीब 5 हजार क्विंटल से ज्यादा प्याज की आवक हुई थी, लेकिन शाम 4 बजे तक आंकड़ा सिमटकर 2000 क्विंटल ही रह गया। यह प्याज क्वािलटी के मुताबिक 500 रुपए क्विंटल से 1800 रुपए क्विंटल के बीच व्यापारियों खरीदा। बाकी प्याज किसान बगैर बेचे घर ले गए।

खेरची दाम में कोई अंतर नहीं

प्याज के दाम गिरने का असर सिर्फ व्यापारियों तक ही सीमित है। इसका खेरची व्यापारियों और आमजन पर कोई असर नहीं है। खेरची व्यापारियों ने तो मंडी गेट के बाहर 25-30 रुपए किलो के दाम पर ही प्याज बेचे। यानी प्याज के दाम गिरना और बढ़ने का खेल सिर्फ व्यापारियों के हाथों में है। इसी को लेकर हर साल हंगामे की स्थिति बनती है।

काम दाम की शिकायत मिली थी

किसानों के कम दाम लगाने संबंधी आरोप के बाद इंदौर, शुजालपुर सहित अन्य मंडियों में प्याज के दाम की तलाश की गई। सभी जगह गिरावट आई है। रही बात किसानों के लिए शेड आदि की तो इसके लिए मंडी समिति को निर्देशित कर दिया है। - मीनाक्षी सिंह, एडीएम शाजापुर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shujalpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×