• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Shujalpur News
  • नोटबंदी जैसे हाल...जरूरत 2 करोड़ रोज एटीएम में 80 लाख, तीन घंटे में वो भी खाली
--Advertisement--

नोटबंदी जैसे हाल...जरूरत 2 करोड़ रोज एटीएम में 80 लाख, तीन घंटे में वो भी खाली

पहले से ही कैश किल्लत, फसल बेचने वाले किसानों को बोनस मिलने और अक्षय तृतीया से बढ़ी डिमांड एटीएम पर बढ़ी भीड़, 3...

Dainik Bhaskar

Apr 18, 2018, 04:50 AM IST
नोटबंदी जैसे हाल...जरूरत 2 करोड़ रोज एटीएम में 80 लाख, तीन घंटे में वो भी खाली
पहले से ही कैश किल्लत, फसल बेचने वाले किसानों को बोनस मिलने और अक्षय तृतीया से बढ़ी डिमांड

एटीएम पर बढ़ी भीड़, 3 घंटे में ही खाली हो गए एटीएम, आज से और बढ़ेगी दिक्कतें

भास्कर संवाददाता. शाजापुर

बैंकों में कैश किल्लत खड़ी हो गई है। मांग के अनुरूप रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी इसकी पूर्ति नहीं कर पा रही है। खासकर 2 हजार का नोट तो मिल ही नहीं पा रहा। कैश किल्लत पर सीएम के कबूलनामे के बाद मंगलवार को भास्कर ने स्कैन किया तो हालात नोटबंदी जैसे दिखे। शहर के 21 एटीएम में से शाम तक 12 से ज्यादा मशीनों में नोट नहीं थे। तीन घंटे में ही एटीएम खाली हो रहे हैं।

कैश की किल्लत काफी समय से बन रही है, लेकिन अभी इसमें अचानक बढ़ोतरी हो गई। खासकर सीएम के कहने के बाद बड़ी संख्या में रुपए निकाले गए। किसान उपज के दाम लेने बैंक पहुंच रहे हैं। इसके अलावा सीएम द्वारा 16 अप्रैल को शाजापुर से पिछले साल गेहूं बेचने वाले किसानों के खाते में डाली गई बोनस की 200-200 रुपए राशि भी इसका बड़ा कारण है। किसान बोनस की राशि निकालने पहुंच रहे हैं। विवाह सीजन शुरू होने के कारण इन दिनों खर्च बढ़ा है। शहर में कुल 17 बैंक शाखाएं हैं। कुल 21 एटीएम में 1 करोड़ प्रतिदिन कैश की जरूरत होती है। अभी डिमांड 2 करोड़ तक पहुंच गई है, लेकिन कैश 70 से 80 लाख रुपए ही डल रहा है।

नहीं हो पा रही व्यवस्था

बैंक ऑफ इंडिया की ग्रामीण क्षेत्रों की शाखाओं में मंगलवार को कैश खत्म हो गया। कालीसिंध, सुंदरसी, नांदनी शाखाओं में नोट का टोटा पड़ गया। मुख्य ब्रांच में भी मांग के अनुरूप कैश नहीं होने से स्थानीय स्तर पर व्यवस्थाएं नहीं हो सकी। बीओआई अपने एटीएम में भी कैश अपलोड नहीं कर सकी।

भास्कर ने 21 एटीएम की पड़ताल की, 12 में नहीं निकले नोट

आगे क्या... 15-20 दिन तक और बनी रहेगी दिक्कत

अचानक आई यह परेशानी अब कुछ दिनों तक रहेगी। रिजर्व बैंक मांग के अनुरूप कैश उपलब्ध नहीं करा पा रही है। ऐसे में बैंकों से निकाली जा रही राशि मार्केट और मार्केट के व्यापारियों से वापस बैंक तक नहीं पहुंचने तक नोट की किल्लत बनी रहने की संभावना है। इस में 15-20 दिन का समय लग सकता है।

अभी क्या... रुपए डलते ही 3 घंटे में खाली हुई मशीनें

कैश किल्लत की सूचना मिलते ही लोग एटीएम पर पहुंचे। एटीएम पर भीड़ बढ़ने की आशंका देखते हुए बैंकों की अधिकृत संस्थाओं ने मंगलवार सुबह 10 बजे से ही नोट डालना शुरू कर दिए। दोपहर 1 बजे तक सभी एटीएम खाली हो गए। हालांकि एसबीआई के पास कैश स्टॉक है। कई बड़ी ब्रांचों में काफी कैश है। इस स्टॉक की राशि से ग्राहकों को कैश देना शुरू कर दिया है। शाजापुर बैंक शाखा को मंगलवार को शुजालपुर शाखा से 7 करोड़ रुपए मंगवाकर पूर्ति करना पड़ी।

कारण क्या... किसान, शादियां और ब्लैकमनी

आरबीआई ने 2-2 हजार के नोट सभी जगह भिजवाए। 6-7 माह से 2 हजार के नोट मार्केट में दिखाई नहीं देते। जिन लोगों के पास 1 हजार और 500 के नोट थे उन्होंने एक्सचेंज कर 2 हजार के नोट रख लिए। यानी ब्लैकमनी वाले। इस कारण 2 हजार के नोट की कमी हो गई। किसानों की उपज बिकने के साथ ही शादियों का सीजन होने से भी कैश की डिमांड बढ़ी। रिजर्व बैंक से भी मांग के अनुरूप 2 हजार का नोट नहीं मिल पा रहा है।

शुजालपुर से मंगाना पड़े 7 करोड़ रुपए

सीएम ने स्वीकारा तो लोगों में बढ़ा डर, इसलिए और बढ़ी संख्या

कैश की कमी को 16 अप्रैल को शाजापुर आए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी स्वीकार कर चुके हैं। इसका आरोप उन्होंने खुले मंच से कांग्रेस पर लगाया है। हालांकि इससे लोगों में डर फैल गया। कैश किल्लत और बढ़ने की आशंका को देखते हुए लोगों की संख्या एटीएम पर और बढ़ गई।

बैंक के दो जवाब

स्टॉक है बड़ी शाखाओं से मंगवाकर पूर्ति कर लेंगे

एसबीआई मगरिया शाखा के वरिष्ठ अधिकारी प्रदीप तिवारी ने बताया एसबीआई के पास पहले से काफी कैश स्टॉक में है। बड़ी ब्रांचों में ही काफी नोट है। सभी शाखाएं मांग के अनुरूप एक-दूसरी शाखा से कैश मंगवाकर पूर्ति कर रहे हैं। एटीएम पर भी अचानक लोड बढ़ गया है। इस कारण यहां की खपत भी दोगुना हो गई है। इसी के चलते बुधवार को सुबह जल्दी एटीएम में कैश डालने का काम शुरू करा दिया जाएगा। नोट खत्म होने के बाद दूसरी और तीसरी बार भी नोट डालने की व्यवस्था करेंगे।

रिजर्व बैंक को सूचना दी है

अग्रणी बैंक (बीओआई) के प्रबंधक अरुण कुमार गुप्ता की मानें रिजर्व बैंक को भी सूचित कर दिया है। मंगलवार को शहर के तीन एटीएम में से एक ही में मशीन में कैश डाल सके। आरबीआई से पर्याप्त कैश नहीं मिल पा रहा है। संभवत: जल्द ही कैश किल्लत सुधर जाएगी।

1 आरोप कांग्रेस का

जिसकी सरकार वे भी दबा रहे रुपए

कैश किल्लत पैदा करने के सीएम के बयान पर मंगलवार को पूर्व सांसद और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सज्जनसिंह वर्मा ने कहा प्रदेश में वर्षों से भाजपा की सरकार है। नोट भी वे ही कमाने में लगे हैं। साधना सिंह के नाम नोट गिनने की तीन मशीनें हैं। बावजूद वे कैश की किल्लत का आरोप कांग्रेस पर लगा रहे हैं। रही बात हिंसा फैलाने की तो यह काम शुरू से ही भाजपा करती आ रही है। पहले हिंदू-मुस्लिमों के बीच दंगे कराए। अब दलितों और सवर्णों के बीच। चुनाव में फायदा उठाने के लिए भाजपा ने एस-एसटी एक्ट का फैसला कराया, लेकिन वे मंसूबों में कामयाब नहीं होंगे।

X
नोटबंदी जैसे हाल...जरूरत 2 करोड़ रोज एटीएम में 80 लाख, तीन घंटे में वो भी खाली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..