--Advertisement--

कलगी-तुर्रा में निकले विजय निशान, स्वांग गायन हुआ

होली की दूज पर नगर में देर रात तक कलगी-तुर्रा का उत्साह और उल्लास दिखाई दिया। सिरोंज के विद्वानों की काशी के...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:40 AM IST
होली की दूज पर नगर में देर रात तक कलगी-तुर्रा का उत्साह और उल्लास दिखाई दिया। सिरोंज के विद्वानों की काशी के विद्वानों पर जीत के स्मरण स्वरूप नगर में विजयी निशान निकाले गए। देर रात तक नगर में ख्याल गायन का दौर चलता रहा। इस अवसर पर भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात किया गया था।

मध्य काल में सिरोंज के विद्वानों ने शास्त्रार्थ में काशी के विद्वानों को पराजित किया था। फलस्वरूप काशी के विद्वानों को अपने विजयी निशान तथा वाद्य यंत्र सिरोंज में ही छोड़ कर जाना पड़ा था। इस जीत के स्मरण स्वरूप नगर में हर साल होली की दूज पर आयोजित कलगी-तुर्रा पर्व पर विजयी निशान निकाले जाते हैं। शनिवार को शाम सात बजे करीब सबसे पहले गणेश की अथाई, रावजी पथ तथा पंचकुईया क्षेत्र से विजयी निशान मुख्य बाजार में आए। गणेश की अथाई के निशान के साथ पंडित नलिनी कांत शर्मा के साथ ही उनके अनुज पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा तथा पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष उमाकांत शर्मा थे। रावजी पथ से निकले तिवारी परिवार के निशान के साथ एडवोकेट राहुल शर्मा तथा ओम त्यागी, पंचकुईया स्थित शुक्ल परिवार के निशान के साथ राजकुमार माथुर परिवार के सदस्य शामिल थे।