सिरोंज

--Advertisement--

बंदूक से फायर कर किया होलिका दहन

नगर में मुख्य होली दहन के लिए अग्नि बंदूक से फायर का प्रज्ज्वलित कर की गई। अग्नि प्रज्ज्वलित करने का दायित्व भी...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 05:40 AM IST
नगर में मुख्य होली दहन के लिए अग्नि बंदूक से फायर का प्रज्ज्वलित कर की गई। अग्नि प्रज्ज्वलित करने का दायित्व भी पंचकुईया इलाके में रहने वाले माथुर परिवार ने निभाया। नवाबी दौर से चली आ रही इस परम्परा का निर्वहन गुरुवार को होलिका दहन के दौरान किया गया। इसी होली की अग्नि से नगर के अन्य इलाकों में होलिका दहन हुआ।

नगर में पंचकुईया इलाके में हनुमान मंदिर घाट पर मुख्य होली का दहन गुरुवार को शाम सात बजे हुआ। पंडित नलिनीकांत शर्मा द्वारा होली के पूजन के उपरांत पंचकुईया इलाके में रहने वाले माथुर परिवार के सदस्य महेश माथुर ने होली के दहन के लिए भरमार बंदूक से फायर घास पर फायर किया और अग्नि प्रज्ज्वलित हुई। इसी होली की अग्नि से होलिका का दहन हुआ। इस दौरान पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के साथ ही नगर के गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे। इसके बाद मुख्य होली की अग्नि से ही नगर के अनेक मंदिरों की होली प्रज्ज्वलित हुई। बड़ी संख्या में लोगों ने मुख्य होली और मंदिरों की होली की अग्नि से अपने-अपने घरों में मलरियां की होली का दहन किया। यह क्रम रात साढ़े आठ बजे तक चलता रहा। मुख्य होली दहन के लिए अग्नि प्रज्ज्वलित करने का अधिकार नवाबी शासनकाल के दौरान माथुर परिवार को मिला था। उस समय नगर दो हिस्सों में विभाजित था। एक हिस्सा मुन्नू भैया कानूनगो के पास था तो दूसरे हिस्से के कानूनगो प्रताप राय थे। मुन्नू भैया कानूनगो ने प्रेमनारायण माथुर परिवार को होली की आग प्रज्वलित करने का अधिकार दिया था। इसी परम्परा को माथुर परिवार आज भी निभा रहा।

Click to listen..