सिरोंज

--Advertisement--

नाना-नानी के घर चले गए तमाम बच्चे

नाना-नानी के घर चले गए तमाम बच्चे कुछ शालाओं में शिक्षक जॉय फुल लर्निंग पैटर्न पर काफी उत्साह से कार्य कर रहे...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 04:55 AM IST
नाना-नानी के घर चले गए तमाम बच्चे

कुछ शालाओं में शिक्षक जॉय फुल लर्निंग पैटर्न पर काफी उत्साह से कार्य कर रहे हैं लेकिन अधिकतर स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति शिक्षक - शिक्षिकाओं के प्रयासों के बाद भी अत्यंत कम बनी हुई है। शिक्षक इस नए पैटर्न पर काम नहीं कर पा रहे हैं। परीक्षा के बाद बिना किसी गेप के तत्काल ही 2 अप्रैल से स्कूल खुल जाने के कारण अधिकांश स्कूलों में छात्रों की कम उपस्थिति शिक्षकों के जी का जंजाल बनी हुई है। ग्रीष्मकाल में विद्यालयों में अवकाश के चलते अधिकतर बच्चे अपने नाना - नानी, दादा - दादी के घर मस्ती करने निकल गए हैं। तमाम बच्चे इन दिनों महुआ, गुल्ली, अचार की चिरोंजी आदि वनोपजों को बीनने सुबह से ही निकल जाते हैं। इससे उपस्थिति अत्यंत कम मिल रही है। भास्कर टीम ने लटेरी तथा लटेरी से सटे सिरोंज , शमशाबाद ब्लाक के 34 गांवों में जाकर वहां की वास्तविक स्थिति का जायजा लिया तो विद्यालयों में उपस्थिति दर्ज संख्या के हिसाब से मात्र 8 से 10 प्रतिशत ही मिली। पालक मांगीलाल भील, मिश्रीलाल भील, श्यामलाल भील, रोडजी भिलाला, हरिराम अहिरवार, संतोष नामदेव, विनोद वंशकार, जगदीश बंजारा आदि ने बताया उनके घरों के बच्चे शादी में शामिल होने गए हैं।

X
Click to listen..