Hindi News »Madhya Pradesh »Sonkutch» अनदेखी : कालीसिंध नदी से हो रही पानी की चोरी, तेजी से घट रहा जलस्तर

अनदेखी : कालीसिंध नदी से हो रही पानी की चोरी, तेजी से घट रहा जलस्तर

नगर में एकमात्र पेयजल स्त्रोत कालिसिंध नदी है। नगरवासियों को पूरे साल पर्याप्त जल उपलब्ध कराने के लिए शासन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 04:10 AM IST

नगर में एकमात्र पेयजल स्त्रोत कालिसिंध नदी है। नगरवासियों को पूरे साल पर्याप्त जल उपलब्ध कराने के लिए शासन द्वारा समय-समय पर नदी के पानी को नाकिया (पाला बांधना) लगाकर रोका जाता है। मगर नदी के आसपास रहने वाले कुछ किसान मोटरें लगाकर फसलों के लिए पानी की चोरी कर रहे हैं। पिपलेश्वर घाट से लेकर कोटेश्वर मंदिर(ग्राम कोटड़ा) के आगे तक नदी के किनारों पर करीब एक दर्जन से अधिक मोटरें लगी हैं। जिससे कारण फरवरी माह में ही नदी का जलस्तर घटने लगा है। मात्र दो माह में डेम से पानी काफी कम हो गया है।

पिछले साल ग्रीष्म ऋतु में पानी चोरी होने से नगर में पेयजल संकट गहराया गया था। नप 8 दिन में एक बार जल वितरण कर रही थी। इस संबंध भास्कर में नवंबर माह में मामला प्राथमिकता से उठाया था। तब नप ने 5 सदस्यीय दल गठित कर पानी की सुरक्षा व्यवस्था कर दी थी। इसके बाद ध्यान नहीं दिया। प्रशासन व विभाग की लापरवाही का खामियाजा गर्मी के दिनों में आमजन भुगतेंगे। गत वर्ष भी अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा नगरवासियों को चार माह तक चुकाना पड़ा था। जिसके चलते नप को पेयजल के लिए 21 लाख रु. खर्च करना पड़े थे। जलकार्य विभाग प्रभारी नरेन्द्र गुप्ता ने बताया नप ने पानी चोरी रोकने के लिए 4 प्रभारी व 3 सहयोगी दल का मय वाहनों के साथ गठन किया था। शुरुआती दौर में इन्होंने कार्य किया बाद में ये स्वयं ही पानी चोरी कराने लग गए हैं। मुझे भी कई स्थानों से सूचना प्राप्त हुई है कि ये लोग पानी चोरी कर रहे किसानों से अनाज व अन्य सामग्री ले रहे हैं। मामले को लेकर अध्यक्ष व सीएमओ से चर्चा करूंगा।

मामला दिखवा रहे हैं

इस संबंध में एसडीएम नीरज खरे ने कहा कालीसिंध से पानी चोरी का मामला दिखवा रहे हैं। इसके लिए नप ने दल गठित किया है।

सोनकच्छ. इस तरह मोटर डालकर नदी से पानी की चोरी की जा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sonkutch

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×