--Advertisement--

सोनकच्छ में 111 विद्यार्थी अनुपस्थित, नहीं बना नकल प्रकरण

सोनकच्छ | माशिमं भोपाल के निर्देशानुसार प्रदेशभर में गुरुवार को कक्षा 12वीं की परीक्षा निर्धारित समय पर शुरू हुई।...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 05:45 AM IST
सोनकच्छ | माशिमं भोपाल के निर्देशानुसार प्रदेशभर में गुरुवार को कक्षा 12वीं की परीक्षा निर्धारित समय पर शुरू हुई। ब्लॉक में 10 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। शांतिपूर्ण तरीके से परीक्षा संपन्न हुई। पहले दिन कोई भी नकल प्रकरण नहीं बना। 12वीं में 2743 विद्यार्थियों में से 2632 विद्यार्थियों ने परीक्षा में भाग लिया। 111 विद्यार्थी अनुपस्थित रहें। शाबाउमावि सोनकच्छ में 659 में से 589, पीपलरावां में 98 में से 97, भौरासा में 110, गन्धर्वपुरी में 177 में से 176, कन्या उ. मा. वि सोनकच्छ में 354 में से 352, पीपलरावां में 329 में से 328, शा. हा स्कूल पिपलियाबक्सु में 16, बिसाखेड़ी में 245 में से 240, संत अन्थोनी कॉन्वेंट हाई स्कूल में 263 में से 262 व एडवांस एकेडमी में 492 में से 462 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया। बीईओ राजश्री काले, बीआरसी सज्जनसिंह मालवीय, हरिसिंह सिसोदिया आदि ने परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया।

सोनकच्छ। कक्षा 12वीं की परीक्षा देते विद्यार्थी।

शांतिपूर्ण हुआ हिंदी का पेपर

कुसमानिया| 12 वीं बोर्ड का हिंदी विषय का पेपर 1 मार्च को शांति पूर्वक संपन्न हो हुआ। केंद्राध्यक्ष दिनेशचंद्र पंचोली व सहायक केंद्राध्यक्ष विनायक नागले ने बताया कि कुसमानिया में 12वीं में 85 छात्र दर्ज हैं, जिसमें 1 छात्र अनुपस्थित रहा। बीईओ गुरुदत्त शर्मा ने केंद्र का निरीक्षण किया। छात्रों को बैठने के लिए पर्याप्त फर्नीचर व पीने के पानी का भी उचित प्रबंध किया गया।

अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्र पर लचर सुरक्षा

सोनकच्छ उत्कृष्ट विद्यालय जो कि अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्र की सूची में दर्ज है। यहां सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस का ढीला रवैया रहा। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर केंद्राध्यक्ष का फोन किसी भी पुलिसकर्मी ने फोन नहीं उठाया। परीक्षा शुरू होने से मात्र 5 मिनट पहले पुलिस के जवान केंद्र पर पहुंचे। सोनकच्छ शासकीय कन्या स्कूल को केंद्र बनाया है, जिसका प्रवेश पत्र में नाम पांचूबाई बिरमाजी जाट विद्यालय लिखा हुआ है। उक्त विद्यालय पर किसी भी प्रकार का होर्डिंग फ्लेक्स व नाम पर अंकित नहीं होने से विद्यार्थी परेशान होते रहे।