Hindi News »Madhya Pradesh »Timarni» जिले भर के 153 संविदा स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर, व्यवस्था बिगड़ी, हनुमानजी को दिया ज्ञापन

जिले भर के 153 संविदा स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर, व्यवस्था बिगड़ी, हनुमानजी को दिया ज्ञापन

नियमितिकरण और पूर्व में किन्हीं कारणों से निष्कासित किए जा चुके संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की बहाली की मांग...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 20, 2018, 05:25 AM IST

नियमितिकरण और पूर्व में किन्हीं कारणों से निष्कासित किए जा चुके संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की बहाली की मांग काे लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। जिला अस्पताल और सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में कई सेवाएं ठप हो गईं। संघ ने सोमवार को हनुमानजी को ज्ञापन दिया। मंगलवार को काले कपड़े पहनकर काला दिवस मनाने का एेलान किया।

अस्पताल में टीबी, कुष्ठ की नहीं हुई जांच

अस्पताल में टीबी की आशंका के चलते गांव से आए डीके राजपूत ने बताया खंखार की जांच के लिए आए थे, लेकिन ताला लगा होने के कारण वापस लौटना पड़ा। इतनी दूर से यहां आना बेकार हो गया। टेमरूबहार के लड्डू नामक युवक के शरीर का कुछ भाग सुन्न पड़ गया था। वह जांच कराने आया था। लेकिन कुष्ठ की जांच नहीं हो सकी। इसी प्रकार लैब में रोजाना होने वाली जांच सेवा भी प्रभावित हुई। एड्स की जांच भी नहीं हुई।

हरदा। मंदिर में हनुमान जी को ज्ञापन सौंपते कर्मचारी।

जहां 20 का स्टाफ था, वहां सिर्फ 2 ने दी सेवाएं

एसएनसीयू में रोजाना 20 नर्सों का स्टाफ रहता है। हड़ताल के बीच सिर्फ दो नर्सों की मदद से व्यवस्था संचालित की गई। संविदा पर पदस्थ डॉक्टर भी हड़ताल में शामिल रहे। सीएमएचओ कार्यालय का ज्यादातर स्टाफ संविदा पर है। इस कारण यहां जननी सुरक्षा के चेक नहीं बन सके। किसी भी योजना के हितग्राही का भुगतान नहीं हो सका। हालांकि सोनोग्राफी और एक्सरे व प्रसूति सेवाएं प्रभावित नहीं हुईं। जिले के 62 स्वास्थ्य केंद्रों पर करीब दो लाख की आबादी निर्भर है।

नहीं बदलाईं चादरें महिलाओं ने बदली

जिले में हरदा, रहटगांव, खिरकिया व टिमरनी में पोषण पुनर्वास केंद्र है। जहां कुपोषित बच्चों को रखा जाता है। चारों का संचालन संविदा कर्मियों के भरोसे है। हड़ताल के पहले ही दिन स्थिति बिगड़ गई। केंद्रों पर भर्ती बच्चों को देखने कोई नहीं आया। पलंग की चादरें भी खुद महिलाओं ने ही बदलीं।

आज मनाएंगे काला दिवस

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के अध्यक्ष केके राजोरिया ने बताया सरकार को सदबुद्धि देने साेमवार को मंदिर में ज्ञापन दिया। मंगलवार को संविदा कर्मी काले कपड़े पहनकर, काले झंडे लेकर काला दिवस मनाएंगे। मांग पूरी नहीं होने तक हड़ताल जारी रहेगी। हड़ताल से एनआरसी, एसएनसीयू, क्षय रोग, एड्स कंट्रोल, अंधत्व निवारण, टीकाकरण, आईडीएसपी , मलेरिया, दवा वितरण विभाग की सेवाएं प्रभावित हुईं।

हड़ताल का खास असर नहीं पड़ा

परिजनों ने धकेले स्ट्रेचर

संविदाकर्मी हड़ताल पर रहे लेकिन काेई खास असर नहीं पड़ा। सभी सेवाएं सुचारू रहीं। संविदा पर केवल एक ही डॉक्टर है। बाकी स्टॉफ अस्पताल के ही दूसरी विंग का है। डॉ. श्रीकांत सेंगर, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल हरदा

गंभीर रूप से बीमार और घायल जब अस्पताल पहुंचे तो उनके परिवार के लोगों को ही स्ट्रेचर को धकेलकर ड्रेसिंग रूम व इंजेक्शन रूम तथा लैब तक ले जाना पड़ा। सुरक्षा गार्डों व एंबुलेंस 108 के स्टाफ ने मानवता के नाते इसमें मदद की। इधर दवा वितरण केंद्रों पर भी लोगों की लंबी कतार लगी रहीं। फार्मासिस्ट भी संविदा कर्मी थे। यहां दूसरे स्टाफ से वैकल्पिक इंतजाम कराए गए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Timarni

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×