• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Timarni News
  • स्वच्छता टीम आई, सर्वे करके चली गई कांग्रेस पार्षदों को भनक तक नहीं लगी
--Advertisement--

स्वच्छता टीम आई, सर्वे करके चली गई कांग्रेस पार्षदों को भनक तक नहीं लगी

स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता टीम द्वारा किए गए सर्वे को लेकर कांग्रेस पार्षदों ने नगर परिषद के खिलाफ मोर्चा...

Danik Bhaskar | Feb 20, 2018, 05:25 AM IST
स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता टीम द्वारा किए गए सर्वे को लेकर कांग्रेस पार्षदों ने नगर परिषद के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस पार्षदों को स्वच्छता टीम के आने की भनक तक नहीं लगी। इसके बाद पार्षदों ने आरोप लगाया स्वच्छता टीम के सदस्यों ने किसी होटल में बैठकर सर्वे कार्य किया। वह धरातल पर आई ही नहीं। वार्डों की स्थिति देखी नहीं। इसके विरोध में सोमवार को एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

सनगर परिषद द्वारा शहर में की गई सफाई और लोगों की जागरूकता को परखने के लिए स्वच्छता टीम दिल्ली से आई, लेकिन टीम के आने की भनक कांग्रेस पार्षदों को नहीं लगी। इससे वे आक्रोशित हो गए। उन्होंने सोमवार को एसडीएम पीके पांडे को ज्ञापन सौंपा। पार्षद शहजाद खान ने कहा स्वच्छता सर्वेक्षण करने आई टीम ने होटल से ही सर्वे किया है। वार्डों में अगर घूमती और रहवासियों से चर्चा करती तो उन्हें सही स्थिति पता चलता। यह सारा खेल नगर परिषद की मिलीभगत से किया गया है। ज्ञापन पार्षद खान, जितेंद्र जसपाल, दीपक शर्मा ने एसडीएम को सौंपकर लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

टिमरनी। एसडीएम को ज्ञापन सौंपते कांग्रेस पार्षद।

परिषद ने फ्लेक्स लगवाए

पार्षद जितेंद्र जसपाल ने आरोप लगाया नगर परिषद ने सरकारी धन का जमकर दुरुपयोग किया है। उसने जमीन पर कार्य करने के बजाए सिर्फ नगर में फ्लेक्स लगवाए हैं। वार्डों में सफाई नहीं की है। नगर के बाहरी वार्डों की स्थिति अब भी निराशाजनक है। वहां नालियां की न तो सफाई हो रही है और न ही कचरा साफ किया जा रहा है। इसे लेकर रहवासियों में भी आक्रोश है। लाखों रुपए खर्च कर अनियमितता की जा रही है।

दिल्ली से आई स्वच्छता की टीम ने किया सर्वे

पार्षदों की अनदेखी की

कांग्रेस पार्षदों ने आरोप लगाया स्वच्छता अभियान जनता के साथ छलावा है। अभियान में पार्षदों की अनदेखी की जा रही है। उन्हें टीम के आने की कोई जानकारी ही नहीं लगी है। अध्यक्ष व सीएमओ ने टीम को होटल में ठहराकर सर्वे करवा दिया। टीम के आने की जानकारी परिषद के सदस्यों तक को नहीं लगी। परिषद के जिम्मेदारों ने अपनी पसंद के अनुसार गलत तथ्यों के आधार पर सर्वेक्षण कराया है। सर्वेक्षण टीम से गुपचुप तरीके से सर्वे कराना स्वच्छ भारत पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है।

खिरकिया| स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत सोमवार को दिल्ली से टीम खिरकिया पहुंची। टीम के दो सदस्यों द्वारा नगर के वार्ड 4 और 6 में पहुंचकर आमजनों से फीडबैक लिया गया। टीम दो दिन तक शहर में रहकर साफ-सफाई व्यवस्था का जायजा लेगी। इसके बाद नगर परिषद की रेटिंग की जाएगी। अन्य मापदंड के तहत रिकार्ड्स का निरीक्षण भी किया जा रहा है।